For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Ketan Kamaal
  • Male
  • Mumbai
  • India
Share

Ketan Kamaal's Friends

  • Hari Prakash Dubey
  • harivallabh sharma
  • MAHIMA SHREE
  • Rana Pratap Singh
 

Ketan Kamaal's Page

Latest Activity

ajay sharma commented on Ketan Kamaal's blog post ग़ज़ल बदला बदला सा घर नज़र आया।
"bahut hi khoob gazal kahi hai ketan saab ...............baki .....matra girana aur uthana meri samajh ke bahar hai ...man ko jo bhi aachha lage mere lihaz see vohi zyada behtar aur sunder hota haia ...gazal ki tachnicality to gurujan zyada achha hi…"
Dec 26, 2014
Anurag Prateek commented on Ketan Kamaal's blog post ग़ज़ल बदला बदला सा घर नज़र आया।
"2122- 1212-  22 बदला बदला सा घर नज़र आया। जब कभी मैं कही से घर आया।-- बहुत खूब  बस तुझे देखती रही आँखें। ( रहीं )हर तरफ तू ही तू नज़र आया।-- अच्छा है  छोड़ कर कश्तियाँ किनारे पर। बीच दरिया में डूब कर आया।-- लहज़ा अटपटा…"
Dec 22, 2014
Rahul Dangi commented on Ketan Kamaal's blog post ग़ज़ल बदला बदला सा घर नज़र आया।
"बहुत सुन्दर वाह!"
Dec 10, 2014

प्रधान संपादक
योगराज प्रभाकर commented on Ketan Kamaal's blog post ग़ज़ल : खुदा से पूछता ये बात कब तक।
"खूबसूरत ग़ज़ल हुई है भाई केतन कमाल जी, दिली दाद हाज़िर है।"
Dec 10, 2014

प्रधान संपादक
योगराज प्रभाकर commented on Ketan Kamaal's blog post ग़ज़ल बदला बदला सा घर नज़र आया।
"//यूँ हज़ारो हैं ऐब तुझमे भी। याद मुझको तेरा हुनर आया।// वाह वाह वाह !! क्या ही दनिश्वराना ख्याल है केतन कमाल साहिब, वाह। बाकी अशआर भी दिल छूने वाले हुए हैं। हार्दिक बधाई स्वीकार करें।"
Dec 10, 2014

सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर commented on Ketan Kamaal's blog post ग़ज़ल बदला बदला सा घर नज़र आया।
"अच्छी ग़ज़ल के लिए बधाई  बेहतरीन शेर  यूँ हज़ारो हैं ऐब तुझमे भी। याद मुझको तेरा हुनर आया।"
Dec 9, 2014
Ketan Kamaal's blog post was featured

ग़ज़ल बदला बदला सा घर नज़र आया।

2122 12 12 22बदला बदला सा घर नज़र आया। जब कभी मैं कही से घर आया।बस तुझे देखती रही आँखें। हर तरफ तू ही तू नज़र आया।छोड़ कर कश्तियाँ किनारे पर। बीच दरिया में डूब कर आया।यूँ हज़ारो हैं ऐब तुझमे भी। याद मुझको तेरा हुनर आया।नींद गहरी हुई फिर आज "कमाल"। ख्वाब उसका ही रात भर आया।मौलिक एवम अप्रकाशित केतन "कमाल"See More
Dec 3, 2014
Ketan Kamaal commented on harivallabh sharma's blog post ग़ज़ल: लौ मचलती रही.
"Abhi Kahan Kaafi kamzor hai koshish achchi hai kahi kahi sentence adhure lag rahe hai  Jaise yaha  बादियों में दिखी, ओस बूँदें सहर, AUS KI aana chahiye jo nahin aaya jo achche shayar hai unhe khoob padhiye aur unhone jis tarah se sher…"
Nov 29, 2014
Ketan Kamaal commented on Neeraj Mishra "प्रेम"'s blog post गजल - "एक तरफा प्यार की ये बेबसी मत पूछिये"
"waaaaah"
Nov 29, 2014
Ketan Kamaal commented on Ketan Kamaal's blog post ग़ज़ल बदला बदला सा घर नज़र आया।
"Shukriya Meena Pathak Ji aapka Nawazish"
Nov 25, 2014
Meena Pathak commented on Ketan Kamaal's blog post ग़ज़ल बदला बदला सा घर नज़र आया।
"अति सुन्दर ..बधाई "
Nov 25, 2014
Ketan Kamaal commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post आँख का आँसू हॅसेगा - (ग़ज़ल ) -लक्ष्मण धामी ‘मुसाफिर’
"bahut hi pyaari ghazal kahi hai bhai Daaad qabool Farmaye "
Nov 25, 2014
Ketan Kamaal commented on Ketan Kamaal's blog post ग़ज़ल बदला बदला सा घर नज़र आया।
"Shukriya Rajesh Kumari Ji Ram Pathak Bhai Shukriya aapka "
Nov 25, 2014
ram shiromani pathak commented on Ketan Kamaal's blog post ग़ज़ल बदला बदला सा घर नज़र आया।
"वाह केतन भाई बहुत खूब।।"
Nov 25, 2014
Ketan Kamaal commented on CHANDRA SHEKHAR PANDEY's blog post ग़ज़ल
"Zindabad Zindabad Mere bhai Chandra Shekhar Pandey JI kya kahne "
Nov 25, 2014
Ketan Kamaal commented on Shyam Narain Verma's blog post यार बैरी बना आशिकी के लिये |
"Bahut achche sujhaav diye hai Ganesh Ji ne waaah achchi koshish hai sahab kahte rahiye qamyabi milegi zaroor duaa karta hun "
Nov 25, 2014

