For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Er. Ganesh Jee "Bagi"'s Comments

Comment Wall (269 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 4:43pm on July 10, 2010, advocate mukund vyas said…
thank you sir
At 3:28pm on July 7, 2010, Vikash Kumar said…
Bahot Achhe
At 9:55am on June 21, 2010, Neelam Upadhyaya said…
Bahut bahut Dhanyawaad Ganesh ji.
At 10:03pm on June 19, 2010, Shyamal Suman said…
मित्र गनेश जी
धन्यवाद टिप्पणी का
कृपया स्नेह बनाए रक्खे
(गुड्डोदादी और अनूप जी की सहायता का योग है )
At 1:47pm on June 10, 2010, Vikash Kumar said…
बहुत बहुत ध्न्यवाद बागी जी.
At 10:28am on June 9, 2010, Prabhakar Pandey said…
सादर धन्यवाद। बड़े भाई।।
At 1:39pm on June 5, 2010, Kanchan Pandey said…
Thanks Ganesh jee
At 9:24am on June 2, 2010, baban pandey said…
गणेश जी "बागी" बागी लगाने के कारणों का उल्लेख करे ...
At 11:29am on May 29, 2010, guddo dadi said…
गणेश जी
सदा सुखी रहो
चित्र देख रही थी
सभी अच्छे लगे
पर उनमे गुण की चित्र नहीं होने चाहिए
एक सुझाव
At 7:12pm on May 26, 2010, PREETAM TIWARY(PREET) said…

At 11:03am on May 26, 2010, abha sinha said…
THANKS
At 10:59pm on May 20, 2010, PREETAM TIWARY(PREET) said…
ganesh bhaiya raua se nihora baa ki raua jaun gaana ke video humra profile me daal dele bani okra ke humra mail par bhi bhej dee...plzzzz//....hum aapan dost log ke bhi bheje ke chahat bani.......
At 5:27pm on May 12, 2010, Satyendra Kumar Upadhyay said…
raur bahut bahut dhanyabad, Bhai ji
At 6:29pm on May 9, 2010, asha pandey ojha said…
लबों पर उसके कभी बददुआ नहीं होती,
बस एक माँ है जो कभी खफ़ा नहीं होती।

इस तरह मेरे गुनाहों को वो धो देती है
माँ बहुत गुस्से में होती है तो रो देती है।

मैंने रोते हुए पोछे थे किसी दिन आँसू
मुद्दतों माँ ने नहीं धोया दुप्पट्टा अपना।

अभी ज़िंदा है माँ मेरी, मुझे कुछ भी नहीं होगा,
मैं घर से जब निकलता हूँ दुआ भी साथ चलती है।

जब भी कश्ती मेरी सैलाब में आ जाती है,
माँ दुआ करती हुई ख्वाब में आ जाती है।

ऐ अंधेरे देख ले मुंह तेरा काला हो गया,
माँ ने आँखें खोल दी घर में उजाला हो गया।

मेरी ख़्वाहिश है कि मैं फिर से फरिश्ता हो जाऊं
मां से इस तरह लिपट जाऊँ कि बच्चा हो जाऊँ।

मुनव्वर‘ माँ के आगे यूँ कभी खुलकर नहीं रोना
जहाँ बुनियाद हो इतनी नमी अच्छी नहीं होती

) MUNNAVAR RANA (
At 10:21am on May 4, 2010, PREETAM TIWARY(PREET) said…
janamdin ke bahut bahut badhai ganesh bhaiya......
At 9:35am on May 4, 2010, SUMAN KUMAR SINGH said…
thanks Ganesh Jee
At 5:10pm on May 3, 2010, asha pandey ojha said…
Ganesh ji mere koi bhai hee nahee hai aap ne to mera bahut maan kiya itna bda karj chka paaungee ya nahee pata nahee ..sach kahun mera man bhar aaya hai ,..!bhgwaan se prarthna hai ye rishta umr bhar nibha sakun ..!
At 4:31pm on May 3, 2010, asha pandey ojha said…
mujhe yahan join karke sach much bahut achchha lga bahut kuch sikhne ko mil raha hai ..!
At 4:29pm on May 3, 2010, asha pandey ojha said…
aap sabhee ka the dil se shukriya ..!
At 12:33pm on May 1, 2010, Admin said…

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on SALIM RAZA REWA's blog post कैसे कहें की इश्क़ ने क्या क्या बना दिया - सलीम 'रज़ा'
"आ. भाई सलीम जी, उम्दा गजल हुई है । हार्दिक बधाई।"
24 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on SALIM RAZA REWA's blog post अपने हर ग़म को वो अश्कों में पिरो लेती है - सलीम 'रज़ा'
"आ. भाई सलीम जी, इस बेहतरीन मार्मिक ग़ज़ल के लिए हार्दिक बधाई।"
30 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Mahendra Kumar's blog post ग़ज़ल : ख़ून से मैंने बनाए आँसू
"ख. भाई महेंद्र जी, उम्दा गजल हुई है हार्दिक बधाई।"
32 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on प्रदीप देवीशरण भट्ट's blog post प्रकृति मेरी मित्र
"आ. भाई प्रदीप जी, अच्छी रचना हुई है । हार्दिक बधाई।"
34 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post कठिन बस वासना से पार पाना है-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'( गजल )
"आ. भाई विजय शंकर जी, सादर अभिवादन। गजल पर उपस्थिति और उत्साहवर्धन के लिए आभार।"
36 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post सदमे में है बेटियाँ चुप बैठे हैं बाप - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई विजय शंकर जी, सादर अभिवादन। दोहों पर उपस्थिति और उत्साहवर्धन के लिए आभार।"
37 minutes ago
Admin posted discussions
11 hours ago
Admin added a discussion to the group चित्र से काव्य तक
Thumbnail

"ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 104

आदरणीय काव्य-रसिको,सादर अभिवादन ! ’चित्र से काव्य तक’ छन्दोत्सव का यह आयोजन लगातार क्रम में इस…See More
11 hours ago
Mahendra Kumar commented on Mahendra Kumar's blog post ग़ज़ल : ख़ून से मैंने बनाए आँसू
"बहुत-बहुत शुक्रिया आदरणीय समर कबीर सर। हृदय से आभारी हूँ। सादर आदाब।"
12 hours ago
डॉ छोटेलाल सिंह commented on डॉ छोटेलाल सिंह's blog post आक्रोश
"परमादरणीय समर साहब जी सादर अभिवादन आपके उत्साह वर्धन से मन प्रसन्न हुआ,दोहा छंद में लिखी मेरी रचना…"
15 hours ago
Samar kabeer commented on प्रदीप देवीशरण भट्ट's blog post प्रकृति मेरी मित्र
"जनाब प्रदीप जी आदाब,अच्छी रचना हुई है,बधाई स्वीकार करें ।"
16 hours ago
Samar kabeer commented on डॉ छोटेलाल सिंह's blog post आक्रोश
"जनाब डॉ. छोटेलाल सिंह जी आदाब,अच्छी रचना हुई है,बधाई स्वीकार करें । कृपया रचना के साथ उसकी विधा भी…"
16 hours ago

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service