For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

ग़ज़ल - शहर की रोशनी में गाँव की ढिबरी बुलाती है !

यहाँ की भागा दौड़ी में वो बेफ़िक्री ही  भाती  है ,
शहर की रोशनी में गाँव की ढिबरी बुलाती है ।

बनावट वाली राधाओं को उनके कृष्ण कब मिलते ,
वो तो मीरा के होते हैं जो उनको मन में गाती है ।

सिमटना दायरों में और बातें चाँद से करना ,
ये करता हूँ जो माँ मुझको तुम्हारी  याद आती है ।

पिता की डांट से गुमसुम जो बैठी थी उदासी में ,
लिपटकर माँ के आँचल से वो बच्ची खिलखिलाती है ।

अंधेरों की सियासत से जो जुगनू बनके लड़ते हैं ,
सुबह की लालिमा श्रद्धा से उनको  सिर नवाती है ।

हटाकर राह से पत्थर मुसाफिर बढ़ते जाना तुम ,
सफलता हौसले वालों को सीने से लगाती है ।

बुराई से बचो बापू के बन्दर सीख देते हैं ,
बुराई आदमी की खूबियों को घुन सी खाती है ।

बदन की ही तरह मन में भी कोई खोट मत रखना ,
मुलम्मों में सड़ी हो चीज़ तो भी गंध आती है ।
                            -   अभिनव अरुण 
                                  [19122012]

Views: 479

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Abhinav Arun on January 13, 2013 at 7:49am

SHRI आशीष नैथानी 'सलिल'JI bahut bahut abhari hoon apka aapne ghazal ko saraha aur mera utsahvardhan kiya .

{mere net pe hindi font in dino kaam kar nahi raha so roman me likhna pad raha hai - khed hai }

Comment by आशीष नैथानी 'सलिल' on January 12, 2013 at 6:33pm

बेहतरीन ग़ज़ल !  हार्दिक बधाई अरुण जी !!!

Comment by Abhinav Arun on January 11, 2013 at 6:33pm

हार्दिक रूप से शुक्रिया shri ram shiromani pathak ji , respected Anwesha Anjushree ji , shri PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA ji mere utsaah vardhan ke liye >

Comment by ram shiromani pathak on January 10, 2013 at 9:41pm

good 1 boss

Comment by Anwesha Anjushree on January 10, 2013 at 7:00pm

Bhavpurn....apne jad se juda hokar bhi jude hum....sunder

Comment by PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA on January 10, 2013 at 5:07pm

हार्दिक बधाई स्वीकार करें सर जी 

Comment by Abhinav Arun on January 7, 2013 at 4:04pm

आदरणीय Shri धर्मेन्द्र कुमार सिंह जी,
हार्दिक रूप से शुक्रिया !!

Comment by Abhinav Arun on January 7, 2013 at 4:01pm

kya kahne shri rajiv ji bahut sundar kaha aapne waah !! aur shukriya ghazal pasand karne ke liye !!

Comment by Rajeev Mishra on January 7, 2013 at 3:46pm

abhinav bhai jee namaskar ,

bahut sundar bhav man mohak chitran 

DHIBRI  jaise shabd ko jo pray lupt ho rahe hain 

aapne apni rachna ke madhyam se ek baar phir us dhibri se ujala phailaya hai 

anmol rachna !

barbas ek pankti likhta hun 

kahan aagaye in pathron ke jhurmut jangal main 

jindgi to nadi kinare khet ki pagdandi par rahti hai !

Comment by धर्मेन्द्र कुमार सिंह on January 6, 2013 at 11:11pm

अच्छी ग़ज़ल है अरुण जी, बधाई स्वीकारें

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post तुम्हीं आये हरदम टहलते हुए.- ग़ज़ल
"आ. भाई बसंतकुमार जी, सादर अभिवादन । अच्छी गजल हुई है । हार्दिक बधाई ।"
1 hour ago
बसंत कुमार शर्मा posted a blog post

तुम्हीं आये हरदम टहलते हुए.- ग़ज़ल

मापनी १२२ १२२ १२२ १२  कई ख़्वाब देखे मचलते हुए.तुम्हीं आये हरदम टहलते हुए. तबस्सुम के पीछे छिपे…See More
2 hours ago
Rupam kumar -'मीत' posted blog posts
2 hours ago
Sarfaraz kushalgarhi commented on Sarfaraz kushalgarhi's blog post नाज़ नख़रों का अंदाज़....
"मुहतरम लक्ष्मण धामी मुसाफ़िर जी नवाज़िश के लिये आपका दिली शुक्रियः खुशालगढ़ी नहीं कुशलगढ़ी"
12 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Sushil Sarna's discussion भक्तिरस के दोहे : in the group धार्मिक साहित्य
"आ. भाई सुशील जी, भक्तरस के सुन्दर दोहे रचे हैं हार्दिक बधाई ।"
13 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' joined Admin's group
Thumbnail

धार्मिक साहित्य

इस ग्रुप मे धार्मिक साहित्य और धर्म से सम्बंधित बाते लिखी जा सकती है,See More
13 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to आशीष यादव's discussion कइसे होई गंगा पार in the group भोजपुरी साहित्य
"आ. भाई आशीष जी, बहुत अच्छी रचना हुई है । हार्दिक बधाई ।"
14 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Sarfaraz kushalgarhi's blog post नाज़ नख़रों का अंदाज़....
"आ. भाई सरफराज खुशालगढ़ी जी, सादर अभिवादन । उम्दा गजल हुई है । हार्दिक बधाई ।"
14 hours ago
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post मेरे ही प्यार में पगी आई. - ग़ज़ल
"आदरणीय लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' जी सादर नमस्कार  दिल से शुक्रिया आपकी हौसलाफजाई…"
14 hours ago
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post मेरे ही प्यार में पगी आई. - ग़ज़ल
"आदरणीय सालिक गणवीर जी सादर नमस्कार  दिल से शुक्रिया आपकी हौसलाफजाई के लिए "
14 hours ago
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post मेरे ही प्यार में पगी आई. - ग़ज़ल
"आदरणीय Madhu Passi 'महक'  जी सादर नमस्कार  दिल से शुक्रिया आपकी हौसलाफजाई…"
14 hours ago
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post मेरे ही प्यार में पगी आई. - ग़ज़ल
"आदरणीय अमीरुद्दीन 'अमीर' जी आदाब , आपकीहै निरंतर हौसलाफजाई के लिए दिल से…"
14 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service