For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Ashish Kumar
Share

Ashish Kumar's Groups

 

Ashish Kumar's Page

Latest Activity

Ashish Kumar commented on Ashish Kumar's blog post दिले बेक़रार को थोड़ा करार मिल जाए
"आदरणीय समर कबीर जी नमस्कारसराहना और उत्साहवर्धन के लिए आपका आभार ये ग़ज़ल बहर पर नहीं लिखी है . बेबह्र ग़ज़ल का प्रयास किया है."
Dec 24, 2018
Samar kabeer commented on Ashish Kumar's blog post दिले बेक़रार को थोड़ा करार मिल जाए
"जनाब आशीष जी आदाब,ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है,बधाई स्वीकार करें । इस ग़ज़ल के अरकान लिख दें तो कुछ कहना हो ।"
Dec 22, 2018
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on Ashish Kumar's blog post दिले बेक़रार को थोड़ा करार मिल जाए
"वाह बढ़िया आदरणीय..बहुतखूब...शब्दों के मायने लिख के आपने बहुत अच्छा किया..मापनी और लिख देते तो हम जैसो को और आसानी हो जाये..बधाई"
Dec 22, 2018
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on Ashish Kumar's blog post ग़ज़ल - ०२
"वाह जी खूब ग़ज़ल कही है..बधाई"
Dec 22, 2018
राज़ नवादवी commented on Ashish Kumar's blog post ग़ज़ल - ०२
"आदरणीय आशीष कुमार जी, आदाब. ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है, दाद के साथ बधाई स्वीकार करें. सादर "
Dec 21, 2018
Ashish Kumar posted a blog post

दिले बेक़रार को थोड़ा करार मिल जाए

दिले बेक़रार को थोड़ा करार मिल जाए,गुलशने वीरां को राहे बहार मिल जाए।हट जाए ये फ़सुर्दगी मेरे दीदा-ए-मजहूर से,मेरी माहपारा जो तेरा दीदार मिल जाए।रख्शे-बेईना सा मन दौड़ता है इधर उधर,है आरजू कि तुझ सा सवार मिल जाए।खुश्क आँखों को तलाश अब नमी की है,तेरे दीदा-ए-तर से अश्क उधार मिल जाए।मुझे मिल जाए तुझ सी पैकरे-रअनाई ,तुझे 'चंदन' सा कोई परस्तार मिल जाए।*******************************************फ़सुर्दगी - उदासी, दीदा ए मजहूर- वियोग से दुखी नेत्रमाहपारा - चाँद का टुकड़ा, रख्शे बेईना - बेलगाम घोड़ादीदा ए तर…See More
Dec 20, 2018
Ashish Kumar commented on Ashish Kumar's blog post ग़ज़ल - ०२
"आदरणीय समर कबीर जी बहुत बहुत आभार ।"
Dec 20, 2018
Samar kabeer commented on Ashish Kumar's blog post ग़ज़ल - ०२
"जनाब आशीष कुमार "चन्दन" जी आदाब,ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है,बधाई स्वीकार करें ।"
Dec 20, 2018
Ashish Kumar posted a blog post

ग़ज़ल - ०२

२१२  २१२  २१२  २१२क्या पता चाँद रोशन रहे ना रहेकल ये’ चूड़ी ये’ कंगन रहे ना रहे। भीग जा मेरे’ नैनों की’ बरसात मेंक्या पता कल ये’ सावन रहे ना रहे। छू के’ देखूँ जरा अनछुए फूल कोक्या पता कल ये’ मधुबन रहे ना रहे। आ मिला लें’ अधर से अधर आज हमक्या पता कल ये’ यौवन रहे ना रहे। तेरी’ साँसों में’ घुल के महक जाऊँ’ मैंक्या पता कल ये’ चन्दन रहे ना रहे।***********************************स्वरचित एवं मौलिक आशीष कुमार "चन्दन"See More
Dec 19, 2018
Samar kabeer commented on Ashish Kumar's blog post ग़ज़ल - 01
"' जिंदगी में छा गया है अब अमावस सा अँधेरा' ऐब-ए-तनाफ़ुर,कहते हैं,एक शब्द के अंतिम अक्षर और उसके बाद आने वाले शब्द का पहला अक्षर समान होना,जैसे आपके मिसरे में 'अमावस सा'यानी अमावस शब्द…"
Dec 18, 2018
Ashish Kumar commented on Ashish Kumar's blog post ग़ज़ल - 01
"आदरणीय समर कबीर जी नमस्कार,आपका बहुत बहुत आभार कि आपने गजल की समीक्षा की और त्रुटियाँ बताई।मैंने अभी शुरुआत की है और गजल के नियमों से भलीभांति परिचित नहीं हूँ। हालात और जज्बात बहुवचन हैं इनके साथ "हो" के स्थान पर "हों" आना चाहिए…"
Dec 18, 2018
राज़ नवादवी commented on Ashish Kumar's blog post ग़ज़ल - 01
"आदरणीय आशीष जी, गजल का अच्छा प्रयास है, बधाई. बाक़ी मंच के आदरणीय उस्ताज़ समर कबीर साहब ने जो अपनी बहुमूल्य प्रतिक्रया दी है, उससे ग़ज़ल को संवारने का प्रयास करें. सादर. "
Dec 8, 2018
राज़ नवादवी commented on Ashish Kumar's blog post ग़ज़ल - 01
"आदरणीय आशीष जी, गजल का अच्छा प्रयास है, बधाई. बाक़ी मंच के आदरणीय उस्ताज़ समर कबीर साहब ने जो अपनी बहुमूल्य प्रतिक्रया दी है, उससे ग़ज़ल को संवारने का प्रयास करें. सादर. "
Dec 8, 2018
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Ashish Kumar's blog post ग़ज़ल - 01
"आ. आशीष जी, गजल का अच्छा प्रयास हुआ है । हार्दिक बधाई । आ. भाई समर जी की बात का संज्ञान लें ।"
Dec 6, 2018
डॉ छोटेलाल सिंह commented on Ashish Kumar's blog post ग़ज़ल - 01
"आदरणीय आशीष जी अच्छी गजल कही आपने कामयाब कोशिश के लिए बहुत बहुत बधाई"
Dec 6, 2018
Samar kabeer commented on Ashish Kumar's blog post ग़ज़ल - 01
"जनाब आशीष कुमार 'चंदन' जी आदाब,पहली बार आपकी ग़ज़ल से रूबरू हो रहा हूँ । बह्र के हिसाब से आपकी ग़ज़ल ठीक है,लेकिन क़वाफ़ी के हिसाब से अभी आपको ग़ज़ल पर और समय देना होगा…"
Dec 5, 2018

