For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

ग़ज़ल (वो नज़र जो क़यामत की उठने लगी)

फ़ाइलुन -फ़ाइलुन - फ़ाइलुन -फ़ाइलुन
2 1 2 - 2 1 2 - 2 1 2 - 2 1 2


वो नज़र जो क़यामत की उठने लगी 

रोज़ मुझपे क़हर बनके गिरने लगी

रोज़ उठने लगी लगी देखो काली घटा
तर-बतर ये ज़मीं रोज़ रहने लगी

जबसे तकिया उन्होंने किया हाथ पर
हमको ख़ुद से महब्बत सी रहने लगी

एक ख़ुशबू जिगर में गई है उतर
साँस लेता हूँ जब भी महकने लगी

उनकी यादों का जब से चला दौर ये
पिछली हर ज़ह्न से याद मिटने लगी

वो नज़र से पिला देते हैं अब मुझे
मय-कशी की वो लत साक़ी छुटने लगी

अब फ़ज़ाओं में चर्चा  यही आम है
सुब्ह से ही ये क्यूँ शाम सजने लगी

दिल पे आने लगीं दिलनशीं आहटें

इक ख़ुशी ग़म के दर पे ठिटकने लगी

लौट आए वो दिन फिर से देखो 'अमीर' 

उम्र अपनी लड़कपन सी दिखने लगी

"मौलिक व अप्रकाशित"

Views: 494

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by अमीरुद्दीन 'अमीर' on September 17, 2020 at 9:45am

सभी रचनाकारों और उस्तादों से विनम्र निवेदन है कि इस ग़ज़ल या मेरी किसी भी रचना को बिल्कुल भी एक आदर्श उदाहरण के तौर पर भले ही न लिया जाए लेकिन जब कभी भी किसी की रचना पर टिप्पणी करें या उसका क्रिटिकल एनालिसिस (विश्लेषण) करें तो रचनाकार की भावनाओं को आहत न करें, इस बात का हमेशा ख़याल रहे कि रचना के सियाह पक्ष की कमियों को इंगित करने के साथ ही उसके उजले पक्ष को भी सराहा जाए रचना में पिरोयी गयी भावनाओं को समझें और हो सके तो उसे अपने सीमित ही सही किन्तु सहीह ज्ञान के अनुसार मार्गदर्शन कर दें कभी हतोत्साहित न करें कभी किसी को भी अपना प्रतिद्वंद्वी न समझें। ऐसी ही भावनाओं के साथ कहना चाहता हूँ कि यदि कभी मेरे द्वारा किसी रचनाकार की रचना पर टिप्पणी करते हुए मेरे द्वारा उसकी भावनाएं आहत हुईं हों या किसी साथी या गुरू के सम्मान को ठेस पहुंची हो तो मैं क्षमा प्रार्थी हूँ। 

Comment by Nilesh Shevgaonkar on September 16, 2020 at 2:40pm

आ. अमीर साहब, 
अपनी ग़ज़ल के पक्ष में किसी उस्ताद शाइर की दलील दे सकें तो बेहतर होगा.. अन्यथा आप जैसा उचिल मानें.
सादर 
(अंतिम टिप्पणी)
जो भी नए रचनाकार इस बहस को पढ़ें,, वो यह ध्यान रखें कि ग़ज़ल ऐसे न कही  जाए..

Comment by अमीरुद्दीन 'अमीर' on September 16, 2020 at 9:56am

आ. नीलेश 'नूर' जी, आपका कहना है कि 

"इस मंच की परिपाटी है कि सदस्यों की रचनाओं का क्रिटिकल एनालिसिस होता है और इसी परम्परा के तहत आ. समर साहब ने और बाद में मैंने भी अपने सीमित ज्ञान के अनुसार आप की रचना को बेहतर करने का प्रयास किया है"

