For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

देशवासियों को बधाई.........सुशील का अभिनन्दन !

हरियाणा के लाल ने दिया ख़ूब परिणाम
सारे जग में कर दिया, हिन्दुस्तां का नाम
हिन्दुस्तां का नाम, रजत कुश्ती में पाया
लन्दन में जा भारत का दमख़म दिखलाया
देशवासियों!आज झूम के ढोल बजाणा
ओलम्पिक में चमका भारत का हरियाणा

जय हिन्द !
-अलबेला खत्री

Views: 362

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Albela Khatri on August 16, 2012 at 11:52pm

आदरणीय भाई जी,
एक ऑडियो/वीडियो  अल्बम  बाना रहा हूँ...उसके लिए कल मुम्बई में रेकॉर्डिंग है . थोड़ा सा व्यस्त हूँ..........लेकिन यहाँ आने का मोह नहीं छोड़ पाया...........

हा हा हा हा ओ बी ओ चीज ही ऐसी है .........इसके बिना अब रहा नहीं जाता .....साईट न हुई, महबूबा हो गई....हा हा हा

Comment by UMASHANKER MISHRA on August 16, 2012 at 11:37pm

अलबेला जी कहाँ हो आपके बिना .....ब्लड प्रेसर बड़ा हुवा है भाई आपके बिना ...सबकुछ निराश पूर्ण है

दर्शन दो द्वारकाधीश   .... हमारी अँखियाँ प्याशी रे ....................

Comment by Albela Khatri on August 16, 2012 at 7:30pm

भाई साहेब भागते भूत की लंगोटी ही सही.........कुछ तो हाथ लगा ....अपन तो संतोषी जीव हैं...थोड़े में ही ख़ुश हो लेते हैं  हा हा हा हा

आपने  ध्यान दिया ...आपको लाख लाख धन्यवाद

सादर

Comment by SURENDRA KUMAR SHUKLA BHRAMAR on August 16, 2012 at 6:42pm

आदरणीय अलबेला भाई जी  जय श्री राधे ..मेरी तरफ से भी सुशील जी को हार्दिक शुभ कामनाएं बड़ी तमन्ना से हम भी देख रहे थे पटखनिया लगातार जब जीते तो सब बोलने लग गए थे की अब कोई इन्हें हरा नहीं पायेगा लेकिन जापान चीन का जिमनास्ट और फुर्ती हमें शक में लपेटे थी और वही हो गया  

फिर भी बहुत सुन्दर हुआ लख लख बधाईयाँ   
भ्रमर ५ 
Comment by UMASHANKER MISHRA on August 13, 2012 at 11:19pm

ओलम्पिक- तो ऐसे शर्मनाक थी .....चलो नहीं मामा से काना मामा ही अच्छा है

वस्तुतः कुस्ती मेरा प्रिय खेल है इसलिए मुझे तो सुशील  कुमार पर नाज़ है

१०० करोड से अधिक आबादी वाले इस देश में खेल को नेताई राहुओं ने ग्रश रखा है

अपने अपने खलपट खिलाडियों को चुन कर भेज दिया लन्दन की सैर करने

देशवासियों!आज झूम के ढोल बजाणा
ओलम्पिक में चमका भारत का हरियाणा.... देशप्रेम प्रेम पूर्ण अभिव्यक्ति के लिए हार्दिक बधाई

Comment by कुमार गौरव अजीतेन्दु on August 13, 2012 at 12:55pm
अलबेला भैया का हर काम अनोखा।
हींग लगे न फिटकिरी, रंग चोखा।।
बधाई बड़े भैया।

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

dandpani nahak commented on dandpani nahak's blog post ग़ज़ल 2122 1212 22
"आदरणीय अमीरुद्दीन 'अमीर ' साहब आदाब आपका बहुत बहुत शुक्रिया आपने 'मुआहिदा ' से…"
2 hours ago
Chetan Prakash commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post ग़ज़ल (निगलते भी नहीं बनता उगलते भी नहीं बनता)
"अच्छी ग़ज़ल हुई, 'अमीर' साहब, बधाई ! हाँ, मतला, आपका अतिरिक्त ध्यान माँगता लगता है, शायद,…"
4 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post ग़ज़ल (निगलते भी नहीं बनता उगलते भी नहीं बनता)
"मुहतरमा रचना भाटिया जी आदाब, ग़ज़ल पर आपकी आमद, सुख़न नवाज़ी, हौसला अफ़ज़ाई और तनक़ीद के लिए बेहद…"
5 hours ago
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post दरवाजा (लघुकथा)
"आदरणीय तेजवीर सिंह जी हौसला बढ़ाने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।जी सही कहा आपने। आगे से ध्यान…"
7 hours ago
TEJ VEER SINGH commented on Rachna Bhatia's blog post दरवाजा (लघुकथा)
"हार्दिक बधाई आदरणीय रचना भाटिया जी।बहुत सुंदर संदेश प्रद लघुकथा।आपकी लघुकथा का प्रथम वाक्य दो…"
7 hours ago
Saarthi Baidyanath updated their profile
10 hours ago
Rachna Bhatia commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post ग़ज़ल (निगलते भी नहीं बनता उगलते भी नहीं बनता)
"आदरणीय अमीरुद्दीन'अमीर'जी आदाब। बेहतरीन ग़ज़ल हुई।बधाई। आदरणीय दूसरे शे'र में…"
10 hours ago
Rachna Bhatia posted a blog post

दरवाजा (लघुकथा)

" माँ,रोटी पर मक्खन तो रखा नहीं।हाँ,देती हूँ।" बेटे की रोटी पर मक्खन रखते हुए अचानक बर्तन माँजती…See More
16 hours ago
Sushil Sarna posted a blog post

गुज़रे हुए मौसम, ,,,

गुज़रे हुए मौसम, ,,,अन्तहीन सफ़र तुम और मैं जैसे ख़ामोश पथिक अनजाने मोड़ अनजानी मंजिल कसमसाती…See More
16 hours ago
डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव posted a discussion

ओबीओ लखनऊ-चैप्टर की साहित्य-संध्या माह सितंबर 2020 : एक प्रतिवेदन - नमिता सुंदर

 ओबीओ लखनऊ चैप्टर की ऑनलाइन मासिक साहित्य-संध्या, 20 सितंबर 2020 को अपराह्न 3 बजे प्रारंभ हुई । इस…See More
16 hours ago
मोहन बेगोवाल posted a blog post

बुआ का घर (लघुकथा )

वाहन मुख्य सड़क से उस गांव की सड़क पर आ गया, जिसे सर्वेक्षण के लिए चुना गया था।सारे राज में सरकार…See More
16 hours ago
Dr. Vijai Shanker posted a blog post

क्षणिकाएं — डॉ0 विजय शंकर

वाह जनतंत्र , कुर्सी स्वतंत्र , आदमी परतंत्र। कल कुर्सी पर था तो स्वतंत्र था , आज हट गया , परतंत्र…See More
16 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service