For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

MANINDER SINGH
  • LUDHIANA
  • India
Share

MANINDER SINGH's Friends

  • Rinki Raut
  • सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप'
  • Gurpreet Singh
  • योगराज प्रभाकर
 

MANINDER SINGH's Page

Profile Information

Gender
Male
City State
mani786inder@gmail.com
Native Place
hapur
Profession
shopkeeper
About me
i am interested in poetry like gazal

MANINDER SINGH's Photos

  • Add Photos
  • View All

MANINDER SINGH's Blog

ग़ज़ल कर गये तुम बात दिल की आज महफ़िल में मेरी

२१२२ २१२२ २१२२ २१२

कर गये तुम बात दिल की आज महफ़िल में मेरी |

कह गये तुम हमसफ़र सब राज महफ़िल में मेरी ||



था मुझे इंतज़ार कब से तेरे इस इजहार का |

इश्क का है छेड़ा तुमने साज महफ़िल में मेरी ||



तुम बसाये थे तड़प आँखों में दिल की हमनवां |

तोड़ दी तेरी तड़प ने हर लाज महफ़िल में मेरी ||



थे लबो पर कब से चाहत सी लिये तुम कहने की |

आज दी तुमने मुझे आवाज़ महफ़िल में मेरी ||



देखता तुझ को जमाना दीवाना सा कह मेरा |

जब "मनी" तूने…

Continue

Posted on April 27, 2017 at 12:30pm — 8 Comments

Comment Wall

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

  • No comments yet!
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

babitagupta commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post 'करुणा-सन्निधि' (लघुकथा)
"अंतिम वाक्य बिलकुल सटीक  लगा ,राजनीति में बहुत कुछ भुनाना पड़ता हैं,बेहतरीन रचना के लिए हार्दिक…"
8 minutes ago
babitagupta commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की - रफ़्ता रफ़्ता अपनी मंज़िल से जुदा होते गए
"बेहतरीन रचना के लिए हार्दिक बधाई स्वीकार कीजियेगा ,आदरणीय सरजी।"
13 minutes ago
babitagupta commented on विनय कुमार's blog post रुके हुए शब्द- कहानी
"ऊँच-नीच का भेदभाव दिमाग में परिचय मिलते ही नजरिया बदल देती हैं,कोइ महानुभाव होगा  जो इन सबसे…"
16 minutes ago
babitagupta commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post 'आदी की चादर' (छंदमुक्त, अतुकांत कविता)
"तीखा प्रहार करती पंक्तियाँ ,बेहतरीन रचना के लिए हार्दिक बधाई स्वीकार कीजियेगा आदरणीय सरजी।"
27 minutes ago
babitagupta commented on विनय कुमार's blog post देश प्रेम—लघुकथा
"आज लड़ाई सरहद से ज्यादा आंतरिक लड़ाई को सुलझाने की हैं.बेहतरीन रचना स्वीकार कीजियेगा आदरणीय सरजी।"
32 minutes ago
babitagupta commented on Harihar Jha's blog post झूमता सावन
"उम्दा रचना हार्दिक बधाई स्वीकार कीजियेगा आदरणीय सरजी।"
38 minutes ago
babitagupta commented on Mahendra Kumar's blog post धार्मिक पशु (लघुकथा)
"दोनों ही कटटर धार्मिक निकले,अगर मोहब्बत को सर्वोपरि माना था तो लड़के को धर्म परिवर्तन करके ज़िंदा…"
41 minutes ago
नादिर ख़ान commented on नादिर ख़ान's blog post झूम के देखो सावन आया ....
"आदरणीया बबीता जी हौसला अफजाई का शुक्रिया ...."
45 minutes ago
नादिर ख़ान commented on नादिर ख़ान's blog post झूम के देखो सावन आया ....
"आदरणीय समर साहब बेशकीमती सुझाओं के लिए बहुत शुक्रिया आपका .... पहली बार गीत लिखने की कोशिश की है ।"
46 minutes ago
babitagupta commented on Ajay Kumar Sharma's blog post मन में ही हार, जीत मन में..
"बेहतरीन जीवन जीने व सामजिक मूल्यों का संदेश देती भाव पूर्ण बेहतरीन रचना,हार्दिक बधाई स्वीकार…"
49 minutes ago
babitagupta commented on TEJ VEER SINGH's blog post चक्रव्यूह - लघुकथा –
"समाज की सबसे ज्वलंत समस्या का बोध कराती बेहतरीन रचना के लिए  बधाई स्वीकार कीजियेगा आदरणीय सरजी।"
53 minutes ago
babitagupta commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post 'तोप, बारूद और तोपची' (लघुकथा)
"दूसरों की थाली में कुछ ज्यादा ही घी नजर आता हैं,बेहतरीन रचना के लिए हार्दिक बधाई स्वीकार कीजियेगा…"
57 minutes ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service