For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

""ग़ज़ल कुम्भ २०१६ आयोजित
--------------------------------------------------

अंजुमन फ़रोग़-ए-उर्दू के तत्वावधान में वरिष्ठ ग़ज़लकार श्री दीक्षित दनकौरी की अगुआई में 09 जनवरी 2016 को अखिल भारतीय ग़ज़ल गोष्ठी 'ग़ज़ल-कुम्भ' का सफल एवं यादगार आयोजन, ईस्ट एण्ड क्लब, शाहदरा, दिल्ली मे किया गया ।
राष्ट्रीय स्तर आयोजित 'ग़ज़ल-कुम्भ' 9 जनवरी 2016 को दोपहर 2 बजे से आरम्भ होकर,
10 जनवरी 2016 को सुबह 7 बजे तक चला | इसमें ग़ज़लों की अनवरत धारा बहती रही और उपस्थित ग़ज़लगो इसमें सराबोर होते रहे | ग़ज़ल कुम्भ में देश के विभिन्न हिस्सों से आये करीब दो सौ शायरों और शायरात ने अपनी उपस्थिति दर्ज़ कराई ।
प्रति वर्ष आयोजित होने वाले चर्चित ग़ज़ल कुम्भ में इस वर्ष दो सत्र हुए ग़ज़ल-कुम्भ के प्रथम सत्र की अध्यक्षता, वरिष्ठ एवं प्रसिद्ध शायर, श्री सीमाब सुलतानपुरी ने की । बदायूँ से पधारे बुज़ुर्ग शायर श्री फ़हमी बदायूँनी इस सत्र के मुख्य अतिथि थे | चर्चित समकालीन शायर श्री कृष्ण कुमार नाज़ के संचालन मे ग़ज़ल-कुम्भ का प्रथम सत्र, दोपहर 2 बजे से आरम्भ होकर शाम 7 बजे तक चला । रात साढ़े आठ बजे ग़ज़ल-कुम्भ का दूसरा सत्र आरम्भ हुआ । वरिष्ठ कवि पदमभूषण श्री गोपालदास नीरज के सान्निध्य, और अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त वरिष्ठ शायर पदमश्री जनाब बेकल उत्साही की अध्यक्षता मे सम्पन्न हुए इस द्वितीय-सत्र का अत्यन्त कुशल संचालन प्रख्यात ग़ज़लकार श्री दीक्षित दनकौरी ने किया । इस अवसर पर नेपाल के प्रसिद्ध कवि श्री बसन्त कुमार चौधरी के काव्य-संग्रह 'आँसुओं की सियाही से' का लोकार्पण भी हुआ नेपाली कवि श्री बसंत चौधरी का यह पहला हिंदी काव्य संग्रह है | इसके उपरान्त ग़ज़ल-कुम्भ के द्वितीय-सत्र का रात 9 बजे से आरम्भ हुआ | ग़ज़ल पाठ का क्रम सुबह 7 बजे तक चलता रहा | ग़ज़ल कुम्भ में उपस्थित शायरों व शायरात में लक्ष्मी शंकर बाजपेयी , अशोक अंजुम , नीना शहर , मधु गुप्ता , नीलम मेंदिरात्ता , गीतिका वेदिका ,सन्दीप शजर, सन्तोष सिंह, ब्रजेश तरुवर, राशिद गुनावी ,जितेन्द्र राजपुरोहित, अभिनव अरुण , गोविन्द गुलशन ,मधुप मोहता , पुष्पेन्द्र पुष्प ,वैद्यनाथ सारथी , अनुराग गैर , राजेन्द्र कलकल ,चांदनी पाण्डेय , चाँद मुहम्मद आखिर ,तालिब तूफानी और मुनीश तनहा के नाम उल्लेखनीय हैं ।

- अभिनव अरुण , बनारस (उ.प्र.) |

Views: 71

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Abhinav Arun on February 11, 2016 at 1:52pm

जिस मंच पर ग़ज़ल कहने की शुरुआत की , जहां सीखा , उसे ही समर्पित !! आभार ओ बी ओ !!

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

anjali gupta replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"बहुत आभार आदरणीय अजय गुप्ता जी"
2 hours ago
anjali gupta replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"बहुत शुक्रिया आदरणीय निलेश जी। आगे सारी टिप्पणियाँ पढ़ी। यही कहना चाहूंगी कि जिस प्रकार आप लोग…"
2 hours ago
anjali gupta replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"हौसला अफ़ज़ाई के लिए आपका बहुत शुक्रिया आदरणीय निलेश जी।"
2 hours ago
anjali gupta replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"ग़ज़ल पर समय देने के लिए और हौसला अफ़ज़ाई के लिए  आपका दिली शुक्रिया दिनेश जी"
2 hours ago
Tasdiq Ahmed Khan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"जनाब दिनेश साहिब   , अच्छी ग़ज़ल हुई है मुबारकबाद क़ुबुल फरमाएं |जनाब समर साहिब के मशवरे…"
3 hours ago
Tasdiq Ahmed Khan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"मुहतरमा मंजीत साहिबा, ग़ज़ल का अच्छा प्रयास हुआ है, मुबारकबाद क़ुबुल फरमाएं | जनाब समर साहिब के…"
3 hours ago
Tasdiq Ahmed Khan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"मेरे खयाल में शतुरगुरबा नहीं है | जनाब समर साहिब की बात सही है | मिसरे में उनके फ़साने समझने की बात…"
3 hours ago
Tasdiq Ahmed Khan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"मुहतरम जनाब आरिफ साहिब आदाब, ग़ज़ल पर आपकी सुंदर प्रतिक्रिया और हौसला अफज़ाई का बहुत बहुत शुक्रिया |"
3 hours ago
Mohan Begowal replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"      प्यार मिलने को है जाना तो बहाना देखो बन न जाये कहीं  झूठा ये तमाशा …"
3 hours ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"'तुम' के साथ क्या परेशानी है,बात तो "आप" की वजह से है, आप तो ये बताएं कि मैंने…"
4 hours ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"जनाब दिनेश कुमार जी आदाब,अच्छी ग़ज़ल हुई है, दाद के साथ मुबारकबाद पेश करता हूँ । 'फ़ानी दुनिया…"
4 hours ago
अजय गुप्ता replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"वाह। इस संकलन की सबसे आला ग़ज़लों में से एक। एक से बढ़कर एक शेर"
4 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service