For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

surender insan
Share

Surender insan's Friends

  • पंकजोम " प्रेम "
  • Sheikh Shahzad Usmani
  • Samar kabeer
  • योगराज प्रभाकर
 

surender insan's Page

Latest Activity

surender insan posted a blog post

ग़ज़ल " जिंदगी से जी भर गया कब का "

2122 1212 22ज़िन्दगी,जी तो भर गया कब का।टूट कर मैं बिखर गया कब का ।।***इक मुहब्बत का था नशा मुझको।वो नशा भी उतर गया कब का।।***चाहता था तुझे दिल-ओ-जां से।वक़्त वो तो गुज़र गया कब का।।***देख हालत नशे के मारों की।ख़ुद-ब-ख़ुद वो सुधर गया कब का।।***देख कर छल फ़रेब दुनिया के।एक "इंसान" मर गया कब का।।मौलिक व अप्रकाशितSee More
Sunday
surender insan commented on surender insan's blog post ग़ज़ल " जिंदगी से जी भर गया कब का "
"जी आदरणीय गुरप्रीत जी बेहद शुक्रिया जी। सादर नमन सँग आभार जी।"
Sunday
surender insan commented on surender insan's blog post ग़ज़ल " जिंदगी से जी भर गया कब का "
"आदरणीय नीरज जी बेहद शुक्रिया जी आपका। जी सही कहा जी आदरणीय समर साहब की सलाह हमेशा उम्दा होती है जी। सादर जी।"
Sunday
surender insan commented on surender insan's blog post ग़ज़ल " जिंदगी से जी भर गया कब का "
"जी बेहद शुक्रिया आद. ब्रजेश कुमार जी। सादर नमन जी।"
Sunday
surender insan commented on surender insan's blog post ग़ज़ल " जिंदगी से जी भर गया कब का "
"जी आदरणीय गिरिराज भंडारी भाई जी बेहद शुक्रिया जी। आदरणीय समर कबीर साहब की सलाह अनुसार मिसरा सही करता हु जी। बहुत बहुत आभार जी।"
Sunday
surender insan commented on surender insan's blog post ग़ज़ल " जिंदगी से जी भर गया कब का "
"जी आदरणीय समर कबीर साहब जी आपके सुझाव के अनुसार मिसरा सही करता हूँ जी। सादर नमन सँग आभार जी आपका।"
Sunday
surender insan commented on surender insan's blog post ग़ज़ल " जिंदगी से जी भर गया कब का "
"जी आदरणीय सुरेन्द्र नाथ जी बेहद शुक्रिया जी आपका। सादर नमन सँग आभार जी।"
Sunday
surender insan commented on surender insan's blog post ग़ज़ल " जिंदगी से जी भर गया कब का "
"जी बेहद शुक्रिया आपका आदरणीय रवि शुक्ला जी। सादार नमन सँग आभार जी। जी।"
Sunday
surender insan commented on surender insan's blog post ग़ज़ल " जिंदगी से जी भर गया कब का "
"जी बेहद शुक्रिया आपका आदरणीय मोहम्मद आरिफ़ साहब जी।सादर नमन सँग आभार जी।"
Sunday
surender insan replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 76 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीय शेख़ शहजाद उस्मानी साहब आदाब।हौसला अफजाई के लिए बहुत बहुत आभार जी ।"
Saturday
surender insan replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 76 in the group चित्र से काव्य तक
"आद राजेश दीदी जी नमस्ते जी। दिए गए चित्र पर आपने बेहद सुंदर सरसी छंद कहे है जी। बहुत बहुत बधाई हो जी।"
Saturday
surender insan replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 76 in the group चित्र से काव्य तक
"जी बेहद शुक्रिया आपका आदरणीया प्रतिभा पांडे जी।सादर नमन सँग आभार जी।"
Saturday
surender insan replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 76 in the group चित्र से काव्य तक
"जी दी बेहद शुक्रिया आपका। सादर नमन सँग आभार दी।"
Saturday
surender insan replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 76 in the group चित्र से काव्य तक
"जी आदरणीय इसी आयोजन से और पिछले आयोजन में आद.समर कबीर साहब जी के सरसी छंद पढ़ कर मैंने भी कोशिश की जी। अभी आपकी छंद मञ्जरी बुक देखी अमेजोन पर है जी मंगऊँगा जी मैं। सादर नमन जी।"
Saturday
Sheikh Shahzad Usmani and surender insan are now friends
Saturday
surender insan replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 76 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीय तस्दीक अहमद जी आदाब। प्रयास आपको पसंद आया इसके लिए बहुत बहुत शुक्रिया जी।"
Saturday

