For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

राईट टू रिकॉल-राईट टू रिजेक्ट

अन्ना हजारे की एक जबरदस्त मांगों में से एक है: राईट टू रिकॉल. यह एक ऐसी जनवादी मांग है जिसके खिलाफ सारे सांसद, विधायक और उनके लग्गू-भग्गुओं, दलालों का एक तांता लगा हुआ है. भ्रष्टाचार के खिलाफ उनके आन्दोलन ने यह तो दिखा ही दिया है कि शासक वर्ग भ्रष्टाचार जैसे सर्वव्यापी कुव्यवस्था के खिलाफ लड़ने में किस कदर उनपर हमला सा बोल दिया था. सारे के सारे एक जुट थे, हलांकि भारी जनदबाव के कारण कुछेक उनके बीच के लोग भी अन्ना हजारे के साथ हो लिये थे. परन्तु अब उन्होंने जो एक नई मांग के साथ आन्दोलन का बिगुल फूंका है, वो जबरर्दस्त क्रांतिकारी सोच है, जिसके खिलाफ सारे के सारे शासक वर्ग एक जुट है. कहना न होगा राईट टू रिकॉल एक ऐसा नियम है जो सारे सांसदों और विधायकों के मन में एक डर पैदा कर दिया है. अब तक तो उनके लिए पांच सालों तक मौज ही मौज था, चाहे कुछ भी वे करते रहे. जनता उनका कतई कुछ नहीं बिगाड़ सकती थी, सिवाय रूपम पाठक जैसे अपवादों के. परन्तु ये नई कानून अगर बन गई तो उनका सुख-चैन छिन जायेगा क्योंकि इन जीते हुए तथाकथित जनप्रतिनिधियों को आम जनता से कोई मतलब तो है नहीं. एक तरफ जहां अन्ना हजारे राईट टू रिकॉल की मांग कर रहे हैं वहीं शासक वर्गो के बीच एक नई धारा पैदा हो गई है, यह कहते हुए कि चाहे कुछ भी हो जाये, सरकार अल्पमत में ही क्यों नहीं हो जाये परन्तु चुनाव नहीं करवाये जाने चाहिए, बल्कि उसी में उलट-फेर कर सरकार बनाई जानी चाहिए. इसी से पता चलता है कि शासक वर्ग चुनाव जैसी संवैधानिक संस्था से कितनी ज्यादा डरी हुई रहती है. अन्ना हजारे की इसी मांग के साथ यह भी जुड़ा हुआ है राईट टू रिजेक्ट. शासक वर्ग इसे भी मानने से इंकार कर रही है. शासक वर्ग का कहना है कि यह संभव नहीं है. क्यांेकि वह जानती है कि चुनाव में वैसे लोग ही खड़े होते हैं जनता जिसे पसन्द नहीं करती. यदि यह कानून बन गया तो शासक वर्ग भारी मुश्किल में पड़ जायेगा. तमाम धन्ना सेठों, ठेकेदारों की दुकानदारी बंद हो जायेगी. जनता का राज कायम होने लगेगा. इसलिए शासक वर्ग का कहना है कि जिसे वोट नहीं देना हो नहीं दें, परन्तु जितने ही वोट डाले जायेंगे विजेता का चुना जाना उसी मामूली से वोट से ही किया जायेगा.स्पष्टतः, राईट टू रिकॉल और राईट टू रिजेक्ट जैसी जनवादी मांगों के साथ हम सभी को खड़े होना चाहिए.

 

Views: 389

Reply to This

Replies to This Discussion

सही मायने में लोकतंत्र तभी कायम होगा , जब  अन्ना की मांगें मान ली जायेंगी  ! लेकिन  उस स्थिति की कल्पना से  ही 
समस्त नेता बिरादरी की हवा खिसकने लगती है ,  और वे अपनी धूर्तता  दिखाने से बाज नहीं आते  ! 

अच्छी बात यह है कि सर्वोच्च न्यायालय कि पहल पर राईट टू इग्नोर  हमें नन ऑफ़ दीज  के रूप में मिल  चुका है I एक प्रकार से राईट टू रिजेक्ट तो हमें मिल ही गया  I  यह भी इसलिए संभव हुआ कि आम चुनाव के साथ ही यह किया जा सकता है  I  पर रिजेक्ट के मामले में  हर रिजेक्शन  पर चुनाव करा पाना हार्ड नट  है I  हमें अभी प्रस्तावित पहल के इफ और बट को परखना होगा I  शायद आप  सहमत हो  I  धन्यवाद  I

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Samar kabeer commented on KALPANA BHATT ('रौनक़')'s blog post अनकहा रिश्ता (लघुकथा)
"बहना कल्पना भट्ट "रौनक़' जी आदाब,लघुकथा का प्रयास अच्छा है,बधाई स्वीकार करें । लेकिन रचना…"
13 minutes ago

सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 94 in the group चित्र से काव्य तक
"दोहा छंद आधारित गीत आंगन में बिखरी खुशी, अँजुरी भरो बुहार।नटखट मासूमी अधर, करते रस विस्तार।। पाँव…"
24 minutes ago
pratibha pande replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 94 in the group चित्र से काव्य तक
"प्रदत्त चित्र के आलोक मे बहुत सुन्दर दोहावली। हार्दिक बधाई आदरणीय डाॅ छोटेलाल सिंह जी"
1 hour ago
Naveen Mani Tripathi commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"आ0 आमोद श्रीवास्तव जी हार्दिक आभार"
1 hour ago
Naveen Mani Tripathi commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"आ0 कबीर सर सादर नमन  ख़बर है मुझको तेरे इश्क़ की बुलन्दी से  मिसरे को ऐसा कर रहा हूँ "
1 hour ago
अखिलेश कृष्ण श्रीवास्तव replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 94 in the group चित्र से काव्य तक
"मिली बधाई आपकी, रहा न कुछ भी शेष। धन्यवाद प्रतिभा तुम्हें, कहता है अखिलेश॥"
2 hours ago
Samar kabeer commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post जब आपकी नज़र में वफ़ा सुर्ख़रू नहीं (२७ )
"'ग़लत'12 होता है,'ग़ल्त'कोई शब्द ही नहीं,ये शायद पंजाबी उच्चारण है…"
3 hours ago
अखिलेश कृष्ण श्रीवास्तव replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 94 in the group चित्र से काव्य तक
"मिली बधाई आपकी, भाई श्री मिथिलेश। धन्यवाद आभार भी, कहता है अखिलेश॥"
3 hours ago
अखिलेश कृष्ण श्रीवास्तव replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 94 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीया प्रतिभाजी रहते कितने प्रेम से, गाँवों में  परिवार। छंद रचे जिस भाव से, चित्र हुआ…"
3 hours ago
अखिलेश कृष्ण श्रीवास्तव replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 94 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीया राजेशजी छंद रचे जिस भाव से, चित्र हुआ साकार। घोल दिया है दूध में, माँ दादी का प्यार॥"
3 hours ago
अखिलेश कृष्ण श्रीवास्तव replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 94 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीय भाई छोटेलालजी सुंदर शब्दों से रचे, कितने सुंदर छंद। चित्र को साकार किया, दोहे का हर बंद॥"
3 hours ago
अखिलेश कृष्ण श्रीवास्तव replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 94 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीय अशोक भाईजी, सभी छंद में गाँव  की, खुशबू है औ’ प्यार। इसीलिए लगते भले, भारत के…"
4 hours ago

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service