मुहतरम किसी की रचना में सिर्फ उसके ऐबों को गिनवाने को रचना को बेहतर करने का प्रयास नहीं कहा जा सकता है, आपने सिर्फ और सिर्फ क्रिटिकल एनालिसिस और क्रिटिसाइज़ करने का ही काम किया है जो क्रिटिसिज़्म की मूल भावना के विपरीत है, आपने जिस शब्द क्रिटिकल एनालिसिस का प्रयोग किया है उसके सिर्फ बाएँ पक्ष क्रिटिकल पर ही सारी ऊर्जा लगा दी है उसके दाएँ पक्ष एनालिसिस के मर्म को शायद आप जानते ही नहीं हैं या जानबूझकर नज़र अन्दाज़ कर रहे हैं तभी तो किसी की ग़ज़ल की तुलना एक कार से तथा एनालिसिस करने की तुलना एक लम्बी यात्रा के प्लान से करते हैं और कहते हैं कि "अगर मतले में ही दोष नज़र आ जाए तो आगे बढ़ा नहीं जाता.. जिस गाडी का इंजन स्टार्ट न होता हो, उस में लम्बी यात्रा का प्लान कम से कम मैं नहीं करता.. और फिर ऐसी गाड़ी के इंटीरियर, फीचर्स आदि की तारीफ़ करना बाद की बात है." तो जनाब आपको ये लफ़्ज़ एनालिसिस भी इस्तेमाल नहीं करना चाहिए क्योंकि एनालिसिस का अर्थ विश्लेषण होता है और विश्लेषण गुण और अवगुण के आधार पर किया जा सकता है सिर्फ़ अवगुण के आधार पर नहीं और अगर आप ऐसा नहीं करना चाहते तो फिर आपको विश्लेषण शब्द के बजाय सिर्फ आलोचना शब्द का इस्तेमाल करना चाहिए वैसे आलोचक भी किसी रचना के गुुण और अवगुण दोनों पर चर्चा करते हैं, एक बात और जब कभी लम्बी यात्रा का प्लान बनाएं और स्टार्ट गाड़ी का इंजन यात्रा शुरू करने से पहले या यात्रा के दौरान अचाानक बन्द हो जाए तो एक बार प्रयास ज़रूर कीजियेगा हो सकता है कि बैटरी से वायर हटा हो। 

ग़ज़ल के क़वाफ़ी में राइम (तुक) नहीं एण्डराइम (समान तुकान्त शब्द होने) की अनिवार्यता होती है जो आपकी ग़ज़ल में ते तथा मेरी ग़ज़ल में ने है। और यही बात ग़ज़ल के क़वाफ़ी तय करने में सबसे अहम है। सादर। 

Comment by Nilesh Shevgaonkar on September 15, 2020 at 12:18pm
आ. अमीरुद्दीन अमीर साहब,
"आप किसी पूर्वाग्रह से ग्रस्त हैं तभी तो येन केन प्रकारेण आपका उद्देश्य सिर्फ मुझे नीचा दिखाना प्रतीत होता है," आपकी यह टिप्पणी आपकी ग़ज़ल के मतले की तरह दोषपूर्ण है अत: मैं इस पर कोई टिप्पणी नहीं करूंगा.
आप को मानना है तो मानिये अन्यथा जैसा उचित लगे वैसा करें.. लेकिन इससे आपकी ग़ज़ल के मतले का दोष नहीं ढँकने वाला..
इस मंच की परिपाटी है कि सदस्यों की रचनाओं का क्रिटिकल एनालिसिस होता है और इसी परम्परा के तहत आ. समर साहब ने और बाद में मैंने भी अपने सीमित ज्ञान के अनुसार आप की रचना को बेहतर करने का प्रयास किया है .. इस में हमारा लाभ सिर्फ समय की बर्बादी है लेकिन आपका लाभ यह है कि आपकी रचना और निखर सकती है.चॉइस आपकी है.. वैसे काफ़िया के विधान पर लिंक भेजी है कमेंट में, समय मिले तो मुक्त मन से देख लीजियेगा.
मेरी पिछली टिप्पणी में मुझ से एक त्रुटी हुई है जिसकी ओर ध्यान दिलाने के लिए आपका आभार लेकिन इस के बाद भी मेरे क़वाफ़ी दुरुस्त हैं क्यों की उमड़ते और बिछड़ते योजित काफ़िया होने के बाद भी दोनों के मूल शब्द उमड़/ बिछड़ में "अड़" ध्वनि की राइम है.. आप का काफिया योजित है लेकिन मूल शब्दों में कोई राइम नहीं है..
सादर
Comment by अमीरुद्दीन 'अमीर' on September 15, 2020 at 12:07am

