For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Ravi Prakash
  • Male
  • HP
  • India
Share

Ravi Prakash's Friends

  • rajveer singh chouhan

Ravi Prakash's Groups

 

Ravi Prakash's Page

Profile Information

Gender
Male
City State
Shimla
Native Place
Jubbal
Profession
Teachar
About me
Mujhe Manzilon Se Dar Lagta Hai Raaston Se Nahin..

Ravi Prakash's Blog

आओ सजनी // रवि प्रकाश

आओ इक दूजे से कह लें

दिन का हाल रात की बातें

सौगातें हर बीते पल की

याद करें फिर से सजनी

रजनी ये फिर क्यों लौटेगी

जो बीत गई तो बीत गई

कल रीत नई चल निकलेगी

जब आएगा सूरज नूतन

उपवन-उपवन क्या बात चले

गलियों में कैसी हलचल हो

कलकल हो कैसी सरिता में

अम्बर का विस्तार न जाने

अनजाने रंगों में ढल कर

सारे जग पर छा जायेगा

गा पाएगा फिर भी क्या मन

वही प्रीत का गीत पुराना

वही सुहाना मौसम फिर से

लौटेगा क्या मन के गुलशन

धड़कन-धड़कन नाम तुम्हारा

इसी तरह क्या ले पाएगी

दे पाएगी सपने हमको

नींद हमारी वही सुहाने

वही तराने जिनको गा कर

तन-मन पावन हो जाता था

खो जाता था हर दुख जिनमें

लौटेंगे, ये विश्वास नहीं

अहसास नहीं ये फिर होंगे

जाने जीवन कैसे बीते

रीते-रीते साँझ-सवेरे

चौखट पे यूँ पसरे होंगे

मानो युग से वहीं पड़े हों

और अड़े होंगे कितने ही

नाउम्मीदी के साये भी

आएगी फिर धूप कहाँ से

जो तन मन को गरमाहट दे

आहट दे थोड़ी ख़ुशियों की

थोड़ी… Continue

Posted on January 26, 2017 at 7:43pm — 2 Comments

ओ री चंदनिया//रवि प्रकाश

ओ री चंदनिया!
ओ री चंदनिया तुझको सब तारे क्या कहते हैं
मैं तो धड़कन कहता हूँ ये सारे क्या कहते हैं।
क्या कहते हैं अम्बर के जागे जागे उजियारे
मीलों मीलों धरती के अँधियारे क्या कहते हैं।

कैसा लगता है तुझको बादल जब गाते हैं
कुछ तन को छू लेते हैं कुछ मन तक आते हैं।
सिहरन सी होती है क्या बिजली की अँगड़ाई से
हुलसा करता है हियरा मिलकर क्या पुरवाई से।
बूंदें जब छू लेती हैं तुझको सावन भादों में
अक्सर क्या खो जाती है तू भी मेरी यादों में।
परबत के सूनेपन पे छाया कुहरा क्या बोला
लहरों से पास बुला के सागर गहरा क्या बोला।
ओ री जोगनिया अक्सर क्या सुनता जंगल तुझसे
पत्तों में बजने वाले इकतारे क्या कहते हैं।
-08.12.2016
(मौलिक एवं अप्रकाशित)

Posted on January 16, 2017 at 8:33am — 7 Comments

ग़ज़ल (पुराने अंदाज़ में) // रवि प्रकाश

ग़ज़ल (पुराने अंदाज़ में)
बहर-SSSSSSSSSSS

जीवन का एकाकीपन मिट जावेगा
आन मिलेंगे पी तो मन इतरावेगा।
  आ जावेंगे बिछुड़े संगी-साथी भी
  कौन कहाँ लौं मन ऐसे तरसावेगा।
जब निरखेंगे नैन किसी के नेह भरे
झूलों का मौसम फिर से फिर आवेगा।
  परसेगा कब तक शून्य हमारी निद्रा
  अब तो कोई सपना दर खटकावेगा।
मन हुलसेगा सावन के पहले घन सा
झूमेगा,हर ओर सुधा बरसावेगा।
  खो देंगे हम भी उस पल सारी निजता
  रंग किसी का जब हस्ती पे छावेगा।
जी ही जी में नित्य खिलाया जिसको वो
पुष्प हमारे उपवन को महकावेगा।
  प्राण-प्रतिष्ठा होगी सूने मंदिर में
  पूजन-अर्चन का दीपक जल जावेगा।
आँखों में सब बाँचेगा वो मनभावन
वाणी का यह कोष धरा रह जावेगा।
  छँट जावेंगे आप उदासी के बादल
  वो मीठी बातों से जी बहलावेगा।
हाल हमारे जी का यूँ होगा बिरला
मूरख सब खोकर भी सब पा जावेगा।
-14.08.2016
मौलिक एवं अप्रकाशित।

