For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

मोम नहीं जो दिल पत्थर है-ग़ज़ल

22 22 22 22

मोम नहीं जो दिल पत्थर है
उसका चर्चा क्यों घर-घर है?

मंजिल को पा लेता है वो
जिसने साधी खूब डगर है

लोग पुराने बात पुरानी
फिर भी उनका आज असर है

देख! सँभलना उसने सीखा
जिसने भी खायी ठोकर है

होठों पर मुस्कान भले हो
दिल में गम का इक सागर है

माना सच होता है कड़वा
'राणा' कहता ख़ूब मगर है

मौलिक एवं अप्रकाशित

Views: 182

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by सतविन्द्र कुमार राणा on December 21, 2017 at 6:48pm

आदरणीय लक्ष्मण धामी जी हौंस्लाफ्जाई के लिए सादर हार्दिक आभार,नमन सादर

Comment by लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' on December 20, 2017 at 4:51pm

भाई सतविंद्र जी, सुंदर गजल हुई है । हार्दिक बधाई ।

Comment by सतविन्द्र कुमार राणा on December 19, 2017 at 8:39pm

आदरणीय अफरोज सहर जी उत्साहवर्धन एवं सुझाव के लिए शुक्रिया.. आपके सुझावानुसार परिष्कार क्र रहा हूँ सादर

Comment by Afroz 'sahr' on December 19, 2017 at 1:24pm

आदरणीय सतविंद्र जी इस रचना पर बधाई आपको पाँचवे शेर के सानी मिसरे में "उसका"  "ग़मका"  "का" की तकरार के सबब रवानी में अटकाव आ रहा है। इसे यूँ किया जासकता है,,,, "दिल में ग़म का इक सागर है"

Comment by सतविन्द्र कुमार राणा on December 18, 2017 at 10:53pm
आ० महेंद्र कुमार जी हौंसलाफ़ज़ाई के लिए सादर आभार नमन
Comment by सतविन्द्र कुमार राणा on December 18, 2017 at 10:53pm
आदरणीय तस्दीक अहमद खां जी,हौंसलाफ़ज़ाई के लिए तहे दिल शुक्रिया
Comment by सतविन्द्र कुमार राणा on December 18, 2017 at 10:52pm
आदरणीय समर कबीर जी आपको प्रयास पसन्द आया,यह सार्थक हुआ। सादर आभार नमन
Comment by सतविन्द्र कुमार राणा on December 18, 2017 at 10:51pm
आदरणीय सुशील सरन जी उत्साहवर्धन के लिए सादर आभार संग नमन
Comment by सतविन्द्र कुमार राणा on December 18, 2017 at 10:50pm
आदरणीय बृजेश भाई जी उत्साहवर्धन के लिए बहुत-बहुत आभार
Comment by सतविन्द्र कुमार राणा on December 18, 2017 at 10:49pm
आदरणीय कालीपद प्रसाद मंडल जी,हौंसलाफ़ज़ाई के लिए तहेदिल आभार

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

बासुदेव अग्रवाल 'नमन' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-100
"आ0 समर सर आपकी इस्लाह का संज्ञान लेते हुए आपका तहे दिल से शुक्रिया।"
43 seconds ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-100
"आ. भाई अजय जी, प्रशंसा के लिए आभार ।"
1 minute ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-100
"आ. भाई अजय जी, हार्दिक धन्यवाद ।"
5 minutes ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-100 (भाग -2)
"जनाब अशोक कुमार रक्ताले जी आदाब, ओबीओ के गोल्डन जुबली अंक में आपका स्वागत है । अच्छी ग़ज़ल कही…"
5 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-100
"आ. भाई महेंद्र जी, स्नेभिब्यक्ति के लिए आभार ।"
6 minutes ago
Gajendra shrotriya replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-100 (भाग -2)
"मैं दीया हूँ बता गया है मुझे कोई फिर से जला गया है मुझे  कनखियों पर रखा गया है मुझेइस अदा…"
7 minutes ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-100 (भाग -2)
"जनाब राणा प्रताप सिंह जी आदाब,ये ग़ज़ल भी उम्दा हुई,दाद के साथ मुबारकबाद पेश करता हूँ । आख़री शैर में…"
12 minutes ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-100
"आद0 शैख़ शहज़ाद उस्मानी साहब सादर अभिवादन। मुशायरे में आपकी प्रतिभागिता देख सुखद अनुभव हुआ। बढिया…"
15 minutes ago
Ajay Tiwari replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-100 (भाग -2)
"ख़ुदकुशी है ऐ “नूर” सच कहना कह के इक आईना गया है मुझे.. ये शेर धीरे धीरे खुलता…"
16 minutes ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-100
"आद0 मोहन बेगोवाल जी सादर अभिवादन। ग़ज़ल का बेहतरीन प्रयास पर दिली मुबारकबाद कुबुल करें।"
17 minutes ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-100 (भाग -2)
"जनाब अजय तिवारी जी आदाब,ग़ज़ल जल्दबाज़ी में कही गई है,मगर अच्छी है,बधाई स्वीकार करें । आख़री शैर बहुत…"
17 minutes ago

सदस्य कार्यकारिणी
शिज्जु "शकूर" replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-100 (भाग -2)
"ख़ुदकुशी है ऐ “नूर” सच कहना कह के इक आईना गया है मुझे// हक़ीक़त बयां कर दी आपने।…"
18 minutes ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service