For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

चला गया ये बचपन बनके यादों का बराती

शीर्षक : चला गया ये बचपन बनके यादों का बराती

" बचपन. .. के दिन हमने भी.. थे देखे
जवानी की रातें हमने भी.. हैं काटी ..
बलखा के गिरती .. वो लाखों पतंगे ,
डगमगा के चलती हुयी.. ये जवानी... |
फुदकता-उछलता .. मन वो हमारा ..
थिरकती दिलों पे.. ये अब की रवानी ,
कि पापा के कांधे पे गुजरा..वो ऑगन..
तकिये भिगोता अब के रातों का सावन |
माँ के आँचल.. तले बीते हुये वो लम्हें ..
कि कॉलेज.. मे होते वो नयन.. ईशारे ,
कि रंगों से दिवारों पे.. चित्रकारी बनाना..
घण्टों आईनों मे .. अब खुद को सजाना ..
कि होठों से बुलबुलों.. के फब्हारे उड़ाना,
सपनों में अब संग परियों के घरौंदे बसाना ..
अब चाहिये नही मुझको ..ये बेरहम जवानी ,कि
लौटा दो हमको वो बचपन.. की खोई रवानी ||
झूमती वो खेतों की रंगत.. रातों की कहानी ,
रोने पर मिलती वो माँ की ममता भरी बिसातें ..
और बारिस मे .. चलती वों नावें हमारी !!!
भीगते बदन पे .. आती ओलों की ठंडक ..
आग लगाती ये मानों बदन मे जवानी ... !!
लौटा दो हमको, हमारी वो अनमोल निशानी ,
हाथों से क्षण-क्षण गुजरती ये जवानी ..
बन जायेगी इक दिन इसमे कोई कहानी ..
न जीकर भी मरने देगी ये मेरी जवानी !!!
जो आके .. गुजर जायेगा ये बचपन ,
न मिलने वाली ये बिसरीं यादें पुरानी..
कब थीं सुनी बंदर- बिल्ले की कहानी ,
न जाने फिर कब सुनूँगा माँ के होठों से लोरी ||
गुजर जाय जो ये बचपन.. न रह जायेगी जिन्दगानी ,
जुर्म ढ़ाएगी ये अब ये नाशपीटी ..जवानी !!!
उतर जायेगा कल को ये ऊबलता नशा .. आएगा ये बचपन बनके यादों में बराती !!!
लौटा दो हमारी वो अनमोल ... निशानी ....
कि न रोका जाता हमसे ये आँखों का पानी || "


#विवेक_कुमार

फरवरी 24, 2017
मौलिक व अप्रकाशित

Views: 334

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Vivek Kumar on May 23, 2017 at 8:04pm

thanku #arif_sir

Comment by Mohammed Arif on May 1, 2017 at 2:06pm
प्रिय विवेक जी आदाब, रचना प्रक्रिया का बेहतरीन प्रयास । आपके अंदर काफी रतनाधर्मिता की संभावनाएँ है । हार्दिक बधाई स्वीकार करें ।

सदस्य कार्यकारिणी
Comment by गिरिराज भंडारी on May 1, 2017 at 9:57am

आ. विवेक भाई . इस रचना के लिये आपको हार्दिक बधाइयाँ । किसी विधा विशेष मे रचना करें तो बेहतर होता ।

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Nilesh Shevgaonkar posted a blog post

ग़ज़ल नूर की - तर्क-ए-वफ़ा का जब कभी इल्ज़ाम आएगा

तर्क-ए-वफ़ा का जब कभी इल्ज़ाम आएगा हर बार मुझ से पहले तेरा नाम आएगा. .अच्छा हुआ जो टूट गया दिल तेरे…See More
7 minutes ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' posted a blog post

ग़ज़ल (वो नज़र जो क़यामत की उठने लगी)

फ़ाइलुन -फ़ाइलुन - फ़ाइलुन -फ़ाइलुन 2 1 2 - 2 1 2 - 2 1 2 - 2 1 2 वो नज़र जो क़यामत की उठने…See More
19 minutes ago
Rupam kumar -'मीत' posted blog posts
19 minutes ago
Rupam kumar -'मीत' commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post ग़ज़ल (मैं जो कारवाँ से बिछड़ गया)
"आ. अमीरुद्दीन साहिब जी, सादर अभिवादन ।उम्दा गजल हुई है । हार्दिक बधाई ।  मैं झुका ज़रा हूँ तो…"
33 minutes ago
Rupam kumar -'मीत' commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post हम उनकी याद में रोए भी मुस्कुराए भी (~रूपम कुमार 'मीत')
"आ.  निलेश साहिब जी, शुतुरगुर्बा दोष  मुझे लगता था, सिर्फ हम और मै मेरी…"
2 hours ago
Nilesh Shevgaonkar commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post हम उनकी याद में रोए भी मुस्कुराए भी (~रूपम कुमार 'मीत')
"आ. रूपम जी, उसके करने से वहां जो "हम" है उस से शुतुरगुर्बा हो जाएगा "
2 hours ago
Rupam kumar -'मीत' commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post हम उनकी याद में रोए भी मुस्कुराए भी (~रूपम कुमार 'मीत')
"आदरणीय निलेश साहिब जी,  मेरा  प्रणाम आपको ,  ग़ज़ल  पर आपकी  उपस्थिति…"
2 hours ago
Nilesh Shevgaonkar commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post हम उनकी याद में रोए भी मुस्कुराए भी (~रूपम कुमार 'मीत')
"आ. रूपम जी,अच्छी ग़ज़ल हुई है, ढेरों दाद.अंतिम शेर के सानी में 'उनके' आने से दिखाएँ भी आना…"
2 hours ago
Rupam kumar -'मीत' commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post अब से झूटा इश्क़ नहीं करना जानाँ (-रूपम कुमार 'मीत')
"आदरणीय अमीरुद्दीन 'अमीर' साहिब जी,  मेरा  प्रणाम आपको , …"
3 hours ago
Rupam kumar -'मीत' commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post हम उनकी याद में रोए भी मुस्कुराए भी (~रूपम कुमार 'मीत')
"आदरणीय अमीरुद्दीन 'अमीर' साहिब जी,  मेरा  प्रणाम आपको , …"
4 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post अब से झूटा इश्क़ नहीं करना जानाँ (-रूपम कुमार 'मीत')
"जनाब रूपम कुमार जी अच्छी ग़ज़ल हुई है दाद के साथ मुबारकबाद पेश करता हूँ।"
4 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post हम उनकी याद में रोए भी मुस्कुराए भी (~रूपम कुमार 'मीत')
"वाह जनाब रूपम कुमार जी आदाब, क्या ज़बरदस्त ग़ज़ल कही है आपने हरेक शे'र शानदार है, दाद के साथ…"
4 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service