For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Ratnesh Raman Pathak
  • Male
  • sasaram,rohtas (bihar)
  • India
Share

Ratnesh Raman Pathak's Friends

  • Mauli Mohan Kumar
  • Atendra Kumar Singh "Ravi"
  • PRAVIN KUMAR DUBEY
  • Dhananjay Pathak
  • R N Tiwari
  • Yogiraj
  • sujeet kumar yadav
  • Rajesh Mishra
  • raj jalan
  • shekhar jha`
  • shalini kaushik
  • Mayank awasthi
  • Dr. Sanjay dani
  • Azeez Belgaumi
  • Ekta Nahar

Ratnesh Raman Pathak's Discussions

#चुनावी चर्चा# सह मतगणना परिणाम (LIVE)
12 Replies

Started this discussion. Last reply by Ratnesh Raman Pathak Nov 24, 2010.

आतंकवादी या अतिथि ?
28 Replies

Started this discussion. Last reply by Bhawesh Rajpal May 10, 2012.

सावधान ! शराब कर रही है गरीबो को बर्बाद !
4 Replies

Started this discussion. Last reply by Er. Ganesh Jee "Bagi" Apr 25, 2010.

how to top with minimum study
1 Reply

Started this discussion. Last reply by Dr.Prachi Singh Apr 17, 2013.

अबकी केकरा सर पर जाई बिहार के ताज ?
9 Replies

Started this discussion. Last reply by Rash Bihari Ravi Sep 18, 2010.

Ratnesh Raman Pathak's Videos

  • Add Videos
  • View All

facebook

Loading… Loading feed

 

सामाजिक उत्थान में सदैव तत्पर!

Profile Information

Gender
Male
City State
शेर साह सूरी की नगरी सासाराम
Native Place
रोहितास्व का जिला रोहतास
Profession
समाज सेवा,
About me
राजनीती मेरे लिए सत्ता का माध्यम नहीं है बल्कि ,समाज सेवा का माध्यम है.मैं चाहता हूँ की इस देश के हर एक व्यक्ति को लोकतंत्र प्रणाली का फायदा मिले.

सामाजिक कार्यकर्ता --रत्नेश रमण पाठक -अपने पृष्ठ पर तह-ए-दिल से स्वागत करता है

contact:-ratneshraman101@gmail.com

mobile:- 09463813580

A mechanical engineering student.

                    



                       


 

 

Web Counter

रत्नेश रमण पाठक

Create Your Badge

Ratnesh Raman Pathak's Photos

  • Add Photos
  • View All

Ratnesh Raman Pathak's Blog

और कितने भूखे हैं ये

कहा जाता है की पुरे भारत की बागडोर दिल्ली में बैठने वालों के हाथ में होती है और शायद यही सत्य भी है.साल २०१० "महंगाई" और "भ्रष्टाचार" से बदनाम रहा.ये दो शब्द ऐसे शब्द है जो की २०१० में कितने महापुरुषों को स्टार बना दिया तो कितनो की मुहं की निवाले छीन गयी .एक तरफ ए.राजा(पूर्व दूरसंचार मंत्री),सुरेश कलमाड़ी(राष्ट्रमंडल खेल आयोजन समिति के अध्यछ),ललित मोदी(इंडियन प्रिमिअर… Continue

Posted on February 16, 2011 at 6:42pm

युवा क्रांति-रत्नेश रमण पाठक

आज देश भ्रष्टाचार की गंगोत्री में डुबकी लगा रही है .इससे निकलने की कोई उम्मीद नजर नहीं आरही है.हर नीति नाकामयाब दिख रही है .

ऐसे में जरुरत है युवा शक्ति की ,जो की देश को एक नयी दिशा दे ,इस गंगोत्री से निकाले.और इन सब के लिए जरुरी है युवाओं का राजनीती में भागीदारी सुनिश्चित होना.

मैं आह्वान करता हूँ की यदि हमें वंशवाद की राजनीति को खत्म करना है तो युवाओं को नए उमंग के साथ राजनीति में आना होगा। आज का युवा वर्ग अपने कर्तव्यों ,अधिकारों ,और देश प्रेम से मुह मोड़ रहा है .हर कोई अपने भविष्य… Continue

Posted on January 19, 2011 at 6:37pm

डा.महंगाई सिंह

पूरा देश महंगाई के मार से पस्त है .महंगाई नियंत्रण की कही कोई उम्मीद नहीं दिख रही है .पक्ष बिपक्ष लगातार बयानबाजी कर रही है लेकिन निदान किसी के पास नहीं है.और यह सब तब हो रहा है जब इस देश की बागडोर एक कुशल अर्थशास्त्री डा.मनमोहन सिंह के हाथ में है.ये वो अर्थशास्त्री है जिन्होंने भारत को उस संकट से निकला था ,जब पूरा देश का सोना गिरवी रखने की नौबत आ गयी थी .इन्होने अपने अर्थशास्त्र और कौशल परिचय देते हुए भारत को उस मुसीबत से निकाला और एक विस्वसनीय योद्धा बन कर सामने आये. वर्ष २००४ से लेकर २००९ तक… Continue

