For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Tilak Raj Kapoor's Discussions (1,972)

Discussions Replied To (88) Replies Latest Activity

"इसी मंच के होम पेज पर देखें दो लिंक दिये हुए हैं जिन पर इतनी जानकारी तो है ही कि आपक…"

Tilak Raj Kapoor replied Oct 5, 2014 to ग़ज़ल-संक्षिप्‍त आधार जानकारी-6

15 Jan 27, 2016
Reply by kanta roy

"व्‍याकरण भेद के आधार पर उठती', 'लिखती' को उचित भी ठहराया जा सकता है लेकिन यह मूल अरू…"

Tilak Raj Kapoor replied Aug 7, 2014 to ग़ज़ल-संक्षिप्‍त आधार जानकारी-4

33 Apr 27, 2019
Reply by Rachna Bhatia

"यहॉं एक बात समझना जरूरी है कि अगर आपने 'उठती', 'लिखती' मत्‍ले में काफि़या के रूप में…"

Tilak Raj Kapoor replied Aug 7, 2014 to ग़ज़ल-संक्षिप्‍त आधार जानकारी-4

33 Apr 27, 2019
Reply by Rachna Bhatia

"और को तो औ पढ़कर 'र' गिराना सामान्‍य है। कई जगह औ को भी पिढले हर्फ़ से अलिफ़-वस्‍ल क…"

Tilak Raj Kapoor replied Jul 17, 2013 to ग़ज़ल संक्षिप्‍त आधार जानकारी-10

36 Jun 24, 2017
Reply by Farida shahin

"घाव मेरे दिल पर गहरा हुआ जब मेरे यार पर पहरा हुआ।  को माना कि  आप ने  घाव मेरे दिल प…"

Tilak Raj Kapoor replied Jun 12, 2013 to ग़ज़ल-संक्षिप्‍त आधार जानकारी-4

33 Apr 27, 2019
Reply by Rachna Bhatia

"सबसे पहले तो यह जानना ज़रूरी है कि आपने बह्र क्‍या ली, दूसरी बात काफि़या गायब है जो…"

Tilak Raj Kapoor replied Feb 24, 2013 to ग़ज़ल-संक्षिप्‍त आधार जानकारी-1

56 Jan 22, 2019
Reply by Asif zaidi

"कृपया पहले आलेख से आरंभ करें । आप दसवें पर हैं।"

Tilak Raj Kapoor replied Aug 21, 2012 to ग़ज़ल संक्षिप्‍त आधार जानकारी-10

36 Jun 24, 2017
Reply by Farida shahin

"मात्रा गिराने की कोई सीमा नहीं है! वस्तुतः आप देखंगे कि मात्राएँ खुद ब खुद गिरती हैं…"

Tilak Raj Kapoor replied Apr 4, 2012 to ग़ज़ल-संक्षिप्‍त आधार जानकारी-1

56 Jan 22, 2019
Reply by Asif zaidi

"आप इस जानकारी, इसपर की गयी टिप्पणियों और उनके उत्तर समझने के प्रयास करें! आशा है सफल…"

Tilak Raj Kapoor replied Apr 4, 2012 to ग़ज़ल-संक्षिप्‍त आधार जानकारी-1

56 Jan 22, 2019
Reply by Asif zaidi

"व्‍यवहारिक छंद-शास्‍त्र के पृष्‍ठ 201-202 पर तख़नीक़ विधि का उपयोग है। वहॉं एक बह्र…"

Tilak Raj Kapoor replied Mar 26, 2012 to ग़ज़ल-संक्षिप्‍त आधार जानकारी-1

56 Jan 22, 2019
Reply by Asif zaidi

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Sushil Sarna posted a blog post

कुछ दोहे : प्रश्न - उत्तर:.....

प्रश्नों का प्रासाद है, जीवन की हर श्वास । मरीचिका में जी रहा, कालजयी विश्वास । ।प्रश्नों से मत…See More
39 minutes ago
Sushil Sarna replied to Sushil Sarna's discussion भक्तिरस के दोहे : in the group धार्मिक साहित्य
"आदरणीय  लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' जी सृजन के भावों को आत्मीय मान देने का दिल से…"
1 hour ago
सालिक गणवीर posted a blog post

जिसको हम ग़ैर समझते थे...(ग़ज़ल : सालिक गणवीर)

2122 1122 1122 22जिसको हम ग़ैर समझते थे हमारा निकला उससे रिश्ता तो कई साल पुराना निकला (1)हम भी…See More
2 hours ago
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post तुम्हीं आये हरदम टहलते हुए.- ग़ज़ल
"आदरणीय लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'  जी सादर नमस्कार  आपकी हौसलाअफजाई के लिए दिल…"
9 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post तुम्हीं आये हरदम टहलते हुए.- ग़ज़ल
"आ. भाई बसंतकुमार जी, सादर अभिवादन । अच्छी गजल हुई है । हार्दिक बधाई ।"
12 hours ago
Rupam kumar -'मीत' posted blog posts
13 hours ago
बसंत कुमार शर्मा posted a blog post

तुम्हीं आये हरदम टहलते हुए.- ग़ज़ल

मापनी १२२ १२२ १२२ १२  कई ख़्वाब देखे मचलते हुए.तुम्हीं आये हरदम टहलते हुए. तबस्सुम के पीछे छिपे…See More
13 hours ago
Sarfaraz kushalgarhi commented on Sarfaraz kushalgarhi's blog post नाज़ नख़रों का अंदाज़....
"मुहतरम लक्ष्मण धामी मुसाफ़िर जी नवाज़िश के लिये आपका दिली शुक्रियः खुशालगढ़ी नहीं कुशलगढ़ी"
yesterday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Sushil Sarna's discussion भक्तिरस के दोहे : in the group धार्मिक साहित्य
"आ. भाई सुशील जी, भक्तरस के सुन्दर दोहे रचे हैं हार्दिक बधाई ।"
yesterday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' joined Admin's group
Thumbnail

धार्मिक साहित्य

इस ग्रुप मे धार्मिक साहित्य और धर्म से सम्बंधित बाते लिखी जा सकती है,See More
yesterday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to आशीष यादव's discussion कइसे होई गंगा पार in the group भोजपुरी साहित्य
"आ. भाई आशीष जी, बहुत अच्छी रचना हुई है । हार्दिक बधाई ।"
yesterday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Sarfaraz kushalgarhi's blog post नाज़ नख़रों का अंदाज़....
"आ. भाई सरफराज खुशालगढ़ी जी, सादर अभिवादन । उम्दा गजल हुई है । हार्दिक बधाई ।"
yesterday

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service