For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

harkirat heer
Share

Harkirat heer's Friends

  • Dr Babban Jee
  • anwar suhail
  • Neelkamal Vaishnaw
  • अरुन शर्मा 'अनन्त'
  • SURENDRA KUMAR SHUKLA BHRAMAR
  • vijay tiwari 'kislay'
  • Gyanendra Nath Tripathi
  • rajendra kumar
  • वीनस केसरी
  • shekhar jha`
  • Azeez Belgaumi
  • prabhat kumar roy
  • GOPAL BAGHEL 'MADHU'
  • Veerendra Jain
  • DEEP ZIRVI

harkirat heer's Groups

 

harkirat heer's Page

Profile Information

Gender
Female
City State
Assam
Native Place
Assam
Profession
house wife
About me
writer....

harkirat heer's Photos

  • Add Photos
  • View All

Comment Wall (9 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 3:12pm on August 31, 2011, SS said…

 

Harkirat ji,

Janam din bahut-bahut Mubarak!

hardeep 

At 3:06pm on August 31, 2011, SS said…
Harkirat ji,
Janam din Mubarak !

hardeep
At 11:17am on August 31, 2011,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…

At 2:53pm on March 16, 2011, Sanjay Rajendraprasad Yadav said…

 

 "इस परिवार में आप का तहे दिल से स्वागत ,

   `आप की तरह आप की रचनाये भी बेहद भावपूर्ण है.....................................................?

At 2:53pm on March 16, 2011, Sanjay Rajendraprasad Yadav said…

 

 "इस परिवार में आप का तहे दिल से स्वागत ,

   `आप की तरह आप की रचनाये भी बेहद भावपूर्ण है.....................................................?

At 3:11pm on December 17, 2010,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…
At 5:20pm on December 14, 2010, Deepak Sharma Kuluvi said…

SHUKRIYA MADAM

AAPSE BHI SIKHANE KO KUCHH MILEGA ZARUR

DEEPAK KULUVI

At 10:00am on December 13, 2010, Admin said…

At 7:40pm on December 4, 2010, PREETAM TIWARY(PREET) said…

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Rupam kumar -'मीत' commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post मुँह ज़ख्मों के शे'र सुनाकर सीता है
"मुहतरम समर कबीर साहब जी, अगर "तू पहले से ज़्यादा सिगरेट पीता है" यह कर दिया जाए तो क्या…"
1 hour ago
Rupam kumar -'मीत' commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post ये ग़म ताज़ा नहीं करना है मुझको
"अमीरुद्दीन खान साहब आपने जो इस्लाह की उससे सहमत हूँ, मैंने सही कर लिया है। आपका स्नेह मिलता रहे,…"
1 hour ago
Dimple Sharma joined Admin's group
Thumbnail

ग़ज़ल की कक्षा

इस समूह मे ग़ज़ल की कक्षा आदरणीय श्री तिलक राज कपूर द्वारा आयोजित की जाएगी, जो सदस्य सीखने के…See More
3 hours ago
Dimple Sharma updated their profile
3 hours ago
डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव posted a discussion

पूर्वराग के रंग कच्चे भी और पक्के भी: डॉ. गोपाल नारायन श्रीवास्तव

मानव के रूप में हम सभी ने अपने अंतस में शृंगार रस के संयोग और वियोग दोनों स्वरूपों का अनुभव अवश्य…See More
3 hours ago
Sushil Sarna posted blog posts
3 hours ago
Rupam kumar -'मीत' posted a blog post

ये ग़म ताज़ा नहीं करना है मुझको

१२२२/१२२२/१२२ ये ग़म ताज़ा नहीं करना है मुझको वफ़ा का नाम अब डसता है मुझको[१] मुझे वो बा-वफ़ा लगता…See More
3 hours ago
Dimple Sharma is now a member of Open Books Online
3 hours ago
सालिक गणवीर commented on सालिक गणवीर's blog post ग़ज़ल ( ये नया द्रोहकाल है बाबा...)
"मोहतरम समर कबीर साहब आदाब जनाब, मैं समझता हूँ एक शब्द के लिए इतनी बहस उचित नहीं है. इसे क्या मैं इस…"
11 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post अधूरे अफ़साने :
"आदरणीय समर कबीर साहिब, आदाब, सृजन के भावों पर आपकी स्नेह बरखा का दिल से आभार। आपके सुझाव का दिल से…"
22 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post अधूरे अफ़साने :
"आदरणीय  अमीरुद्दीन खा़न "अमीर " जी भावों पर आपकी मनोहारी प्रशंसा से सृजन सार्थक…"
22 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post अधूरे अफ़साने :
"आदरणीय  लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर जी भावों पर आपकी मनोहारी प्रशंसा से सृजन सार्थक हुआ,…"
22 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service