For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

शब्दों में खोकर कहते तुम

वाह ! यह कविता अच्छी है

या हँसकर कहते..

ओह ! क्या है यह? क्या तू बच्ची है ?

 

 

मेरे शब्दों में अपनी छवि

देख तुम इतराते !

नासमझ बनने की कोशिश में

बार बार हार जाते !

 

 

इन शब्दों में होता इन्द्रधनुषी रंग

ये शब्द सुर की सरिता में नहाते

या  ये शब्द मुस्कान बिखेरते

तुम होते तो ये शब्द कविता बन जाते !

 

 

आज पास नहीं हो तुम मेरे

अगर कुछ पास है तो है

कुछ बिखरे शब्द,बिखरी-सी मैं

और इन पन्नो पर कुछ बिखरे मोती !!

 

Views: 198

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Anwesha Anjushree on October 10, 2011 at 7:22pm

Ganesh ji BAgi and Saurabh ji..der se reply ke liye maaf kare..main nayi hu aur open book me abhi kaafi kuchh samajh nahi aata...reply karne me der ho gayi..aap ko achcha laga..eska bahut bahut dhanyawad

Comment by Anwesha Anjushree on September 29, 2011 at 4:43pm

आशीष यादव जी, गणेश जी ,सौरभ जी आपने मेरी कविता पढ़ी और पसंद किया, धन्यवाद

Comment by आशीष यादव on September 27, 2011 at 11:46pm

एक सुन्दर रचना, भाव बहुत सुन्दर लगा  मुझे|

इन शब्दों में होता इन्द्रधनुषी रंग

ये शब्द सुर की सरिता में नहाते

या  ये शब्द मुस्कान बिखेरते

तुम होते तो ये शब्द कविता बन जाते !

 

कुछ विरह की तरफ इशारा करती दिख रही कविता| एक भावना पूर्ण कविता है|


मुख्य प्रबंधक
Comment by Er. Ganesh Jee "Bagi" on September 27, 2011 at 11:31pm
आज पास नहीं हो तुम मेरे

अगर कुछ पास है तो है

कुछ बिखरे शब्द,बिखरी-सी मैं

और इन पन्नो पर कुछ बिखरे मोती !!


वाह ! यह कविता अच्छी है, सचमुच अच्छी है अन्वेषा जी, शब्द को काव्य , काव्य में कथ्य और कथ्य से सौंदर्य बाखूबी पिरोया है, बहुत ही खुबसूरत अभिव्यक्ति है, बधाई स्वीकार करे आदरणीया |

सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Saurabh Pandey on September 27, 2011 at 10:12pm

क्या कुछ खोया, क्या कुछ पाया,

अल्हड़ जीवन की उड़ान की खुशफहमीवाली छाया .. .

 

//मेरे शब्दों में अपनी छवि

देख तुम इतराते !

नासमझ बनने की कोशिश में

बार बार हार जाते ! //

बहुत सुन्दर दशा-चित्रण !!

अन्वेशा अन्जुश्रीजी, आपकी इस भावनमय रचना को मेरी ढेर सारी शुभकामनाएँ..

Comment by Anwesha Anjushree on September 27, 2011 at 4:51pm

Thanks dear..Subhash :)

Comment by Subhash Trehan on September 27, 2011 at 4:48pm

गर रस्ता बदलना हो तो कुछ मुश्किल नहीं है जाना,

बडा सादा सा ज़ुम्ला है, "सितारे मिल नहीं सकते।

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on DR ARUN KUMAR SHASTRI's blog post दिल्लगी
"आ. भाई अरुण कुमार जी, सादर अभिवादन । सुन्दर रचना हुई है । हार्दिक बधाई ।"
59 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post शूल सम यूँ खुरदरे ही रह गये जीवन में सच-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. रचना बहन , सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति व सराहना के लिए धन्यवाद ।"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post शूल सम यूँ खुरदरे ही रह गये जीवन में सच-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई समर कबीर जी, सादर अभिवादन । आपकी उपस्थिति व स्नेह पाकर गजल मुकम्मल हुई । हार्दिक आभार ।"
1 hour ago
Rachna Bhatia commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post शूल सम यूँ खुरदरे ही रह गये जीवन में सच-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आदरणीय लक्ष्मण धामी ' मुसाफिर' जी बेहतरीन ग़ज़ल हुई। बधाई स्वीकार करें।"
1 hour ago
Samar kabeer commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post शूल सम यूँ खुरदरे ही रह गये जीवन में सच-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"जनाब लक्ष्मण धामी 'मुसाफ़िर' जी आदाब, ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है, बधाई स्वीकार करें ।"
2 hours ago
Samar kabeer commented on सालिक गणवीर's blog post धुआँ उठता नहीं कुछ जल रहा है..( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"जनाब सालिक गणवीर जी आदाब, ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है, बधाई स्वीकार करें । 'धुआँ उठता नहीं कुछ जल…"
3 hours ago
Samar kabeer commented on अजय गुप्ता's blog post ग़ज़ल (और कितनी देर तक सोयेंगें हम)
"जनाब अजय गुप्ता जी, ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है, और चर्चा भी अच्छी हुई, बधाई स्वीकार करें। अंतिम शैर…"
6 hours ago
Samar kabeer commented on DR ARUN KUMAR SHASTRI's blog post दिल्लगी
"जनाब डॉ. अरुण कुमार जी आदाब, अच्छी कविता लिखी आपने, बधाई स्वीकार करें । निवेदन है कि रचना के साथ…"
6 hours ago
Samar kabeer commented on Sushil Sarna's blog post क्षणिकाएं : जिन्दगी पर
"जनाब सुशील सरना जी आदाब, अच्छी क्षणिकाएँ हुई हैं, बधाई स्वीकार करें ।"
6 hours ago
Samar kabeer commented on सालिक गणवीर's blog post कल कहा था आज भी कल भी कहो..( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"जनाब सालिक गणवीर जी आदाब, ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है, बधाई स्वीकार करें । 'कल कहा था आज भी कल भी…"
6 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' posted a blog post
8 hours ago
सालिक गणवीर posted a blog post

धुआँ उठता नहीं कुछ जल रहा है..( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)

1222 1222 122धुआँ उठता नहीं कुछ जल रहा है मुझे वो आग बन कर छल रहा हैपिछड़ जाउंँगा मैं ठहरा कहीं गर…See More
8 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service