Profile Information

Gender
Male
City State
Mumbai
Native Place
Indore
Profession
Writter

Ketan Kamaal's Blog

ग़ज़ल बदला बदला सा घर नज़र आया।

2122 12 12 22

बदला बदला सा घर नज़र आया।
जब कभी मैं कही से घर आया।

बस तुझे देखती रही आँखें।
हर तरफ तू ही तू नज़र आया।

छोड़ कर कश्तियाँ किनारे पर।
बीच दरिया में डूब कर आया।

यूँ हज़ारो हैं ऐब तुझमे भी।
याद मुझको तेरा हुनर आया।

नींद गहरी हुई फिर आज "कमाल"।
ख्वाब उसका ही रात भर आया।

मौलिक एवम अप्रकाशित
केतन "कमाल"

Posted on November 24, 2014 at 5:15pm — 21 Comments

ग़ज़ल : खुदा से पूछता ये बात कब तक।

1222/1222/122

खुदा से पूछता ये बात कब तक।

कि सुधरेंगे मिरे हालात कब तक।।

मैं शर्मा हूँ कि वर्मा हूँ कि क्या हूँ

भला पूछोगे मेरी ज़ात कब तक।।

ज़माने कम से कम ये तो बता दे।

मुझे मिलती रहेगी मात कब तक।।

उजालों से हमेशा पूछता हूँ।

रहेगी ये अँधेरी रात कब तक।।

मेरे आकाश से होती रहेगी।

सुनो तेज़ाब की बरसात कब तक।।

वो देखेगा मुझे मुड कर कभी क्या।

वो समझेगा मिरे जज़्बात कब…

Continue

Posted on September 3, 2014 at 7:30pm — 17 Comments

Comment Wall

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

  • No comments yet!
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity


सदस्य कार्यकारिणी
rajesh kumari posted a blog post

एक रदीफ़ पर दो ग़ज़लें "छत पर " (गज़ल राज )

१.हास्य उठाई है़ किसने ये दीवार छत पर  अब आएगा कैसे  मेरा यार छत पर  अगर उसके वालिद  का ये काम…See More
4 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
rajesh kumari commented on rajesh kumari's blog post लंगडा मज़े में है (हास्य व्यंग ग़ज़ल 'राज')
"आद० फूल सिंह जी हार्दिक आभार बहुत बहुत शुक्रिया "
5 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
rajesh kumari commented on rajesh kumari's blog post लंगडा मज़े में है (हास्य व्यंग ग़ज़ल 'राज')
"आद० नरेन्द्र सिंह जी आपका बहुत बहुत शुक्रिया "
5 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani added a discussion to the group बाल साहित्य
Thumbnail

'अब तुम्हारे हवाले ... बहिनों' ( संस्मरण)

उन दोनों की मैं बहुत शुक्रगुजार हूं। बताऊं क्यूं? क्योंकि इस बार के गणतंत्र दिवस में उन दोनों ने…See More
5 hours ago
डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव posted a discussion

लेखन में आत्ममुग्धता की बढ़ती प्रवृत्ति और उसके खतरे-एक परिचर्चा /// प्रस्तुति – डॉ. गोपाल नारायण श्रीवास्तव

 भारतीय संस्कृति में विनम्रता का महत्वपूर्ण स्थान रहा है I अपनी  तारीफ सुनकर आज भी विनम्र लोग शील…See More
7 hours ago
Naveen Mani Tripathi posted a blog post

ग़ज़ल

1212     1122     1212     …See More
7 hours ago
Manoj kumar Ahsaas posted a blog post

एक ग़ज़ल मनोज अहसास

कहते हैं देख लेता है नजरों के पार तूमेरी तरफ भी देख जरा एक बार तूहर बार मान लेता हूं तेरी रजा को…See More
7 hours ago
Sushil Sarna posted blog posts
7 hours ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' posted blog posts
7 hours ago
Asif zaidi replied to Tilak Raj Kapoor's discussion ग़ज़ल-संक्षिप्‍त आधार जानकारी-1 in the group ग़ज़ल की कक्षा
"मोहतरम जनाब तिलक राजकपूर जी आदाब शुक्रगुज़ार हूँ, आपकी कक्षा ज्वॉइन करके बहुत आसान तरीक़े से समझाया…"
10 hours ago
Asif zaidi commented on दिनेश कुमार's blog post ग़ज़ल -- नेकियाँ तो आपकी सारी भुला दी जाएँगी / दिनेश कुमार
"मोहतरम जनाब समर कबीर साहब आदाब बहुत शुक्रिया, ग़लती के लिए दिनेश कुमार जी से माफ़ी चाहुंगा, ओबीओ…"
11 hours ago
Asif zaidi commented on क़मर जौनपुरी's blog post गज़ल
"मोहतरम जनाब  क़मर जौनपुरी साहब बहुत ख़ूब, मोहतरम समर कबीर साहब की इस्लाह इसमे और ख़ूबसूरती…"
11 hours ago

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service