Posted on November 24, 2016 at 1:42pm — 4 Comments

है यही पाथेय मेरा // रवि प्रकाश

है यही पाथेय मेरा

एक नन्हा सा अकेला

पल कि जिसमें एक मैं हूँ एक तुम हो

दूर तक कोई नहीं है

और भीतर झिलमिलाते कोटि दीपक

टिमटिमाते हैं सितारे और सूरज भी दमकते

फूटते निर्झर सहस्रों

अति सघन हिमरेख गल कर बह निकलती,

चाह कर भी छुप न पाती

हैं उमंगें दो दिलों की

देह आगे और आगे ही सरकती

चाहती अस्तित्व का अंतिम सिरा

छू कर पिघलना,

देखते हैं नैन ऐसे

आ गया हो ज्वार जैसे

और फिर यूँ बंद होते

लाज में लिपटे अचानक

दूर परबत के शिखर पे

सूर्य की अंतिम किरण

ज्यों भूल कर सारा अहम् सब लालिमा भी

सांझ के रंगों में हो कर लीन

खुद को पूर्ण माने,

कँपकँपाते होंठ जैसे गा रहे हैं

मौन होकर राग कोई

जो हमारी बस हमारी धड़कनें पहचानती हैं,

हाथ दोनों नींद से जब जाग कर

हैं टोहते सारी शिराएँ

और फिर कुछ याद करके थम गये हैं

थाम कर मेरी भुजाएँ

पाँव झिझके और सहमे बढ़ चले हैं

खोजते कोई सहारा और पहरा तोड़ते

फिर खो के सुध-बुध

ठौर अपना ही भुला के रुक गए हैं

लाज की रेखाएँ… Continue

Posted on November 19, 2016 at 2:24pm — 6 Comments

Comment Wall (7 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 4:53pm on September 17, 2015,
सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर
said…

ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार की ओर से आपको जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें...

At 12:19pm on September 10, 2013, AVINASH S BAGDE said…

"बेहद सुंदर रचना .. आदरणीय रवि प्रकाश जी बहुत बधाई आपकी रचना को महीने की सर्वश्रेष्ठ रचना से सम्मानित और पुरुस्कृत होने के लिए ..शुभकामनाये"

At 11:32pm on September 7, 2013, बृजेश नीरज said…

सर्वश्रेष्ठ रचना पुरूस्कार हेतु आपको हार्दिक बधाई!

At 7:44pm on September 6, 2013, केवल प्रसाद 'सत्यम' said…

आ0 रवि प्रकाश भाई जी,    माह की सर्वश्रेष्ठ रचना के सम्मान हेतु आपको ढ़ेरों शुभकामनाओं सहित बहुत-बहुत हार्दिक बधाई।  सादर,

At 1:26am on September 6, 2013, Abhinav Arun said…

''रूप तुम्हारे'' आपकी इस रचना को 
 श्री रवि प्रकाश जी 
 "महीने की सर्वश्रेष्ट रचना पुरस्कार"

प्राप्त होने पर कोटि कोटि बधाई और शुभकामनायें !!

At 10:16pm on September 5, 2013,
सदस्य कार्यकारिणी
गिरिराज भंडारी
said…

आदरणीय रवि प्रकाश जी , आपकी रचना को माह की सर्व श्रेष्ठ रचना घोषित लिये जाने के लिये आपको हार्दिक बधाई !!

