For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

कुछ भी हो सकता है

कुछ भी हो सकता है

जंगल राज है कुछ न कहो
ख़ामोशी अपनाओ
बापू के तीन बंदरों जैसे
ज्ञानी बन जाओ
अच्छा देखो न बुरा ही देखो
न ही सुनो न कहो
सुखी जो रहना चाहते हो
मूक दर्शक बन जाओ
वर्ना कुछ भी हो सकता है
सब कुछ लुट सकता है
मौत से डर नहीं लगता तो
हरगिज़ न घबराओ
फैसला आपके हाथ में है
कैसे जीना चाहते हो
इज्जत अगर है प्यारी
मेरे साथ आओ
मेरे साथ आ....

दीपक कुल्लुवी
९/१०/१८
9350078399

Views: 135

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Deepak Sharma Kuluvi on October 11, 2012 at 10:05am

DHANYABAD RAKHA JI PANDEY JI.AAPKA HAUNSLA HI MUJHE PRERIT KARTA HAI KUCHH ACHHA LIKHNE KA 


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Saurabh Pandey on October 10, 2012 at 6:00pm

इस संप्रेषण का फ्लैश एकदम से साथ बहा ले जाता है,  इस प्रयास के लिये बधाई दीपक भाईजी.

Comment by Deepak Sharma Kuluvi on October 10, 2012 at 1:20pm

SHUKRIYA MADAM REKHA JI

Comment by Rekha Joshi on October 10, 2012 at 1:08pm

दीपक जी ,सुंदर अभिव्यक्ति ,बधाई 

Comment by Deepak Sharma Kuluvi on October 9, 2012 at 3:53pm

shukriya ashfaq sahib

Comment by ASHFAQ ALI (Gulshan khairabadi) on October 9, 2012 at 2:57pm

bahoot khoob

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Manan Kumar singh commented on Manan Kumar singh's blog post गजल(शोर हवाओं....)
"आभार आदरणीय।"
9 hours ago
vijay nikore posted blog posts
12 hours ago
Sushil Sarna posted blog posts
12 hours ago
Sushil Sarna replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"ओबीओ परिवार के सभी सदस्यों को ओबीओ की 10 वीं सालगिरह की ढेरों बधाई और शुभकामनाएँ ...."
13 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post कोरोना पर कुछ दोहे :
"आदरणीय समर कबीर साहिब, आदाब , सृजन पर आपकी स्नेहाशीष का दिल से शुक्रिया।"
13 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post कोरोना पर कुछ दोहे :
"आदo   Dayaram Methani जी सृजन पर आपकी मनोहारी प्रशंसा का दिल से आभार।"
13 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post समय :
"आदo  कंवर करतार  जी सृजन पर आपकी मनोहारी प्रशंसा का दिल से आभार।"
13 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post क्षणिकाएँ :
"आदo Rachna Bhatia जी सृजन पर आपकी मनोहारी प्रशंसा का दिल से आभार।"
13 hours ago
Rachna Bhatia commented on Sushil Sarna's blog post क्षणिकाएँ :
"वाह वाह वाह शानदार क्षणिकाएँ। आदरणीय सुशील सरना जी हार्दिक बधाई।"
19 hours ago
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल
"आदरणीय समर कबीर सर बहुत सुंदर इस्लाह दी।आपकी बहुत आभारी हूँ।साथ ही बार बार तंग करने के लिए मुआफ़ी…"
19 hours ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' posted a blog post

ग़रीब हूँ मैं मगर शौक इक नवाबी है(८०)

(1212 1122 1212 22 /112 )ग़रीब हूँ मैं मगर शौक इक नवाबी हैख़िज़ाँ की उम्र में भी दिल मेरा गुलाबी…See More
19 hours ago
आशीष यादव posted a blog post

कोरोना

नहीं हमारी नहीं तुम्हारी अखिल विश्व में महा-बिमारी आई पैर पसार भैया मत छोड़ो घर-द्वार भैया मत छोड़ो…See More
19 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service