आदरणीय जनाब नीलेश 'नूर' साहिब, ऐसा लगता है कि आप किसी पूर्वाग्रह से ग्रस्त हैं तभी तो येन केन प्रकारेण आपका उद्देश्य सिर्फ मुझे नीचा दिखाना प्रतीत होता है, अगर ऐसा नहीं होता तो अपने लिये और मेरे लिये अलग अलग मानदण्ड स्थापित नहीं करते, ज़रा एक बार फिर से अपना कमेन्ट पढ़िए :

//आप ने मेरी ग़ज़ल कोट की.. अच्छा लगा..

उमड़ते.. बिछड़ते .. रगड़ते आदि में डते स्थायी है लेकिन म, छ, ग आदि चपल हैं जो रायमिंग हैं.. जैसे पड़ते , सड़ते, बिछड़ते आदि..

मतले के क़वाफ़ी बिछड़ते , उमड़ते में बि अथवा उ हटाने से छड़ने .. मड़ने बचता है जो दोनों निरर्थक हैं अत: ये दोनों काफ़िये की आवश्यकता को पूर्ण करते हैं..

आपकी ग़ज़ल में ने हटाकर गिर और उठ बचता है जो सार्थक हैं अत: यह दोष है..//

मेरे क़ाबिल दोस्त आपकी ग़ज़ल के मतले के क़वाफ़ी 

उमड़ते - बिछड़तेे  हैं जबकि मेरी ग़ज़ल के मतले के क़वाफ़ी

  उठने -     गिरने  हैं।

आपने बताया है कि आपकी ग़ज़ल के क़वाफ़ी से पहला हर्फ़ उ और बि हटाकर बचे शब्द मड़ते, छड़ते बचते हैं जो निरर्थक हैं और क़ाफ़िये की आवश्यकता को पूर्ण करते हैं।

जबकि मेरी ग़ज़ल के क़वाफ़ी के आख़िरी हर्फ़ के बारे में आपका कथन है कि :

//आपकी ग़ज़ल में ने हटाकर गिर और उठ बचता है जो सार्थक हैं अत: यह दोष है.//

अपनी ग़ज़ल के क़वाफ़ी से पहला हर्फ़ और

मेरी ग़ज़ल के क़वाफ़ी से आख़िरी हर्फ़......... क्यों साहिब ये दोहरापन क्यों ???

कृपया बताइयेगा कुछ और बात तो नहीं है ?, सादर। 

Comment by Nilesh Shevgaonkar on September 14, 2020 at 2:50pm

आ. अमीरुद्दीन "अमीर" साहब,
अधिक विस्तार के लिए 
http://www.openbooksonline.com/group/gazal_ki_bateyn/forum/topics/5...

