For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

AVINASH S BAGDE
Share

AVINASH S BAGDE's Friends

  • DR. HIRDESH CHAUDHARY
  • annapurna bajpai
  • Aarti Sharma
  • आशीष नैथानी 'सलिल'
  • MARKAND DAVE.
  • Neelkamal Vaishnaw
  • Ranveer Pratap Singh
  • deepti sharma
  • RAJESH GOGIYA
  • डॉ. सूर्या बाली "सूरज"
  • SURENDRA KUMAR SHUKLA BHRAMAR
  • संदीप द्विवेदी 'वाहिद काशीवासी'
  • SHARIF AHMED QADRI "HASRAT"
  • Arun Sri
  • Vinay  Kull

AVINASH S BAGDE's Discussions

." अनजानी दस्तक " का लोकार्पण .....अविनाश बागडे का संचालन
12 Replies

" अनजानी दस्तक " से....************************' उनके हिस्से के गम नहीं देखते,घर के बाहर , हम नहीं देखते.फूलों को खिलना था खिल गए,अच्छा बुरा मौसम नहीं देखते.'----माधुरी…Continue

Started this discussion. Last reply by AVINASH S BAGDE Aug 25, 2012.

शोचनीय बात

आज़ादी के  पचास साल बाद भी अगर हम भ्रूण-हत्या के विरोध में आन्दोलन करने के लिये बाध्य है  तो ये बड़ी शोचनीय बात है.खाप पंचायत और फतवों के नाम पर तथा-कथित सामाजिक संकीर्णता के सामने आज भी हमारा पंगु …Continue

Started Jul 31, 2012

अंतरात्मा!!!!!
2 Replies

नेताओं की अंतरात्मा केवल चुनाओं के समय ही क्रियाशील क्यों होती है ,ये बात बिलकुल गले नहीं उतरती .कहीं नेताओं की अंतरात्मा 'हाथी के दांत खाने के और दिखाने  केऔर'की तर्ज़ पर तो नहीं होती!!!!!!!!! Continue

Started this discussion. Last reply by AVINASH S BAGDE Jan 27, 2012.

इन्टरनेट का पोसिटिव उपयोग.
2 Replies

एडमिन ..ओ बी ओ.समय-समय पर आयोजित की जाने वाली विभिन्न प्रतियोगिताओ के माध्यम से निरंतर  स्वस्थ साहित्य का निर्माण कर ओ बी ओ बखूबी अपना सामाजिक दायित्व निभा रहा है.ये है इन्टरनेट का पोसिटिव …Continue

Tags: आलेख

Started this discussion. Last reply by aashukavi neeraj awasthi Jan 23, 2012.

 

AVINASH S BAGDE's Page

Profile Information

Gender
Male
City State
NAGPUR,MAHARASHTRA
Native Place
RAIPUR,CHHATTISGARH
Profession
CIVIL ENGINEER
About me
REGULAR WRITTER ON DAILY NEWS PAPERS....KAVYA PRAKASH(HINDI DAILY ..SUNDAY COLUMN),VYANG COLUMN-KATAKSH..WED & SATDAY IN THE SAME PAPER RASHTRA PRAKASH.....PRESIDENT OF LIONS CLUB OF NAGPUR METROPOLITAN 2011-12..SOOKHI NADEE KE SAMANE(GAZAL),AMAN CHALISA(LIKE HANUMAN CHALISA),DOHE AVINASH KE(DOHE) BOOS PUBLISHED SO FAR.

AVINASH S BAGDE's Photos

Loading…
  • Add Photos
  • View All

AVINASH S BAGDE's Blog

हाइकु

मेरे शहर का मौसम !

============
बूँद बरखा 
हरियाला मौसम 
सजा के रखा 
****
आँख झपकी 
घनघोर घटायें 
बूँद टपकी 
****
झूमते पत्ते 
नाचते तरुवर 
घनों के छत्ते 
****
रसिक मन 
भीगने को आतुर 
तन -बदन 
========
@अविनाश बागडे 

Posted on August 5, 2014 at 3:30pm — 19 Comments

सामायिक गीत !

सामायिक गीत !

==========

मन से मन की बात चलेगी

सहज भाव अपनापन होगा।

जुड़े नहीं जो तार ये मन के

सूखा और सूनापन होगा !



छद्म ,छल-कपट छलिया बन के

मेघदूत आये सावन के !

किसका ये सब रचा हुआ है /

मुद्दे का सत्यापन होगा !

मन से मन की बात चलेगी

सहज भाव अपनापन होगा   …।



हर मौसम को धरा सह…

Continue

Posted on July 19, 2014 at 9:19pm — 15 Comments

नवगीत

जाने कहाँ गईं ?

**************

नींदों से सपनों की फसलें

जाने कहाँ  गईं ?

==

मलमल के बिस्तर से तन को

हमने जोड़ रखा

उसके ऊपर मन-चादर को

कस के ओढ़ रखा

रातों की महफ़िल से गज़लें

जाने कहाँ गईं ?

==

बार-बार अँखियों के मैंने

परदे बंद किये

सपनों वाली नींद बुलाने

जप हरचंद किये

नियति -नटी सपनों के खत ले

जाने कहाँ गईं ?

==

बेटी…
Continue

Posted on June 22, 2014 at 12:30am — 9 Comments

हाइकु !

६ - हाइकु !