Profile Information

Gender
Male
City State
sirsa (haryana)
Native Place
india
Profession
self work
About me
a simple parson. give respect take respect .always be happy & let others be happy.

Surender insan's Blog

ग़ज़ल " जिंदगी से जी भर गया कब का "

2122 1212 22

ज़िन्दगी,जी तो भर गया कब का।
टूट कर मैं बिखर गया कब का ।।

***
इक मुहब्बत का था नशा मुझको।
वो नशा भी उतर गया कब का।।
***
चाहता था तुझे दिल-ओ-जां से।
वक़्त वो तो गुज़र गया कब का।।

***
देख हालत नशे के मारों की।
ख़ुद-ब-ख़ुद वो सुधर गया कब का।।

***
देख कर छल फ़रेब दुनिया के।
एक "इंसान" मर गया कब का।।

मौलिक व अप्रकाशित

Posted on August 9, 2017 at 5:00pm — 16 Comments

ग़ज़ल "दिखाना ख़्वाब यूँ अच्छा नहीं है"

1222 1222 122

दिखाना ख़्वाब यूँ अच्छा नहीं है।

फ़क़त बातों से कुछ होता नहीं है।।



***

बुरा अंजाम होता है बुरे का।

ख़ुदा से कुछ भी तो छुपता नहीं है।।



***

कई धोख़े मिले हैं जिंदगी में।

किसी पर अब यकीं होता नहीं है।।



***

मुहब्बत में मुझे इक बेवफा ने।

दिया वो जख़्म जो भरता नहीं है।।



***

यकीं कोई न अब उस पर करेगा।

वो अपनी बात पर टिकता नहीं है।।



***

उसे है याद बातें सब पुरानी।

मगर अब गाँव वो… Continue

Posted on August 3, 2017 at 9:54am — 21 Comments

ग़ज़ल

2222 2222 222
दूरी अपने बीच मिटा भी नहीं सकता।
आना चाहूँ तो मैं आ भी नहीं सकता।

मैं तुझ से मिलने को आ भी नहीं सकता।
क्या दिल पे गुजरती है बता भी नहीं सकता।।

बेईमानी से मैं कमा भी नहीं सकता।
भूखा बच्चों को मैं सुला भी नहीं सकता।।

मैं इतना दूर चला आया हूँ उस से।
वो आना चाहे तो आ भी नहीं सकता।

पहले से दुख इतने हैं मेरे अंदर।
और कोई दिल मेरा दुखा भी नहीं सकता।।

मौलिक व अप्रकाशित

Posted on July 25, 2017 at 11:58pm — 7 Comments

ग़ज़ल

22 22 22 2

उसकी रज़ा में रहता हूँ।
मैं दरिया सा बहता हूँ।।

शेर अगर हों आमद के।
ग़ज़ल तभी मैं कहता हूँ।।

कह कर सच्ची बात यहाँ।
तंज़ सभी के सहता हूँ।।

मिट्टी की इस दुनिया में।
मिट्टी जैसे रहता हूँ।।

जैसे को तैसा मिलता।
सच यह सबको कहता हूँ।।


मौलिक व अप्रकाशित

Posted on June 26, 2017 at 12:00am — 6 Comments

Comment Wall (1 comment)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 11:48pm on July 7, 2016,
सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर
said…

आपका अभिनन्दन है.

ग़ज़ल सीखने एवं जानकारी के लिए

 ग़ज़ल की कक्षा 

 ग़ज़ल की बातें 

 

भारतीय छंद विधान से सम्बंधित जानकारी  यहाँ उपलब्ध है

|

|

|

|

|

|

|

|

आप अपनी मौलिक व अप्रकाशित रचनाएँ यहाँ पोस्ट (क्लिक करें) कर सकते है.

