For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

R.C.Singh
Share
  • Feature Blog Posts
  • Discussions
  • Events
  • Groups
  • Photos
  • Photo Albums
  • Videos
 

R.C.Singh's Page

Latest Activity

R.C.Singh commented on Usha's blog post क्षणिकाएँ।
"आदरणीय उषा जी आपने अपनी इस मोहक कविता में वास्तव में भावों को शब्दों में इस तरह पिरोकर उदगारित किया है कि ये कहना गलत न होगा-रख दिया है कागज पर कलेजा निकालकर,आपके उदगार व्यावहारिक हैं । बधाई स्वीकारें।"
Nov 2, 2019

Profile Information

Gender
Male
City State
Meerut
Native Place
Hasanpur
Profession
Assistant Professor
About me
I am a self made person and wish to know the details of whatever come in my way. i want to be in a learning phase forever to upgrade myself

kavita

माँ बैठी थी आँगन मे,सोचे बिचारे अपने मन मे| 
एक फुहार यहाँ भी आएगी, मेरा भी तो हिस्सा है सावन मे || 
बेटा तुम जब घर आओगे, मेरे लिए खुशियाँ लाओगे| 
सब देखेंगे वह आया है, खुशियों की बारिश लाया है || 
टीनू, मीनू,बबलू,पिंकी सब बैठे हैं इंतजार मै| 
भैया फौज से घर आएगा,सबके लिए कुछ-कुछ लाएगा|| 
मै नचूंगीतू गाएगा,सबके मान को खूब भाएगा| 
सब खुश है तॉहफो के लिए. वह पागल बैठी है तेरे प्यारमे | 
                                                                 "मौलिक व अप्रकाशित"

Comment Wall (2 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 10:02pm on October 20, 2015,
सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर
said…

ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार की ओर से आपको जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें...

At 11:54pm on April 28, 2015,
सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर
said…

आदरणीय आर सी सिंह जी आपके द्वारा बहुत सुन्दर कविता पोस्ट की गई है -

माँ बैठी थी आँगन मे,सोचे बिचारे अपने मन मे| 

एक फुहार यहाँ भी आएगी, मेरा भी तो हिस्सा है सावन मे || 
इस प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई निवेदित है.
आपसे रचना पोस्ट करने विषयक जानकारी साझा करना चाहता हूँ. आपके द्वारा पोस्ट रचना आपके पन्ने पर है अतः इसे पाठक नहीं देख पाए. अतः आपसे निवेदन है कि रचना ब्लोग्स के अंतर्गत पोस्ट करें 
इसकी बड़ी सहज प्रक्रिया है सबसे पहले  ब्लोग्स पर क्लिक करे जो पेज खुलेगा उसके दाहिनें तरफ Add का बटन लिंक आएगा उसे क्लिक करने पर रचना पोस्ट करने हेतु बॉक्स आएगा जिसमे रचना पेस्ट करें शीर्षक कॉलम में रचना का शीर्षक लिखकर पब्लिश बटन दबाते ही आपका रचना का ब्लॉग पोस्ट हो जाएगा. आशा है शीघ्र ही आपकी मौलिक और अप्रकाशित रचना पढने मिलेगी.
सादर 
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

amita tiwari commented on amita tiwari's blog post करोना -योद्धाओं के नाम
"आदरणीय  समीर साहब तथा बृजेश जी  रचना के स्वागत के लिए  आभारी…"
5 hours ago
सालिक गणवीर commented on सालिक गणवीर's blog post मार ही दें न फिर ये लोग मुझे.....( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"आदरणीय  बृजेश कुमार 'ब्रज' जी सादर अभिवादन ग़ज़ल पर आपकी शिर्कत और हौसला अफज़ाई के…"
12 hours ago
सालिक गणवीर commented on सालिक गणवीर's blog post मार ही दें न फिर ये लोग मुझे.....( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"आदरणीय  लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'जी सादर अभिवादन ग़ज़ल पर आपकी शिर्कत और हौसला अफज़ाई…"
12 hours ago
सालिक गणवीर commented on सालिक गणवीर's blog post मार ही दें न फिर ये लोग मुझे.....( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"आदरणीय समर कबीर साहिब आदाब ग़ज़ल पर आपकी शिर्कत और हौसला अफज़ाई के लिये तह-ए -दिल से आपका शुक्रिया अदा…"
12 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on सालिक गणवीर's blog post मार ही दें न फिर ये लोग मुझे.....( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"बढ़िया ग़ज़ल कही आदरणीय सालिग जी..."
18 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on सचिन कुमार's blog post ग़ज़ल
"ग़ज़ल भावपूर्ण है मित्र...आदरणीय समर जी ने सार्थक समीक्षा की है।"
18 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on amita tiwari's blog post करोना -योद्धाओं के नाम
"अच्छी कविता लिखी है आदरणीया..."
18 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post मुफलिसी में ही जिसका गुजारा हुआ - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' (गजल)
"अच्छी ग़ज़ल कही आदरणीय धामी जी"
18 hours ago
Veena Gupta posted a blog post

रफ़्तारे ज़िन्दगी

बड़ी तेज़ रफ़्तार है ज़िन्दगी की,मुट्ठी से फिसलती चली जा रही है उम्र की इस दहलीज़ पर जैसे,ठिठक सी…See More
20 hours ago
PHOOL SINGH posted blog posts
20 hours ago
Samar kabeer commented on Samar kabeer's blog post तरही ग़ज़ल
"जनाब नाहक़ साहब आपका बहुत बहुत शुक्रिय:"
yesterday
dandpani nahak commented on Samar kabeer's blog post तरही ग़ज़ल
"परम आदरणीय समर कबीर साहब प्रणाम बेहतरीन ग़ज़ल के लिए हार्दिक बधाई स्वीकार करें ! सभी शैर एक से बढ़कर…"
yesterday

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service