For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

surender insan's Discussions (216)

Discussions Replied To (192) Replies Latest Activity

"भाई अजय जी बहुत बढ़िया ग़ज़ल के लिए बहुत बहुत बधाई हो जी।"

surender insan replied Jan 27 to "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-91

272 Jan 27
Reply by surender insan

"बस यही रुका था ।  बहुत बहुत बधाई हो बेहतरीन रचना जी। सादर नमन जी "

surender insan replied Jan 13 to "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-87

411 Jan 13
Reply by मिथिलेश वामनकर

"वाह वाह वाह। बहुत उम्दा ग़ज़ल हुई है आदरणीय दिली मुबारक़बाद कबूल करे जी। सादर नमन जी।"

surender insan replied Oct 28, 2017 to "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-88

499 Oct 28, 2017
Reply by surender insan

"बहुत बढ़िया ग़ज़ल दिनेश भाई ।बधाई स्वीकार करे जी।"

surender insan replied Oct 28, 2017 to "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-88

499 Oct 28, 2017
Reply by surender insan

"मैं अपने हिस्से की उसको सारी ख़ुशियाँ दे दूँगा यार कभी अपना ग़म लेकर मेरे दर पर आए तो…"

surender insan replied Oct 28, 2017 to "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-88

499 Oct 28, 2017
Reply by surender insan

"बहुत बहुत आभार आपका आदरणीय।"

surender insan replied Oct 28, 2017 to "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-88

499 Oct 28, 2017
Reply by surender insan

"आदरणीय दिलबाग जी सादर नमन जी। ग़ज़ल का बहुत अच्छा प्रयास हुआ है जी। पागल आवारा ठहरा,…"

surender insan replied Oct 28, 2017 to "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-88

499 Oct 28, 2017
Reply by surender insan

"वो ख़्वाबों में ही आए पर मुझसे मिलने आए तो। कैसे भी किसी सूरत मुझसे अपना प्यार जताए त…"

surender insan replied Oct 28, 2017 to "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-88

499 Oct 28, 2017
Reply by surender insan

"आदरणीय नीलेश जी सादर नमन जी। बहुत अच्छी ग़ज़ल हुई है जी बधाई स्वीकार करे जी। ग़ज़ल पर सब…"

surender insan replied Oct 28, 2017 to "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-88

499 Oct 28, 2017
Reply by surender insan

"जनाब नादिर साहिब आदाब,ग़ज़ल का प्रयास बहुत अच्छा ह्आ है,इसके लिए बधाई स्वीकार करें जी।…"

surender insan replied Oct 28, 2017 to "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-88

499 Oct 28, 2017
Reply by surender insan

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

रामबली गुप्ता commented on SHARAD SINGH "VINOD"'s blog post 'मधुर' जी की मधुर स्मृति .......
"आदरणीय शरद सिंह जी रचना पर प्रयास के लिए हार्दिक बधाई स्वीकार करें। बताना चाहूँगा कि आपकी रचना में…"
22 minutes ago

सदस्य कार्यकारिणी
शिज्जु "शकूर" posted a blog post

इसी दुनिया में अपनी मुख़्तसर दुनिया बनाता हूँ

1222 1222 1222 1222ज़मीन-ओ-आसमाँ के दरमियाँ रस्ता बनाता हूँइसी दुनिया में अपनी मुख़्तसर दुनिया बनाता…See More
34 minutes ago
KALPANA BHATT ('रौनक़') commented on KALPANA BHATT ('रौनक़')'s blog post अंगुलिमाल(लघुकथा)
"आदरणीय मोहम्मद आरिफ साहब नमस्ते                 …"
43 minutes ago
Mohammed Arif commented on Tasdiq Ahmed Khan's blog post ग़ज़ल (जो अज़मे तर्के उल्फ़त कर रहा है )
"आदरणीय तस्दीक़ अहमद जी आदाब,                    …"
1 hour ago
Mohammed Arif commented on KALPANA BHATT ('रौनक़')'s blog post अंगुलिमाल(लघुकथा)
"आदरणीया कल्पना भट्ट जी आदाब,                    …"
1 hour ago
Tasdiq Ahmed Khan posted a blog post

ग़ज़ल (जो अज़मे तर्के उल्फ़त कर रहा है )

(मफाईलुन-मफाईलुन-फऊलन )जो अज़मे तर्के उल्फ़त कर रहा है| ये दिल फिर उसकी हसरत कर रहा है |लगाए ज़ख़्म…See More
2 hours ago
Mohammed Arif commented on Mohammed Arif's blog post कविता--फागुन
"बहुत-बहुत आभार आदरणीय बृजेश कुमार जी ।"
3 hours ago
Mohammed Arif commented on Mohammed Arif's blog post कविता--फागुन
"बहुत-बहुत शुक्रिया आली जनाब मोहतरम समर कबीर साहब । संशोधन कर लिया है ।"
3 hours ago
Mohammed Arif commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की -खेल सारे, हर तमाशा छोड़ कर
"खेल सारे, हर तमाशा छोड़ करसब को जाना है ये मेला छोड़ कर वाह! वाह!!  बहुत ख़ूब ! बहुत ख़ूब! …"
3 hours ago
पीयूष कुमार द्विवेदी posted blog posts
4 hours ago
KALPANA BHATT ('रौनक़') posted a blog post

अंगुलिमाल(लघुकथा)

शिकार की तलाश में घूमते-घूमते अंगुलिमाल को एक साधु दिखा| उनको देखकर उसने कहा," तैयार हो जाओ…See More
4 hours ago
Nilesh Shevgaonkar posted a blog post

ग़ज़ल नूर की -खेल सारे, हर तमाशा छोड़ कर

२१२२/२१२२/२१२ . खेल सारे, हर तमाशा छोड़ कर सब को जाना है ये मेला छोड़ कर.  . एक क़िस्सा-गो अचानक मर…See More
4 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service