For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

                     ग़ज़ल

इस  तरह  तोड़ा  हमारा   दिल    हमारे   प्यार   ने.|
जैसे  क  जीने  का  हम  से  ले  लिया  संसार   ने || 


जिंदगी  को   आज  जकड़ा,  इस  तरह  तूफ़ान  ने,
ले  लिया  आगोश  मैं  मुझे  दर्द  के   मंझधार   ने ||


जीना है मुश्किल बहुत अब, जिंदगी है एक सजा,
साथ  छोड़ा  है  मेरा  हर  हाथ  और  हथियार   ने ||


थी  कभी  हसरत,   चमन   में  हों  बहारें फूल की,
पर  मुझे  ही  क़त्ल  कर  डाला  मेरे  गुलज़ार   ने ||


अब   सहारा  है  यही  गम  और यही गम मीत है,
प्यार  कह  कर  के  दिया  जो कुछ मुझे बाज़ार ने ||


मुझको  मेरे  दर्द   में   डूबा   हुआ  तुम   छोड़   दो,
दोस्ती  कर  ली  है  मुझसे,  मेरे  गम  के  हार  ने ||

                                 रचनाकार - अभय दीपराज

Views: 70

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Abhay Kant Jha Deepraaj on December 23, 2010 at 8:14pm
प्रिय मित्र गणेशजी बहुत-बहुत धन्यवाद, कि - आप ने मेरी रचना को पढ़ा और मेरे प्रयास को सराहा | आपका अभयदीपराज

मुख्य प्रबंधक
Comment by Er. Ganesh Jee "Bagi" on December 19, 2010 at 12:22pm

जिंदगी को आज जकड़ा इस तरह तूफ़ान ने,
ले लिया आगोश मैं मुझे दर्द के मंझधार ने ||

 

दीपराज साहब बढ़िया ग़ज़ल पढ़ी है आप ने, सभी शे,र अच्छे लगे, ऊपर लिखा शेयर ज्यादा करीब लगा |

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post राजन तुम्हें पता - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई समर कबीर जी, अब देखियेगा । सादर...."
17 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post करता रहा था जानवर रखवाली रातभर - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' (गजल)
"आ. भाई सुरेंद्र नाथ जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति और सराहना के लिए हार्दिक न्धन्यवाद।"
18 minutes ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' posted a blog post

ग़ज़ल- हर कोई अनजान सी परछाइयों में क़ैद है

जानकर औक़ात अपनी वो हदों में क़ैद हैहर परिंदा आज अपने घोसलों में क़ैद है।।जीत लेगा मौत को भी आदमी यूँ…See More
19 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' posted blog posts
20 minutes ago
Admin posted a discussion

"ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-116

आदरणीय साहित्य प्रेमियो,जैसाकि आप सभी को ज्ञात ही है, महा-उत्सव आयोजन दरअसल रचनाकारों, विशेषकर…See More
47 minutes ago
Anil Kumar Singh joined Admin's group
Thumbnail

ग़ज़ल की कक्षा

इस समूह मे ग़ज़ल की कक्षा आदरणीय श्री तिलक राज कपूर द्वारा आयोजित की जाएगी, जो सदस्य सीखने के…See More
56 minutes ago
Dimple Sharma posted a blog post

वहाँ एक आशिक खड़ा है ।

वहाँ एक आशिक खड़ा है । जो दिल तोड़ कर हँस रहा है ।।मुहब्बत करें तो करें क्या ..? मुहब्बत में धोका…See More
2 hours ago
Samar kabeer commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post राजन तुम्हें पता - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"'शराब' के साथ 'निराश' की तुक कैसे होगी भाई?"
2 hours ago
Dimple Sharma commented on Dimple Sharma's blog post कहीं नायाब पत्थर है , कहीं मन्दिर मदीना है
"आदरणीय सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' जी नमस्कार और बहुत बहुत धन्यवाद आभार स्वीकार करें…"
2 hours ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post नदी इंकार मत करना कभी तू अपनी क़ुर्बत से (१०७ )
"आद0 गिरधर सिंह गहलोत जी सादर अभिवादन। बढ़िया ग़ज़ल कही आपने। बधाई स्वीकार कीजिए"
3 hours ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' commented on Dimple Sharma's blog post कहीं नायाब पत्थर है , कहीं मन्दिर मदीना है
"आद0 डिम्पल शर्मा जी सादर अभिवादन। खूबसूरत ग़ज़ल पर बधाई स्वीकार करे"
3 hours ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' commented on Sushil Sarna's blog post उल्फ़त पर दोहे :
"आद0 सुशील सरना जी सादर अभिवादन। अच्छे दोहे लिखे है। आद0 समर साहब की बातों का संज्ञान लीजिएगा। बधाई…"
3 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service