Posted on January 14, 2011 at 11:48am — 2 Comments

भ्रष्टाचार

आजकल इस शब्द का क्रेज कुछ इस कदर बढ़ गया है की गावं के चौक चौराहे से लेकर दिल्ली के संसद भवन तक यह शोर शराबे के साथ गूंज रहा है !कोई इस शब्द से अपनी राजनीती के तलवार को धार दे रहा है तो कोई अपनी छवि बचने में जुटा हुआ है !अर्थात अगर साफ़ शब्दों में कहा जाये तो यह भ्रष्टाचार शब्द काफी लोकप्रियता हासिल कर चुकी है साल २०१० में .मैंने अपनी कलम उठाई और सोचा कुछ लिखू इस भ्रष्टाचार पर लेकिन मेरी चल नहीं रही थी.क्योकि मुझे खुद पता नहीं है की यह भ्रष्टाचार है क्या?कुछ सवाल में मस्तिस्क में गूंज रहे थे… Continue

Posted on December 30, 2010 at 12:38pm

Comment Wall (24 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 9:42am on September 13, 2011,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…

At 7:48pm on May 4, 2011,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…
बहुत बहुत धन्यवाद प्रिय मित्र और अनुज रत्नेश जी, आपका प्यार आज के दिन मिला, मैं धन्य हुआ |
At 8:52pm on February 22, 2011, Prakash Pakhi said…
thanks!
At 12:25am on February 8, 2011, Dr. Ajmal khan said…
आप का बहुत बहुत शुक़्रिया
At 1:16pm on December 22, 2010, RAHUL RAI BHOJPURIYA said…
thank,,,,,u,,,pathak,,,,ji
At 1:42pm on December 2, 2010, Azeez Belgaumi said…
Thanks Ramesh ji... aap se istefaade ka mauqa milta rahega.
At 10:25am on November 29, 2010, Binod Kumar Rai said…
Ji bahut Sukriya....
At 10:23am on November 28, 2010, Ekta Nahar said…
shukrya Ratnesh ji...
plz OBO se jude rahne me meri help karein.Mein OBO se familiar nahi hoo.
kya aap mujhe bataa sakte hein ki yha kya kya functions hein
At 3:31pm on November 19, 2010, peter said…
ratnash how are you? i hope you are fine i have tryed to check your comment but i could not get it.thanks God loves you,in jesus name amen!
At 10:28am on November 18, 2010, Deepak Sharma Kuluvi said…
THANKS FOR YOUR VALUABLE COMMENTS

DEEPAK KULUVI
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on rajesh kumari's blog post शज़र जब सूख जाता है कोई पत्ता नहीं रहता (तरही ग़ज़ल 'राज')
"आ. राजेश दी, सादर अभिवादन । सुंदर गजल हुयी है । हार्दिक बधाई ।"
6 minutes ago
Ram Awadh VIshwakarma commented on Naveen Mani Tripathi's blog post लेकिन कज़ा के बाद से मक़तल उदास है
"आदर्णीय बहुत खूबसूरत.ग़ज़ल आपने कही है । हार्दिक बधाई।"
11 minutes ago
Ram Awadh VIshwakarma commented on दिनेश कुमार's blog post ग़ज़ल --- इक फ़रिश्ता है मेहरबाँ मुझ पर / दिनेश कुमार / ( इस्लाह हेतु )
"बहुत खूबसूरत ग़ज़ल है। हार्दिक बधाई"
14 minutes ago
Neelam Upadhyaya commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post बोलती निगाहें (लघुकथा)
"आदरणीय उस्मानी जी, नमस्कार।  आज के समय से सामंजस्य बिठाती अच्छी लघु कथा।  बधाई स्वीकार…"
1 hour ago
ram shiromani pathak commented on ram shiromani pathak's blog post ग़ज़ल(2122 1212 22)
"नीलेश भाई बहुत बहुत आभार अपकल"
5 hours ago
ram shiromani pathak commented on ram shiromani pathak's blog post ग़ज़ल(2122 1212 22)
"आरिफ़ भाई  उत्साह वर्धन हेतु आभार आपका"
5 hours ago
ram shiromani pathak posted a blog post

ग़ज़ल 212×4

ख्वाब थे जो वही हूबहू हो गए।जुस्तजू जिसकी थी रूबरू हो गए।।इश्क करने की उनको मिली है सज़ा।देखो बदनाम…See More
5 hours ago
Shyam Narain Verma commented on Er. Ganesh Jee "Bagi"'s blog post ग़ज़ल (गणेश जी बागी)
"वाह बेहद खूबसूरत प्रस्तुति … हार्दिक बधाई स्वीकार करें आदरणीय।"
7 hours ago
Tasdiq Ahmed Khan commented on Tasdiq Ahmed Khan's blog post ग़ज़ल (दोस्तों वक़्त के रहबर का तमाशा देखो)
"जनाब रामअवध साहिब, ग़ज़ल मेंआपकी शिर्कत  और हौसला अफज़ाई का बहुत बहुत शुक्रिया |"
8 hours ago
ram shiromani pathak commented on ram shiromani pathak's blog post ग़ज़ल(2122 1212 22)
"ग़ज़ल।। मुंतजिर हूँ मैं इक जमाने से।मिलने आ जा किसी बहाने से।। आ जा मिलने भी ठीक लग रहा है मुझे उनकी…"
10 hours ago
Ram Awadh VIshwakarma commented on Tasdiq Ahmed Khan's blog post ग़ज़ल (दोस्तों वक़्त के रहबर का तमाशा देखो)
"बहुत खूबसूरत ग़ज़ल है। सभी शेर बोलते हुये हैं। आदर्णीय बधाई"
21 hours ago
Ram Awadh VIshwakarma commented on Er. Ganesh Jee "Bagi"'s blog post ग़ज़ल (गणेश जी बागी)
"आदरणीय सत्ताधीशों द्वारा ठगी गई भोलीभाली जनता का दुख दर्द बयान करती हुई सार्थक ग़ज़ल कहने के लिये…"
21 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service