और अधिक जानकारी के लिए कृपया नियम अवश्य देखें.

ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतुयहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

 

ओबीओ पर प्रतिमाह आयोजित होने वाले लाइव महोत्सवछंदोत्सवतरही मुशायरा व  लघुकथा गोष्ठी में आप सहभागिता निभाएंगे तो हमें ख़ुशी होगी. इस सन्देश को पढने के लिए आपका धन्यवाद.

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

rashmi tarika commented on Admin's group लघुकथा की कक्षा
"समूह में जोड़ने के लिए हार्दिक आभार"
45 minutes ago
Mohammed Arif commented on Mohammed Arif's blog post लघुकथा--इशारा
"बहुत-बहुत शुक्रिया आदरणीय तस्दीक़ अहमद जी । लेखन साकार हुआ ।"
1 hour ago
Samar kabeer commented on Sushil Sarna's blog post लौट आओ ....
"जनाब सुशील सरना साहिब आदाब,बहुत सुंदर भावुक कविता लिखी आपने,इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें ।"
1 hour ago
Samar kabeer commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post ग़ज़ल...वही बारिश वही बूँदें वही सावन सुहाना है-बृजेश कुमार 'ब्रज'
"जनाब बृजेश कुमार 'ब्रज'साहिब आदाब,उम्दा ग़ज़ल हुई है,दाद के साथ मुबारकबाद पेश करता हूँ…"
1 hour ago
Samar kabeer commented on डॉ.कंवर करतार 'खन्देह्ड़वी''s blog post ग़ज़ल
"भाई,'समीर' नहीं "समर" ।"
1 hour ago
Samar kabeer commented on Dr.Prachi Singh's blog post चलो अब अलविदा कह दें......
"मोहतरमा डॉ.प्राची साहिबा आदाब,बहुत उम्दा रचना हुई है,इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें । कुछ बारीक…"
1 hour ago
डॉ.कंवर करतार 'खन्देह्ड़वी' commented on डॉ.कंवर करतार 'खन्देह्ड़वी''s blog post ग़ज़ल
"जनाब समीर साहब ,आपके उम्दा सुझाव सर माथे पर Iग़ज़ल पर नजर एवं जर्रा नवाजी के लिए तहेदिल से शुक्र…"
1 hour ago
Samar kabeer commented on मंजूषा 'मन''s blog post ग़ज़ल
"मोहतरमा मंजूषा जी आदाब,बहुत उम्दा ग़ज़ल हुई है,दाद के साथ मुबारकबाद पेश करता हूँ । मतले के ऊला मिसरे…"
2 hours ago
Samar kabeer commented on rajesh kumari's blog post हैं वफ़ा के निशान समझो ना (प्रेम को समर्पित एक ग़ज़ल "राज')
"बहुत बहुत शुक्रिया बहना, आप तो जानती हैं,हम ओबीओ के सेवक हैं,जो कुछ भी आता है एक दूसरे से साझा कर…"
2 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
rajesh kumari commented on rajesh kumari's blog post हैं वफ़ा के निशान समझो ना (प्रेम को समर्पित एक ग़ज़ल "राज')
"आद० रविशुक्ल भैया ,आपको ग़ज़ल पसंद आई मेरा लिखना सार्थक हो गया दिल से बहुत बहुत शुक्रिया |"
2 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
rajesh kumari commented on rajesh kumari's blog post हैं वफ़ा के निशान समझो ना (प्रेम को समर्पित एक ग़ज़ल "राज')
"आद० मोहम्मद आरिफ जी, आपको ग़ज़ल पसंद आई मेरा लिखना सार्थक हुआ दिल से बहुत बहुत शुक्रिया |"
2 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
rajesh kumari commented on rajesh kumari's blog post हैं वफ़ा के निशान समझो ना (प्रेम को समर्पित एक ग़ज़ल "राज')
"आद० समर भाई जी ,आपने इतने विस्तृत रूप से आस्तां शब्द की व्याख्या की है मेरे भी सब भ्रम दूर हो गए…"
2 hours ago

© 2017   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service