=======
१. 
लटकी लाशें 
जड़ ! पेड़ की जड़ें 
हुए तमाशे। 
२. 
सामंतवाद 
रक्षक ही भक्षक 
समाजवाद !
३. 
अदालत है 
रुके हुए फैसले 
अदावत है 
४. 
गुणात्मक हो 
रिश्तों की बुनावट 
भावात्मक हो 
५. 
चला चरखा 
जीवन की कताई 
चल चर…
Continue

Posted on June 18, 2014 at 3:07pm — 6 Comments

Comment Wall (16 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 9:00pm on June 15, 2014, mrs manjari pandey said…
आदरणीय बागडे जी उत्साहवर्धक टिप्पणी के लिए सादर आभार।
At 10:57pm on September 9, 2013, annapurna bajpai said…

आदरणीय अविनाश बागड़े जी आपका हार्दिक स्वागत है । 

At 11:28pm on August 11, 2013, mrs manjari pandey said…

     धन्यवाद अविनाश बागडे जी ! कजरी आपको अच्छी लगी  ! आप सबका आशीर्वाद सिर आंखों पर !

At 1:40pm on February 18, 2013, लक्ष्मण रामानुज लडीवाला said…

जन्म दिन की मंगलमय हार्दिक शुभ कामनाए, 

प्रभु हमारा स्नेह बनाए रखे ।
At 2:10pm on October 16, 2012, Vinita Shukla said…

प्रोत्साहन हेतु आभार.

At 2:06pm on October 16, 2012, Vinita Shukla said…

बहुत बहुत धन्यवाद अविनाश जी .

At 10:03am on September 20, 2012, लोकेश सिंह said…

बहुत उम्दा व्यंग ,व्यंग विधा का सार्थक उपयोग जन मानस के अवचेतन को जागृत करने के लिए ,बहुत बहुत साधुवाद ....लोकेश सिंह

At 10:49pm on July 6, 2012, डॉ. सूर्या बाली "सूरज" said…

अविनाश जी सादर नमस्कार ! ग़ज़ल आपको पसंद आयी और आपकी सुंदर प्रतिक्रिया मिली इसके लिए आपका तहे दिल से शुक्रिया अदा करता हूँ।

At 1:20am on July 5, 2012, deepti sharma said…
shukriya Avinash ji
At 9:31pm on May 26, 2012, डॉ. सूर्या बाली "सूरज" said…

अविनाश भाई आपकी नज़ारे इनायत हुई अच्छा लगा। इतनी करीब से ग़ज़ल को आँकने और दाद देने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया।

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

नयना(आरती)कानिटकर replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-26 (विषय:सबक़)
"आ, सुधीर जी नये कथानक के साथ आपकी रचना खासा प्रभाव डालने में सक्षम हुई है."बेटा घावों को ढक कर…"
6 minutes ago
नयना(आरती)कानिटकर replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-26 (विषय:सबक़)
"आ. रवी जी बोली भाषा मे लिखी गयी आपकी रचना सहज प्रभाव डालती है.बधाई आपको"
9 minutes ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-26 (विषय:सबक़)
"'अग्निपथ पर' (लघुकथा) : वह हांफती हुई अपने चुने हुए रास्ते पर दौड़ती जा रही थी। लेकिन यह…"
13 minutes ago
नयना(आरती)कानिटकर replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-26 (विषय:सबक़)
"आ. जानकी जी एक समाचार को आपने बहूत सुघड तरीके से रचना मे ढाला है इस हेतु . बधाई स्विकार किजीए."
14 minutes ago
Mohammed Arif replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-26 (विषय:सबक़)
"अनाथ "माँ ,आशीर्वाद दीजिए ।" राहुल ने अपनी माँ शारदा देवी के चरणों को स्पर्श करते हुए कहा…"
16 minutes ago
Janki wahie replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-26 (विषय:सबक़)
"आयोजन का श्रीगणेश करने के लिए हार्दिक बधाई नयना जी।"
16 minutes ago
Sudhir Dwivedi replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-26 (विषय:सबक़)
"सबक - (विषयान्तर्गत) "यह तेरी आँखों को क्या हुआ?" डॉक्टरनी जी नें उसकी सूजी हुई…"
18 minutes ago

प्रधान संपादक
योगराज प्रभाकर replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-26 (विषय:सबक़)
"लाल हुई आंखे मलता रघु बोला ।=लाल हुई आंखे मलता हुआ रघु बोला । ठंडी आह भरते रामचरन ने कहा = ठंडी आह…"
19 minutes ago
नयना(आरती)कानिटकर replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-26 (विषय:सबक़)
"आ. सर जी  टंकण की गल्तियों  पर आगे से ज्यादा ध्यान दूँगी, क्षमा सहित"
19 minutes ago
Sunil Verma replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-26 (विषय:सबक़)
"पराश्रित होने से अच्छा है खुद को सक्षम बनाना| रामचरन का बांस उखाड़कर गुड़ाई करना, कथा का मूल भाव…"
19 minutes ago
नयना(आरती)कानिटकर replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-26 (विषय:सबक़)
"आ. स्नेहलता समय की महत्ता को समझती थी. पोते को बडा करने का काम बखुबी निभा चुकी थीअपना काम समाप्त…"
21 minutes ago

प्रधान संपादक
योगराज प्रभाकर replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-26 (विषय:सबक़)
"एक बार किस्मत आजमाने की गरज़ से=आज़माने दरवाजे़ पर अतिरिक्त जोर लगाकर आवाज दी=आवाज़ एक आवाज़ बाहर आयी…"
24 minutes ago

© 2017   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service