For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

ये भगवन तनी सुना हमार हो ,

ये भगवन तनी सुना हमार हो ,
कवनो मंत्री से हो जाइत प्यार हो ,
हमारा ता आगे पीछे उहो लुटाइती,
पईसा कमाए के रास्ता दिखाइती ,
लोग आगे पीछे घूमते हमारा हजार हो ,
ये भगवन तनी सुना हमार हो ,
हो हाला मचित तब सफाई देती ,
नहीं उ कबो हमारा से मुह फेरती ,
चाहे जे राजपाठ जाईत होइती बेकार हो ,
ये भगवन तनी सुना हमार हो ,
आइसन प्रेमी परभू हमरा के दिहा ,
देश जाये भार में खली हमारे के सोचिहन ,
अइसन निगोरी से ता पटी ना हमार हो ,
देस खातीर काटी देहब गर्दन तोहर हो ,
ये भगवन मति सुनिह हमार हो ,

Views: 236

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Admin on April 20, 2010 at 5:13pm
गुरु जी फेनु एगो बढ़िया रचना पढे के मिलल, बहुत बढ़िया लिखले बानी, ऐसही लिखत रही, नीमन लिखत बानी, धन्यबाद,

मुख्य प्रबंधक
Comment by Er. Ganesh Jee "Bagi" on April 20, 2010 at 8:45am
waah guru jee, E ta raur dodhaari talwaar wala kavita ba, Bhagwaan bhi phera mey pad jaihan ki e bhakt key wopar wali baat suni ki nichey walaa, hahahaha,bechara confusiaa jaihan, bytheway bahut chutila kavita baa e raur,
Comment by Ratnesh Raman Pathak on April 19, 2010 at 6:47pm
ये भगवन तनी सुना हमार हो ,
कवनो मंत्री से हो जाइत प्यार हो ,
हमारा ता आगे पीछे उहो लुटाइती,
पईसा कमाए के रास्ता दिखाइती ,
लोग आगे पीछे घूमते हमारा हजार हो ,
ये भगवन तनी सुना हमार हो ,


bahut badhiya agrah ba bhagwan se ,bhai ab e aisan that-baat dekh ke koi ke mann kar dihi .
chali jayedihi koi baat nahi hum mantri banab ta raua sab ke pichhe aadmi ghumihe jeee hahah
.
bahut badhiya kavita likhte hai aap guru jee.dhanyawad

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Rupam kumar -'मीत' commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की - तर्क-ए-वफ़ा का जब कभी इल्ज़ाम आएगा
"आ. निलेश 'नूर' साहिब, मतला बहूत खूब कहा आपने , मुझे बह्र एक दम से पढ़ के समझ नहीं आती,…"
41 minutes ago
Nilesh Shevgaonkar posted a blog post

ग़ज़ल नूर की - तर्क-ए-वफ़ा का जब कभी इल्ज़ाम आएगा

तर्क-ए-वफ़ा का जब कभी इल्ज़ाम आएगा हर बार मुझ से पहले तेरा नाम आएगा. .अच्छा हुआ जो टूट गया दिल तेरे…See More
1 hour ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' posted a blog post

ग़ज़ल (वो नज़र जो क़यामत की उठने लगी)

फ़ाइलुन -फ़ाइलुन - फ़ाइलुन -फ़ाइलुन 2 1 2 - 2 1 2 - 2 1 2 - 2 1 2 वो नज़र जो क़यामत की उठने…See More
1 hour ago
Rupam kumar -'मीत' posted blog posts
1 hour ago
Rupam kumar -'मीत' commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post ग़ज़ल (मैं जो कारवाँ से बिछड़ गया)
"आ. अमीरुद्दीन साहिब जी, सादर अभिवादन ।उम्दा गजल हुई है । हार्दिक बधाई ।  मैं झुका ज़रा हूँ तो…"
2 hours ago
Rupam kumar -'मीत' commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post हम उनकी याद में रोए भी मुस्कुराए भी (~रूपम कुमार 'मीत')
"आ.  निलेश साहिब जी, शुतुरगुर्बा दोष  मुझे लगता था, सिर्फ हम और मै मेरी…"
3 hours ago
Nilesh Shevgaonkar commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post हम उनकी याद में रोए भी मुस्कुराए भी (~रूपम कुमार 'मीत')
"आ. रूपम जी, उसके करने से वहां जो "हम" है उस से शुतुरगुर्बा हो जाएगा "
4 hours ago
Rupam kumar -'मीत' commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post हम उनकी याद में रोए भी मुस्कुराए भी (~रूपम कुमार 'मीत')
"आदरणीय निलेश साहिब जी,  मेरा  प्रणाम आपको ,  ग़ज़ल  पर आपकी  उपस्थिति…"
4 hours ago
Nilesh Shevgaonkar commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post हम उनकी याद में रोए भी मुस्कुराए भी (~रूपम कुमार 'मीत')
"आ. रूपम जी,अच्छी ग़ज़ल हुई है, ढेरों दाद.अंतिम शेर के सानी में 'उनके' आने से दिखाएँ भी आना…"
4 hours ago
Rupam kumar -'मीत' commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post अब से झूटा इश्क़ नहीं करना जानाँ (-रूपम कुमार 'मीत')
"आदरणीय अमीरुद्दीन 'अमीर' साहिब जी,  मेरा  प्रणाम आपको , …"
5 hours ago
Rupam kumar -'मीत' commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post हम उनकी याद में रोए भी मुस्कुराए भी (~रूपम कुमार 'मीत')
"आदरणीय अमीरुद्दीन 'अमीर' साहिब जी,  मेरा  प्रणाम आपको , …"
5 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post अब से झूटा इश्क़ नहीं करना जानाँ (-रूपम कुमार 'मीत')
"जनाब रूपम कुमार जी अच्छी ग़ज़ल हुई है दाद के साथ मुबारकबाद पेश करता हूँ।"
5 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service