At 9:58pm on September 5, 2013,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…

आदरणीय रवि प्रकाश जी,
सादर अभिवादन !
मुझे यह बताते हुए हर्ष हो रहा है कि आप की रूप तुम्हारे को महीने की सर्वश्रेष्ठ रचना पुरस्कार के रूप मे सम्मानित किया गया है, तथा आप की छाया चित्र को ओ बी ओ मुख्य पृष्ठ पर स्थान दिया गया है | इस शानदार उपलब्धि पर बधाई स्वीकार करे |

आपको पुरस्कार राशि रु 1100 /- और प्रसस्ति पत्र शीघ्र उपलब्ध करा दिया जायेगा, इस नामित कृपया आप अपना नाम (चेक / ड्राफ्ट निर्गत हेतु), तथा पत्राचार का पता व् फ़ोन नंबर admin@openbooksonline.com पर उपलब्ध कराना चाहेंगे | मेल उसी आई डी से भेजे जिससे ओ बी ओ सदस्यता प्राप्त की गई हो |


शुभकामनाओं सहित
आपका
गणेश जी "बागी

संस्थापक सह मुख्य प्रबंधक 

ओपन बुक्स ऑनलाइन 

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

SALIM RAZA REWA posted blog posts
12 hours ago
Manan Kumar singh posted a blog post

नागरिक(लघुकथा)

' नागरिक...जी हां नागरिक ही कहा मैंने ', जर्जर भिखारी ने कहा।' तो यहां क्या कर रहे हो?' सूट बूट…See More
12 hours ago
विमल शर्मा 'विमल' posted a blog post

महकता यौवन/ विमल शर्मा 'विमल'

उठे सरस मृदु गंध, महकता यौवन तेरा। देख जिसे दिन रात ,डोलता है मन मेरा। अधर मधुर मुस्कान, छलकती मय…See More
12 hours ago
Mahendra Kumar posted a blog post

ग़ज़ल : इक दिन मैं अपने आप से इतना ख़फ़ा रहा

अरकान : 221 2121 1221 212इक दिन मैं अपने आप से इतना ख़फ़ा रहाख़ुद को लगा के आग धुआँ देखता रहादुनिया…See More
12 hours ago
Sushil Sarna posted a blog post

विशाल सागर ......

विशाल सागर ......सागरतेरी वीचियों पर मैंअपनी यादों को छोड़ आया हूँतेरे रेतीले किनारों परअपनी मोहब्बत…See More
12 hours ago
विमल शर्मा 'विमल' commented on विमल शर्मा 'विमल''s blog post रंग हम ऐसा लगाने आ गये - विमल शर्मा 'विमल'
"आदरणी अग्रज लक्ष्मण धामी जी कोटिशः आभार एवं धन्यवाद"
yesterday
SALIM RAZA REWA commented on SALIM RAZA REWA's blog post कैसे कहें की इश्क़ ने क्या क्या बना दिया - सलीम 'रज़ा'
"नज़रे इनायत के लिए बहुत शुक्रिया नीलेश भाई , आप सही कह रहें हैं कुछ मशवरा अत फरमाएं।"
Tuesday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post कठिन बस वासना से पार पाना है-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'( गजल )
"आ. भाई समर जी, सादर अभिवादन । गजल के अनुमोदन के लिए हार्दिक धन्यवाद।"
Tuesday
Mahendra Kumar commented on Mahendra Kumar's blog post ग़ज़ल : इक दिन मैं अपने आप से इतना ख़फ़ा रहा
"आपकी पारखी नज़र को सलाम आदरणीय निलेश सर। इस मिसरे को ले कर मैं दुविधा में था। पहले 'दी' के…"
Tuesday
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post कुछ क्षणिकाएँ : ....
""आदरणीय   Samar kabeer' जी सृजन पर आपकी ऊर्जावान प्रतिक्रिया का दिल से…"
Tuesday
PHOOL SINGH commented on PHOOL SINGH's blog post पिशुन/चुगलखोर-एक भेदी
"भाई विजय निकोरे आपने मेरी रचना के अपना समय निकाला उसके लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद "
Tuesday
PHOOL SINGH commented on PHOOL SINGH's blog post एक पागल की आत्म गाथा
"कबीर साहब को मेरी रचना के लिए समय निकालने के लिए कोटि कोटि धन्यवाद "
Tuesday

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service