For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

चेतनाहीन

 

मैं

एक सपेरा हूँ , मदारी हूँ

कश्मीर से कन्या कुमारी , और –

गुजरात से अरुणाचल तक

दिल्ली

मेरी पिटारी है ।

बंद हैं इसमे काले विषधर साँप , बंदर

पर अफसोस –

ये गाँधीवादी नहीं

इनके आँख , कान और मुंह

सभी बंद हैं

क्यूँ कि ये अवसरवादी हैं ।

मैं गाँधी

एक सपेरा , मदारी !

खड़ा बजा रहा हूँ बीन

पर , अफसोस –

ये चेतनाहीन हो गए से लगते हैं ।

------- मौलिक एवं अप्रकाशित -------

Views: 161

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online


सदस्य कार्यकारिणी
Comment by गिरिराज भंडारी on April 6, 2014 at 1:21pm

आदरणीय ब्रह्मचारी भाई , वर्तमान पर बहुत लाजवाब रचना हुई है , आपको हार्दिक बधाइयाँ ॥

Comment by coontee mukerji on April 6, 2014 at 12:53pm

वाह भाई साहब क्या मदारी का मदारीपन दिखलाए है....अवसरवादी इनका पेशा है अन्यथा वह भूखा मर जाएगा.

Comment by Shyam Narain Verma on April 5, 2014 at 4:28pm
अच्छी प्रस्तुति आदरणीय ,बधाई ................
Comment by जितेन्द्र पस्टारिया on April 5, 2014 at 11:07am

बहुत करारा व्यंग, पढ़कर मजा आ गया. हार्दिक बधाई आपको

Comment by कल्पना रामानी on April 4, 2014 at 10:17pm

कसी हुई भाषा शैली में आपकी यह व्यंग्य रचना बहुत कुछ सोचने पर मजबूर करती है। हार्दिक बधाई आपको  

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Swastik Sawhney joined Admin's group
Thumbnail

English Literature

You can write English literature in this Group.See More
4 hours ago
Swastik Sawhney updated their profile
4 hours ago
Swastik Sawhney is now a member of Open Books Online
5 hours ago
Usha replied to Usha's discussion Friendship: A Bliss.. !!! in the group English Literature
"Respected Vijai Shanker Sir, Absolutely right Sir, Friendship's relationship is the bestest of…"
6 hours ago
Usha commented on Usha's blog post क्षणिकाएँ
"आदरणीय विजय शंकर सर, सही कहा आपने। मेरा प्रयास रहेगा की इन क्षणिकाओं को कविता का रूप देने का प्रयास…"
6 hours ago
Usha commented on Usha's blog post क्षणिकाएँ।
"आदरणीय लक्ष्मी धामी 'मुसाफिर' जी, क्षणिकायें आपको पसंद आयीं। हृदय से आभार। सादर। "
6 hours ago
Usha commented on Usha's blog post क्षणिकाएँ।
"आदरणीय विजय निकोरे जी, क्षणिकाओं पर बधाई प्रेषित करने हेतु आभार। सादर।"
6 hours ago
TEJ VEER SINGH commented on TEJ VEER SINGH's blog post उसूल - लघुकथा -
"हार्दिक आभार आदरणीय समर कबीर साहब जी। आदाब।"
6 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Sushil Sarna's blog post दो क्षणिकाएँ ...
"आ. भाई सुशील जी, सादर अभिवादन। सुंदर क्षणिकाएँ हुई हैं । हार्दिख बधाई ।"
6 hours ago
Samar kabeer commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की - उन  के बंटे जो  खेत तो  कुनबे बिखर गए
"जनाब निलेश 'नूर' साहिब आदाब,अच्छी ग़ज़ल हुई है,दाद के साथ मुबारकबाद पेश करता हूँ ।"
7 hours ago
Samar kabeer commented on TEJ VEER SINGH's blog post उसूल - लघुकथा -
"जनाब तेजवीर सिंह जी आदाब,बहुत अच्छी लघुकथा लिखी आपने, इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें ।"
7 hours ago
TEJ VEER SINGH commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की - उन  के बंटे जो  खेत तो  कुनबे बिखर गए
"हार्दिक बधाई आदरणीय नीलेश जी।बेहतरीन गज़ल। यादों की आँधियों ने रँगोली बिगाड़ दीबरसों जमे हुए थे वो…"
13 hours ago

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service