Profile Information

Gender
Male
City State
Moradabad
Native Place
Moradabad
Profession
Job

Ashish Kumar's Blog

दिले बेक़रार को थोड़ा करार मिल जाए

दिले बेक़रार को थोड़ा करार मिल जाए,

गुलशने वीरां को राहे बहार मिल जाए।

हट जाए ये फ़सुर्दगी मेरे दीदा-ए-मजहूर से,…

Continue

Posted on December 20, 2018 at 5:14pm — 3 Comments

ग़ज़ल - ०२

२१२  २१२  २१२  २१२

क्या पता चाँद रोशन रहे ना रहे

कल ये’ चूड़ी ये’ कंगन रहे ना रहे।

 …

Continue

Posted on December 18, 2018 at 5:30pm — 4 Comments

ग़ज़ल - 01

२१२२ २१२२ २१२२ २१२२

दुश्मनी को भूल जाऊँ दोस्ती की बात तो हो

नफरतों को छोड़ भी दूँ इश्क़ के हालात तो हो।…

Continue

Posted on December 4, 2018 at 1:30pm — 7 Comments

Comment Wall (1 comment)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 3:23pm on March 6, 2019, Ahmed Maris said…

Good Day,

How is everything with you, I picked interest on you after going through your short profile and deemed it necessary to write you immediately. I have something very vital to disclose to you, but I found it difficult to express myself here, since it's a public site.Could you please get back to me on:( mrsstellakhalil5888@gmail.com ) for the full details.

Have a nice day

Thanks God bless

Stella.

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Sushil Sarna posted a blog post

ताप संताप दोहे :

ताप संताप दोहे :सूरज अपने ताप का, देख जरा संताप। हरियाली को दे दिया, जैसे तूने शाप।।भानु रशिम कर…See More
4 hours ago
Naveen Mani Tripathi posted a blog post

ग़ज़ल

2122 2122 212हुस्न का बेहतर नज़ारा चाहिए ।कुछ तो जीने का सहारा चाहिए ।।हो मुहब्बत का यहां पर श्री…See More
12 hours ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post किस तरह होते फ़ना प्यार निभाने के लिए (४६ )
"vijay nikore साहेब बहुत बहुत शुक्रिया हौसला आफजाई के लिए | "
yesterday
Pradeep Devisharan Bhatt posted a blog post

-ट्विंकल ट्विंकल लिट्ल स्टार-

ट्विंकल ट्विंकल लिट्ल स्टारबंद करो ये अत्याचारनज़रो में वहशत है पसरीजीना बच्चों का दुश्वारशहर नया हर…See More
yesterday
Sushil Sarna posted a blog post

औरत.....

औरत.....जाने कितने चेहरे रखती है मुस्कराहट थक गई है दर्द के पैबंद सीते सीते ज़िंदगी हर रात कोई…See More
yesterday
Pradeep Devisharan Bhatt commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"बहुत खूब अच्छि गज़ल  हुई ।बधाई"
yesterday
Pradeep Devisharan Bhatt shared Naveen Mani Tripathi's blog post on Facebook
yesterday
vijay nikore commented on बृजेश नीरज's blog post धारा
"रचना अच्छी लगी, बधाई बृजेश जी"
yesterday
vijay nikore commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post किस तरह होते फ़ना प्यार निभाने के लिए (४६ )
"गज़ल अच्छी लिखी है। बधाई गिरधारी सिंह जी"
yesterday
vijay nikore commented on Hariom Shrivastava's blog post कुण्डलिया छंद-
"हरि ओम जी, छ्न्द अच्छे लगे। बधाई।"
yesterday
Sonia is now a member of Open Books Online
yesterday
vijay nikore posted a blog post

सूर्यास्त के बाद

निर्जन समुद्र तटरहस्यमय सागर सपाट अपारउछल-उछलकर मानो कोई भेद खोलतीबार-बार टूट-टूट पड़ती लहरें…See More
yesterday

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service