लिंक पढ़ें अथवा होम पेज पर नीचे काफ़िया पढ़ें 
सादर 

Comment by Nilesh Shevgaonkar on September 14, 2020 at 2:42pm

आ. अमीरुद्दीन "अमीर" साहब,

ग़ज़ल मतले से शरुअ होती है और अगर मतले में ही दोष नज़र आ जाए तो आगे बढ़ा नहीं जाता.. जिस गाडी का इंजन स्टार्ट न होता हो, उस में लम्बी यात्रा का प्लान कम से कम मैं नहीं करता.. और फिर ऐसी गाड़ी के इंटीरियर, फीचर्स आदि की तारीफ़ करना बाद की बात है.
आप ने मेरी ग़ज़ल कोट की.. अच्छा लगा..
उमड़ते.. बिछड़ते .. रगड़ते आदि में डते स्थायी है लेकिन म, छ, ग आदि चपल हैं जो रायमिंग हैं.. जैसे पड़ते , सड़ते, बिछड़ते आदि..
मतले के क़वाफ़ी बिछड़ते , उमड़ते में बि अथवा उ हटाने से छड़ने .. मड़ने बचता है जो दोनों निरर्थक हैं अत: ये दोनों काफ़िये की आवश्यकता को पूर्ण करते हैं..
आपकी ग़ज़ल में ने हटाकर गिर और उठ बचता है जो सार्थक हैं अत: यह दोष है...
मैं भी आप ही की तरह था.. शायद हूँ भी.. आसानी से नहीं मानता लेकिन जब OBO पर शास्त्र सीखा तब सबसे पहले अपनी 300 ग़ज़लें.. कूड़ेदान में डाली क्यूँ कि वो मानकों पर न थीं..
अब भी किताब छपाने से डरता हूँ कि खिन कोई दोषपूर्ण ग़ज़ल मेरे नाम से चस्पा न हो जाए.. सॉफ्ट कभी भी बदली जा सकती है..
छपने के बाद बदलना संभव नहीं होता..
बाकी जैसी आपकी श्रद्धा...मंच पर बहुत से नए लोग हैं.. टीका का उद्देश्य यही है कि वो सही सीख सकें और उन्हें अपनी 300 ग़ज़लें ख़ारिज न करनी पड़ें..
सादर   

Comment by अमीरुद्दीन 'अमीर' on September 13, 2020 at 9:56am

आदरणीय नीलेश "नूर" साहिब आदाब अर्ज़ करता हूँ। मुहतरम आप ख़ाक़सार की ग़ज़ल पर तशरीफ़ लाए ये मेरे लिए बाइस-ए-मसर्रत है आप सुख़न-ओ-तहज़ीब का गहवारा हैं, मुहतरम समर कबीर साहिब भी आपकी ग़ज़लों के मिसरों पर तरही ग़ज़ल कह चुके हैं मगर मुहतरम, अहक़र अक्सर आपकी मुबारकबाद, दाद ओ तनक़ीद से महरूम रहा है आज इतना शर्फ़ तो हासिल हुआ कि आप ग़ज़ल पर तशरीफ़ लाए और क़वाफ़ी पर तनक़ीद की मगर मायूसी इस वजह से हुई कि आप जैसे सुख़न नवाज़ तालीम याफ़्ता और क़ाबिल शख़्स ने सामान्य शिष्टाचार की औपचारिकता (सामान्य अभिवादन) तक को तिलांजलि दे दी है रचना के उजले पक्ष को देखने उत्साहवर्धन या मार्गदर्शन करने की तो उम्मीद करना तो ही बेमानी है। अब आपकी टिप्पणी का जवाब :

//इतनी लंबी बहस से बेहतर होता कि आप क़वाफी दुरुस्त कर लेते।

आपके क़वाफी में "ने" स्थायी है अतः वो रदीफ़ का हिस्सा बन गया है।

अब इसे हटा कर उठ और गिर में क्या राइमिंग है ये आप स्वयं तय कर सकते हैं।//

जनाब नूर साहिब क्या ग़ज़ल के क़वाइद बदल गये हैं अगर बदल गये हैं तो सबसे पहले अपनी तमाम ग़ज़लों के क़वाफ़ी दुरुुस्त कर लीजिए क्योंकि आपकी ही नहीं हर किसी ग़ज़ल में रदीफ़ से पहला हर्फ़ मुक़र्रर आना लाज़िमी है यानि क़ाफ़िये का आख़िरी हर्फ़। मिसाल के तौर पर आपकी ही एक ग़ज़ल के चन्द अश'आ़र पेश करता हूँ :

सँभाले थे तूफ़ाँ उमड़ते हुए

मुहब्बत से अपनी बिछड़ते हुए.

