For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

फिल्म दलदल हेतु गीत चाहिए...

 

आदरणीय ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के सदस्यों, जैसा की आप सभी को पता है कि मैं बालीवूड के कलाकारों को लेकर एक हिंदी फ़िल्म जागरण फिल्म्स के बैनर तले "दलदल" बनाने जा रहा हूँ , इस फ़िल्म के कई गीतों की रेकॉर्डिंग हो गई है |
एक गीत मुजरा हेतु चाहिए, आप अपनी रचना मेरे इ मेल आई डी jagranfilm@gmail.com या ravikumarguru@india.com पर भेज सकते है, जिस रचना का चयन किया जायेगा उस रचनाकार को उचित पारिश्रमिक दिया जायेगा तथा गीतकार के रूप में फ़िल्म में जगह दिया जायेगा |
दृश्य कुछ इस प्रकार है ..................
एक युवा लड़की जो पूर्व में एक फ़िल्म में बाल कलाकार के रूप में काम कर चुकी है उसको उसके अपनों के द्वारा ही कोठे पर पैसो के लालच में पंहुचा दिया जाता है, वहा पर उसका दैहिक और मानसिक शोषण होता है | वो लड़की कोठा पर मुजरा करती है | लड़की मुजरे के द्वारा अपने दर्द को व्यक्त करना चाहती है |


 

रवि कुमार गुरु


सीईओ


जागरण फिल्म्स


(प्रबंधक ओ बी ओ की अनुमति से)

Views: 3073

Reply to This

Replies to This Discussion

Hello Sir , Though I m a Model , still I do write some songs, so here it is 4 U:

Ek pal ka tera maza , meri sari javani , Tere naam mera Gulabi Badan Mere naam katon ki sej sahi,........................

 

ye kotha toh hai ek daldal  , dhaste hi  ja rahi hun jitna nikalna mei chahu utna hi fasti mai ja rahi hu

Mera nasha hai Jism ka pyaala , Isne masumiyat ko bachpan me  jala dala,

Kothe ki  Daulat ne mujhko hai paala, mere badan ki aisi hai Jwala, loot na sake koi daulatwala.

 

Ek pal ka tera maza , meri sari javani , Tere naam mera Gulabi Badan Mere naam katon ki sej sahi,........................

 

dekhen hai duniya me daulatwale kai , lekin nahi koi dilwala , chahat badan ki hai sabko magar, koi nahi hai hamko chahnewala, Jo chahat ke daldal me mujhko fasale aisa nahi koi dilwala.

Milega woh sathi kahan , jiski banoongi deewani, Kitne me karloonjatan , ek din mile der saver sahi..............

Ek pal ka tera maza , meri sari javani , Tere naam mera Gulabi Badan Mere naam katon ki sej sahi,........................

Ek pal ka tera maza , meri sari javani , Tere naam mera Gulabi Badan Mere naam katon ki sej sahi,........................

 

 

 

रवि जी, दुःख की घड़ी में  ईश्वर आपको और आपके पूरे परिवार को ये दुख सहने की शक्ति दे और आपके चाचा जी की आत्मा को शांति प्रदान करे।

यह घोषणा करते हुए हमें ख़ुशी हो रही हैं की OBO सदस्यों द्वारा भेजा गया मुजरा के लिए गीत का चुनाव हो गया हैं, जागरण फिल्म्स के सदस्यों द्वारा चयनित गीत के गीतकार हैं OBO सदस्य शकूर खान जी, जो मोतिहारी बिहार से हैं |

 

रवि कुमार गुरु

सीईओ

जागरण फिल्म्स

 

गुरु जी आपका गीत चयन का प्रयास रंग लाया ख़ुशी हुई , इस मंच का सार्थक उपयोग भी इस नाते  हुआ !! शकूर जी को बहुत बधाई और शुभकामनाएं !! 

शुभकामनाएँ.

