For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

ग़ज़ल :- उसके होने के ही एहसास में जाकर देखो

 
 
ग़ज़ल :-  उसके होने के ही एहसास में जाकर देखो
 
उसके होने के ही एहसास में जाकर देखो ,
किसी रोते हुए बच्चे को हंसाकर देखो |
 
नेक नीयत हो तो नालों में असर होता है ,
मेरी आवाज़ में आवाज़ मिलाकर देखो |
 
तर्क की आंच कई रिश्ते जला देती है ,
ज़िंदगी क्या है किताबों को हटाकर देखो |
 
फूल पत्ते भी अघाते हैं दुआ देते हैं ,
घर के आँगन में कोई पौध लगाकर देखो |
 
दस्यु भी संत बना करते हैं इस धरती पे ,
अपने भीतर ही तुम बुद्धत्व जगाकर देखो |
 
सोच ही आदमी को गाँधी बना देती है ,
क्या ज़रूरी है कि अफ्रीका में जाकर देखो |
 
आदमी आदमी का भेद ही मिट जाएगा ,
अपने अंतर में कबीरा को बिठाकर  कर देखो  |
 
                          - अभिनव अरुण {30102011}
 
 
 
 

Views: 243

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Abhinav Arun on December 9, 2011 at 6:06am
Abhaar Ashwani Ji.
Comment by ASHVANI KUMAR SHARMA on December 8, 2011 at 11:13pm

badhiya gazal ......badhaai 

Comment by Abhinav Arun on December 1, 2011 at 7:04am
shukriya Raj Sahab.
Comment by राज लाली बटाला on December 1, 2011 at 12:55am

उसके होने के ही एहसास में जाकर देखो ,

किसी रोते हुए बच्चे को हंसाकर देखो |वाह  अभिनव जी ~~सही कहा  आपने !!

Comment by Abhinav Arun on November 4, 2011 at 5:47am
sneh ke liye abhaar Avinash ji
Comment by AVINASH S BAGDE on November 2, 2011 at 8:59pm

BAHUT DARJEDAR RACHANA..Abhinav ji.

 

Comment by Abhinav Arun on October 31, 2011 at 11:55am

thanks ashish  ji for your valuable comments

Comment by आशीष यादव on October 30, 2011 at 8:57pm

aadarniy shri Arun Kumar Pandey 'Abhinav' ji, sada se hi maine aapki rachnao ko pasand kiya hai. aapki ye rachna bhi bahut achchhi lgi. kuchh wyastta ke karan mai mushayare me shamil nahi ho ska tha. lekin aapki ye rachna yaha padh kar mujhe bahut khushi hui. aapki lekhni ko naman.

Comment by Abhinav Arun on October 30, 2011 at 2:49pm

आभार वीनस जी सोचा था इस बार ग़ज़ल को आपसे ठीक करवा कर पोस्ट करूँगा पर संयोग नहीं बन पाया !! :-)) आपपे ये कार्य due  रहेगा अगली बार के लिए :-))

Comment by वीनस केसरी on October 30, 2011 at 2:14pm

सुन्दर ग़ज़ल है

खूब पसंद आई

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Samar kabeer commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post नोटबंदी का मुनाफा काले धन की वापसी - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"जनाब लक्ष्मण धामी 'मुसाफ़िर' जी आदाब, ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है, बधाई स्वीकार करें…"
2 hours ago
Samar kabeer commented on TEJ VEER SINGH's blog post खंडित मूर्ति - लघुकथा –
"जनाब तेजवीर सिंह जी आदाब, अच्छी लघुकथा लिखी आपने, बधाई स्वीकार करें ।"
2 hours ago
Samar kabeer commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post फूल काँटों में खिला है- ग़ज़ल
"जनाब बसंत कुमार शर्मा जी आदाब, ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है, बधाई स्वीकार करें । 'गाँव है, कोई जिला…"
2 hours ago
Profile IconAjay Kumar Maurya Vimal, Richa Yadav, Ashutosh and 1 more joined Open Books Online
3 hours ago
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post फूल काँटों में खिला है- ग़ज़ल
"आदरणीय लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' जी सादर नमस्कार  आपकी हौसला अफजाई के लिए दिल से…"
8 hours ago
TEJ VEER SINGH commented on TEJ VEER SINGH's blog post खंडित मूर्ति - लघुकथा –
"हार्दिक आभार आदरणीय दीपाली ठाकुर जी।"
11 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post नोटबंदी का मुनाफा काले धन की वापसी - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई अमीरूद्दीन जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति और उत्साहवर्धन के लिए आभार। त्रुटि की ओर ध्यान…"
11 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post नोटबंदी का मुनाफा काले धन की वापसी - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आदरणीय लक्षमण धामी 'मुसाफ़िर' जी आदाब, बहुत उम्दा ग़ज़ल हुई है शे'र दर शे'र दाद…"
12 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post ग़ज़ल (उगलते भी नहीं बनता निगलते भी नहीं बनता)
"आदरणीय लक्षमण धामी 'मुसाफ़िर' जी आदाब, ग़ज़ल पर आपकी आमद सुख़न नवाज़ी और हौसला अफ़ज़ाई के…"
12 hours ago
सालिक गणवीर posted a blog post

ज़िंदगी रास्ता देखती हो मेरा...( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)

212  212  212  212ज़िंदगी रास्ता देखती हो मेरासामना मौत से भी तभी हो मेरा  (1)मैं चलूँ काश बच्चों की…See More
12 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post नोटबंदी का मुनाफा काले धन की वापसी - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई तेजवीर जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति और समर्थन के लिए आभार। "
13 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post उसको भाया भीड़ का होकर खो जाना -लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई तेजवीर जी, सादर अभिवादन ।गजल पर उपस्थिति और सराहना के लिए आभार। "
13 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service