For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

विजय कुमार अग्रहरि 'आलोक'
  • Male
  • लखनऊ
  • India
Share

विजय कुमार अग्रहरि 'आलोक''s Friends

  • योगराज प्रभाकर
 

विजय कुमार अग्रहरि 'आलोक''s Page

Profile Information

Gender
Male
City State
लखनऊ
Native Place
इलाहाबाद
Profession
अध्यापन
About me
ईश्वर ने बहुत कुछ छीन लिया है. या यूं कहूं बहुत कुछ इकट्ठा दे दिया है. अब मै एक दूसरी ही शख्सियत हूं. जी हां दोस्तों, 2008 में अचानक ब्रेन हैमरेज से पहले मै जिन्दगी को एक अलग अन्दाज से देखा करता था. मेरे पास पूरा अख्तियार था मेरे अपने शरीर पर.पर अब दिमाग की बात दाहिना पार्श्व नही मानता. कविता आवेग तो लेती है दिमाग में, उसी परिचित अन्दाज में, पर उंगलियां उन्हें लय नही देती. संगीत खामोश हो गया है. कल कितने आसानी से तारों से खेला करती थीं वे उंगलियां. आज सितार सिरहाने पडा है. मेरे मन का, मै ही तो गा सकता हूं न. पर एक दूसरा नजरिया भी है. अब सब कुछ मेरे लिए 'बांए हाथ का खेल' है. ये बांए हाथ का खेल है तो कठिन पर मै स्टीफ़न हाकिन्स और अरुणिमा सिन्हा को भी पहचानता हूं.

विजय कुमार अग्रहरि 'आलोक''s Blog

कृष्ण तुमने छल किया है

कृष्ण तुमने छल किया है.

छलिया हो तुम

सारी दुनिया को काम पर लगा दिया

कह कर ‘कर्मण्येवाधिकारस्ते’.

 

फ़ल की आशा किससे न करे?

तुमसे?

चलो, तुम तो सखा हो

मीत को सताना तुम्हारा हक है.

प्रेम भी तो करते हो.

पर तुम्हारे जो ये कारिन्दें है न,

जीना मुश्किल कर दिया है.

हक मांगने जाओ, तो तुम्हारी बात दुहराते हैं.

अब, तुम तो आओगे नही

हमसे काम लेने.

वैसे तुम्हारा काम तो मै बिना दाम भी कर देता.

तुम…

Continue

Posted on September 9, 2016 at 8:30pm — 2 Comments

Comment Wall (1 comment)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 5:12pm on August 24, 2015,
सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर
said…

स्वागत अभिनन्दन 

ग़ज़ल सीखने एवं जानकारी के लिए

 ग़ज़ल की कक्षा 

 ग़ज़ल की बातें 

 

भारतीय छंद विधान से सम्बंधित जानकारी  यहाँ उपलब्ध है

|

|

|

|

|

|

|

|

आप अपनी मौलिक व अप्रकाशित रचनाएँ यहाँ पोस्ट (क्लिक करें) कर सकते है.

और अधिक जानकारी के लिए कृपया नियम अवश्य देखें.

ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतुयहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

 

ओबीओ पर प्रतिमाह आयोजित होने वाले लाइव महोत्सवछंदोत्सवतरही मुशायरा वलघुकथा गोष्ठी में आप सहभागिता निभाएंगे तो हमें ख़ुशी होगी. इस सन्देश को पढने के लिए आपका धन्यवाद.

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Nilesh Shevgaonkar commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की--ये अजब क़िस्सा रहा है ज़िन्दगी में
"शुक्रिया आ. मण्डल जी "
41 minutes ago
Nilesh Shevgaonkar commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की--ये अजब क़िस्सा रहा है ज़िन्दगी में
"शुक्रिया आ. समर सर "
41 minutes ago
Nilesh Shevgaonkar commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की--ये अजब क़िस्सा रहा है ज़िन्दगी में
"शुक्रिया आ. सलीम साहब "
41 minutes ago
Nilesh Shevgaonkar commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की--ये अजब क़िस्सा रहा है ज़िन्दगी में
"शुक्रिया आ. अजय तिवारी जी ..दरअसल दो तरह के मिसरे दिमाग में थे,,पढ़ा कुछ, गुनगुनाया कुछ और उँगलियों…"
42 minutes ago
Nilesh Shevgaonkar commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की--ये अजब क़िस्सा रहा है ज़िन्दगी में
"शुक्रिया आ. मोहम्मद आरिफ साहब"
43 minutes ago
anjali gupta is now a member of Open Books Online
47 minutes ago
विनय कुमार posted a blog post

जुनून--लघुकथा

बस आज की रात निकल जाए किसी तरह से, फिर सोचेंगे, यही चल रहा था उसके दिमाग में| दिन तो किसी तरह कट…See More
49 minutes ago
विनय कुमार commented on Manan Kumar singh's blog post विमोचन(लघु कथा)
"साहित्य की वर्तमान हालात को बयां करती बढ़िया रचना, बहुत बहुत बधाई आपको"
1 hour ago
Samar kabeer commented on Manan Kumar singh's blog post ब्रेन वाश(लघु कथा)
"जनाब मनन कुमार सिंह जी आदाब,बहुत उम्दा लघुकथा लिखी,आजकल आपकी लघुकथाएं दिल को छूने वाली हो रही…"
1 hour ago
Samar kabeer commented on Mahendra Kumar's blog post विद्वता के पैमाने /लघुकथा
"जनाब महेन्द्र कुमार जी आदाब,बहुत उम्दा और प्रभावित करने वाली लघुकथा लिखी आपने,आपकी लघुकथाएं मुझे…"
1 hour ago
surender insan posted blog posts
1 hour ago
सतविन्द्र कुमार posted a blog post

बहाने पर ज़माना चल रहा है-ग़ज़ल

1222 1222 122बहाना ही बहाना चल रहा हैबहाने पर ज़माना चल रहा हैबदलना रंग है फ़ितरत जहाँ कीअटल सच पर…See More
1 hour ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service