समुन्दर नमाज़ी लगे है कोई

जबीं साहिलों पे रगड़ते हुए.

हिमालय सा मानों कोई बोझ है

लगा शर्म से मुझ को ड़ते हुए.     

अगर आपकी ईजाद किर्दा थ्योरी के मुताबिक़ इस ग़ज़ल की रदीफ़ ड़ते हुए मान ली जाए ? तो फिर

उम, बिछ, रग और ग में क्या राइमिंग है?  बताइएगा ज़रूर। सादर। 

Comment by Nilesh Shevgaonkar on September 12, 2020 at 10:22pm

आ. अमीरुद्दीन साहब,

इतनी लंबी बहस से बेहतर होता कि आप क़वाफी दुरुस्त कर लेते।

आपके क़वाफी में "ने" स्थायी है अतः वो रदीफ़ का हिस्सा बन गया है।

अब इसे हटा कर उठ और गिर में क्या राइमिंग है ये आप स्वयं तय कर सकते हैं।

सादर

Comment by अमीरुद्दीन 'अमीर' on September 12, 2020 at 10:03pm

मुहतरम जनाब हर्ष महाजन जी आदाब, ग़ज़ल पर आपकी आमद सुख़न नवाज़ी और हौसला अफ़ज़ाई के लिये बहुत बहुत शुक्रिया। 

जनाब इसमें कोई शक नहीं कि स्वस्थ परिचर्चा से बहुत कुछ सीखने को मिलता है आदरणीय, इस मंच की यही ख़ूबसूरती है। 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Rupam kumar -'मीत' commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post अब से झूटा इश्क़ नहीं करना जानाँ (-रूपम कुमार 'मीत')
"आदणीय सुशील सरना साहिब, हौसला अफ़ज़ाई और ग़ज़ल पर उपस्थिति के लिए हृदय तल से शुक्रिया करता हूँ।। बहुत…"
7 hours ago
Rupam kumar -'मीत' commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post अब से झूटा इश्क़ नहीं करना जानाँ (-रूपम कुमार 'मीत')
"आदरणीय सालिक सर्, हौसला बढ़ाने के लिए बहुत शुक्रिया ग़ज़ल पर आपकी उपस्थिति बालक के लिए बड़ी बात है।।…"
7 hours ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-123
"मुशायरा कामयाब बनाने के लिए सभी ग़ज़लकारों का धन्यवाद"
9 hours ago
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-123
"वाह वाह वाह  क्या ख़ूब कहा आदरणीय  Nilesh Shevgaonkar जी "देर आए दुरुस्त…"
9 hours ago
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-123
"हौसला अफजाई का बहुत शुक्रिया....आदरणीया Rachna Bhatia जी "
9 hours ago
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-123
"तहे दिल से शुक्रगुजार हूँ आपका... आदरणीय munish tanha साहब "
9 hours ago
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-123
"बहुत शुक्रिया आदरणीय "
9 hours ago
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-123
"आदरणीय dandpani nahak जी गज़ल में आपकी आमद और उसे मान देने का बहुत शुक्रिया ।"
9 hours ago
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-123
"बहुत आभार आदरणीय लक्ष्मण धानी साहब "
9 hours ago
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-123
"आदरणीय अमीरुद्दीन साहब हौसला अफ़ज़ाई का बहुत शुक्रिया ..."
9 hours ago
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-123
"आदरणीय समर साहब इस्लाह का बहुत शुक्रिया यकीनन गज़ल समय माँग रही है अभी इस पर काम करना बचा है 1-2 शेर…"
9 hours ago
Dayaram Methani replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-123
"आदरणीय समर कबीर जी, विस्तार से समझाने के लिए आभारी हूं। यहां केवल इतना निवेदन करना चाहता हूं…"
9 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service