For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

"हमे तुमसे कितनी मोहब्बत है"

मेरी जिन्दगी के साथी,
आज तुमको बताते है
की हमे तुमसे कितनी मोहब्बत है.........

जितना चाँद को है चकोर से,
जितना पपिहे को है ओस से,
जितना साँसो को है धड़कन से,
जितना प्यासे को है पानी से,
जितना नदी को है धारे से,
जितना कश्ती को है किनारे से,
जितना खुशबू को है फुल से,
जितना रास्ते को है धुल से,
जितना शमा को है परवाने से,
जितना दिवानी को है दिवाने से,
जितना शराबी को है मयखाने से,
जितना दरवेश को है दरगाह से,
जितना बन्दे को है खुदा से !!!!!!

Views: 320

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Kanchan Pandey on May 1, 2010 at 10:42am
Par muhabat hai kitani ? yey to pata hi nahi chala , Don't mind, I am joking, achha likha hai,
Comment by Sanjay Kumar Singh on April 28, 2010 at 10:03pm
जितना दिवानी को है दिवाने से,
जितना शराबी को है मयखाने से,
जितना दरवेश को है दरगाह से,
जितना बन्दे को है खुदा से !!!!!!
bahut khub, Muhabat sey labrej muhabat karney walo key liyey aek behtarin tohafa hai Raju jee, badhiya likhey hai,
Comment by Admin on April 28, 2010 at 8:44am
बहुत बढ़िया राजू भाई,आपने अच्छी तरह से अपने मोहब्बत को जताया है , अच्छा है, पहले से आप की लेखन की धार में बहुत ही सुधार आ रहा है, ऐसे ही लिखते रहिये अच्छा जा रहे है |

मुख्य प्रबंधक
Comment by Er. Ganesh Jee "Bagi" on April 26, 2010 at 10:24pm
wah bhai wah, aap to faire par faire kartey jaa rahey hai, aap apaney jindgi key sathi ko apaney jindgi sey bhi jyada pyar kartey hai bata diya hai apaney kavita mey, bahut badhiya, aap to chha gayey hai Raju bhai,
Comment by PREETAM TIWARY(PREET) on April 26, 2010 at 10:12pm
waah raju bhai bahut badhiya........raua ta ek par ek badhiya rachna likh ke dhamaka kar de rahal bani.......
हमे तुमसे कितनी मोहब्बत है.........

जितना चाँद को चकोर से,
जितना पपिहे को ओस से,
जितना साँसो को है धड़कन से,
जितना प्यासे को है पानी से,
bahut bahut badhiya baa..................

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

सालिक गणवीर posted blog posts
15 minutes ago
सालिक गणवीर commented on सालिक गणवीर's blog post कल कहा था आज भी कल भी कहो..( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"आदरणीय समर कबीर साहिब आदाब ग़ज़ल पर आपकी आमद और सराहना के लिये ह्रदय तल से आभार. नया मतला कहने की…"
41 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Sushil Sarna's blog post क्षणिकाएं : जिन्दगी पर
"आ. भाई सुशील सरना जी, सादर अभिवादन । अच्छी क्षणिकाएँ हुई हैं । हार्दिक बधाई ।"
50 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on DR ARUN KUMAR SHASTRI's blog post दिल्लगी
"आ. भाई अरुण कुमार जी, सादर अभिवादन । सुन्दर रचना हुई है । हार्दिक बधाई ।"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post शूल सम यूँ खुरदरे ही रह गये जीवन में सच-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. रचना बहन , सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति व सराहना के लिए धन्यवाद ।"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post शूल सम यूँ खुरदरे ही रह गये जीवन में सच-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई समर कबीर जी, सादर अभिवादन । आपकी उपस्थिति व स्नेह पाकर गजल मुकम्मल हुई । हार्दिक आभार ।"
1 hour ago
Rachna Bhatia commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post शूल सम यूँ खुरदरे ही रह गये जीवन में सच-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आदरणीय लक्ष्मण धामी ' मुसाफिर' जी बेहतरीन ग़ज़ल हुई। बधाई स्वीकार करें।"
2 hours ago
Samar kabeer commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post शूल सम यूँ खुरदरे ही रह गये जीवन में सच-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"जनाब लक्ष्मण धामी 'मुसाफ़िर' जी आदाब, ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है, बधाई स्वीकार करें ।"
3 hours ago
Samar kabeer commented on सालिक गणवीर's blog post धुआँ उठता नहीं कुछ जल रहा है..( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"जनाब सालिक गणवीर जी आदाब, ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है, बधाई स्वीकार करें । 'धुआँ उठता नहीं कुछ जल…"
3 hours ago
Samar kabeer commented on अजय गुप्ता's blog post ग़ज़ल (और कितनी देर तक सोयेंगें हम)
"जनाब अजय गुप्ता जी, ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है, और चर्चा भी अच्छी हुई, बधाई स्वीकार करें। अंतिम शैर…"
7 hours ago
Samar kabeer commented on DR ARUN KUMAR SHASTRI's blog post दिल्लगी
"जनाब डॉ. अरुण कुमार जी आदाब, अच्छी कविता लिखी आपने, बधाई स्वीकार करें । निवेदन है कि रचना के साथ…"
7 hours ago
Samar kabeer commented on Sushil Sarna's blog post क्षणिकाएं : जिन्दगी पर
"जनाब सुशील सरना जी आदाब, अच्छी क्षणिकाएँ हुई हैं, बधाई स्वीकार करें ।"
7 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service