बधाई शकूर खान जी 
आपके गीत के बोल सचमुच मदहोश करने वाले  हैं ,
"मदहोश नजर के खंजर से , मदहोश जवानी दिखती हैं ,
मुमकिन हो अँधेरी रात सही , दोनों की निगाहे मिलती हैं "

बधाई हो गुरूजी, आपके फिल्म दलदल के लिए आपको गीत मिल चुका है ,आपके फिल्म के सफल निर्देशन और आगामी प्रदर्शन के लिए अतेन्द्र की तरफ से हार्दिक शुभकामनाएं -------

                     अतेन्द्र कुमार सिंह "रवि" 

 

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

धर्मेन्द्र कुमार सिंह posted a blog post

जो कहता है मज़ा है मुफ़्लिसी में (ग़ज़ल)

1222 1222 122-------------------------------जो कहता है मज़ा है मुफ़्लिसी मेंवो फ़्यूचर खोजता है लॉटरी…See More
9 hours ago
Sushil Sarna posted a blog post

दोहा सप्तक. . . सच-झूठ

दोहे सप्तक . . . . . सच-झूठअभिव्यक्ति सच की लगे, जैसे नंगा तार ।सफल वही जो झूठ का, करता है व्यापार…See More
9 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर posted a blog post

बालगीत : मिथिलेश वामनकर

बुआ का रिबनबुआ बांधे रिबन गुलाबीलगता वही अकल की चाबीरिबन बुआ ने बांधी कालीकरती बालों की रखवालीरिबन…See More
9 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर commented on Sushil Sarna's blog post दोहा सप्तक ..रिश्ते
"आदरणीय सुशील सरना जी, बहुत बढ़िया दोहावली। इस प्रस्तुति हेतु हार्दिक बधाई। सादर रिश्तों के प्रसून…"
9 hours ago
Ashok Kumar Raktale replied to Admin's discussion 'ओबीओ चित्र से काव्य तक' छंदोत्सव अंक 156 in the group चित्र से काव्य तक
"  आदरणीय सौरभ जी सादर प्रणाम, प्रस्तुति की सराहना के लिए आपका हृदय से आभार. यहाँ नियमित उत्सव…"
yesterday
Ashok Kumar Raktale replied to Admin's discussion 'ओबीओ चित्र से काव्य तक' छंदोत्सव अंक 156 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीया प्रतिभा पाण्डे जी सादर, व्यंजनाएँ अक्सर काम कर जाती हैं. आपकी सराहना से प्रस्तुति सार्थक…"
yesterday
Hariom Shrivastava replied to Admin's discussion 'ओबीओ चित्र से काव्य तक' छंदोत्सव अंक 156 in the group चित्र से काव्य तक
"आपकी सूक्ष्म व विशद समीक्षा से प्रयास सार्थक हुआ आदरणीय सौरभ सर जी। मेरी प्रस्तुति को आपने जो मान…"
yesterday

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey replied to Admin's discussion 'ओबीओ चित्र से काव्य तक' छंदोत्सव अंक 156 in the group चित्र से काव्य तक
"आपकी सम्मति, सहमति का हार्दिक आभार, आदरणीय मिथिलेश भाई... "
yesterday

सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर replied to Admin's discussion 'ओबीओ चित्र से काव्य तक' छंदोत्सव अंक 156 in the group चित्र से काव्य तक
"अनुमोदन हेतु हार्दिक आभार सर।"
yesterday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion 'ओबीओ चित्र से काव्य तक' छंदोत्सव अंक 156 in the group चित्र से काव्य तक
"आ. भाई सौरभ जी, सादर अभिवादन।दोहों पर उपस्थिति, स्नेह और मार्गदर्शन के लिए बहुत बहुत आभार।"
yesterday

सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर replied to Admin's discussion 'ओबीओ चित्र से काव्य तक' छंदोत्सव अंक 156 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीय सौरभ सर, आपकी टिप्पणियां हम अन्य अभ्यासियों के लिए भी लाभकारी सिद्ध होती रही है। इस…"
yesterday

सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर replied to Admin's discussion 'ओबीओ चित्र से काव्य तक' छंदोत्सव अंक 156 in the group चित्र से काव्य तक
"हार्दिक आभार सर।"
yesterday

© 2024   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service