For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Manan Kumar singh's Blog – August 2015 Archive (9)

गजल(मनन)

जिंदगी है जब किसीके नाम आये जिंदगी,

जिंदगी है जब कभी पैगाम लायेे जिंदगी।

जिंदगी है कह रही तेरी कथा अबतक हसीं,

जिंदगी है जब किसीके काम आये जिंदगी।

जा रही तू अब तलक है कामिनी इठला अरी,

जिंदगी है जब कहीं मोक़ाम आये जिंदगी।

तू रही अबतक बरस पर धूम ही छाता गया,

जिंदगी है जब बरस कोंपल खिलाये जिंदगी।

पड़ रही बेकल गले अपने-पराये कर रही,

जिंदगी है जब ठहर सीने लगाये जिंदगी।

गा रही गुनगुन हमेशा धुन हवाओं की रही,

जिंदगी है जब किसीका दर्द गाये… Continue

Added by Manan Kumar singh on August 31, 2015 at 5:38pm — 2 Comments

गजल(मनन)

2212 2122
मूरत बनी रंग भरते!
दोस्ती निभा दंग करते!
कोई बना कुछ रहा अब
कुछ तो नियम भंग करते।
उनकी कथा क्या कहूँ अब
हिन्दी हसीं तंग करते।
लिखते अलिपि आँख मूँदे
सब रंग बद रंग करते।
वह तो खड़ी, है भरी वह,
वे छेड़ क्यूँ अंग करते?
"मौलिक व अप्रकाशित"@ मनन
खड़ी=खड़ीबोली
छेड़=छेड़छाड़
अलिपि=लिपि से बाहर

Added by Manan Kumar singh on August 23, 2015 at 10:30pm — 8 Comments

गजल(मनन)

घटायें(गजल)

2212 2212 2212

उड़ती घटायें आ चली जातीं कभी,

बरसीं नहीं,ना देख नहलातीं कभी।

चक्कर चलाती हैं हवा के संग वे,

रूप पर उछलतीं खूब इतरातीं कभी।

घूमीं घटायें घात में, बेबाक कब?

रहतीं सदा उड़ती कहीं जातीं कभी।

तू तो रहा उम्मीद पाले बूँद की,

आँखें तरस जातीं,घटा भाती कभी।

बदलीं घटायें बार कितनी कह सकोगे?

बदली भिंगोती प्यार ले छाती कभी।

तूने कहा सुन लो घटाओ पास आ,

बेख़ौफ़ यूँ उड़ती ठहर पाती कभी!

रूप की उड़ी पाती घटायें हैं… Continue

Added by Manan Kumar singh on August 17, 2015 at 10:00am — 8 Comments

गजल(मनन)

बंदगी एक स्वतंत्र देश की

2212 2212

अपना गगन अपना चमन!

अपनी धरा अपना वतन!

रातें गयीं तम भी गया,

ऐसा लगा बदला चलन।

खुली हवा साँसें गहन,

होगा नया सब कुछ वहन।

आसां नहीं आशा रही,

खींचे गये खाँचे गगन।

धूमों पटा तेरा गगन,

तू तो रहा अपने मगन।

रेखा लगा धरती गगन,

उसने तलाशा निज गगन।

तेरा गगन तू दूर अब,

तेरी धरा कितना क्षरण!

जीवन लिया तेरी दया,

बाँटे उसीने तो मरण।

खोजा कभी दंभी कहाँ?

कर दो उसे झंडा… Continue

Added by Manan Kumar singh on August 11, 2015 at 9:30am — 4 Comments

गजल(मनन)

गजल
2122 2122 2122
तू कहीं जा ओ यहाँअब खैर ही कब?
तोड़कर दिल वो कहेंगे गैर ही कब?
है बसी बस्ती यहाँ उन बागवां की,
लूटते जो दिल कहें की सैर ही कब?
बैठ तेरे पहलू' मन की बात करते,
नोच बखिया खूब बोले गैर ही कब?
आ कहेंगे हम रहे कबसे रे बुलाते,
रे निभायी है वफ़ा बस बैर ही कब?
है नदी साग़र नहीं जल तो बहुत है,
तिर किनारे तू लगे अब खैर ही कब?
"मौलिक व अप्रकाशित"@मनन
साग़र=प्याला
'=मात्रा-पतन
बागवाँ=बागवाले

Added by Manan Kumar singh on August 9, 2015 at 12:03pm — 7 Comments

गजल (मनन)

गजल

122 122 122

उजाले डराने लगे हैं,

अँधेरे बुलाने लगे हैं।

विभा दीपकों से मिली थी,

जलाते ! बुझाने लगे हैं।

किताबें रखी थीं यहीं तो,

न माने,जलाने लगे हैं।

हुनर की कहूँ क्या?न पूछो,

मरे,कुछ ठिकाने लगे हैं।

नहीं है पता खुद,वहीअब

मुझे कुछ बताने लगे हैं।

न देखूँ, रिसाने लगे वे,

दिखें तो लजाने लगे हैं।

करूँ क्या कभी तो नजर है,

कभी वे बचाने लगे हैं।

भुलाता,न भूले कभी वे,

मुआ याद आने लगे हैं।

रही थीं धुनें चुप… Continue

Added by Manan Kumar singh on August 8, 2015 at 6:00pm — 3 Comments

गजल(मनन)

2122 2122

मेघ जब होता सजल है,

नेह हो जाता नवल है।

ख्वाहिशों की दूब सूखी,

चाहती कुछ तो चपल है।

देह जो बेसुध पड़ी है,

ढूँढती फिर से पहल है।

शब्द कबसे कर रहा अब,

भाव भूले की टहल है।

मौन रुख अब माँग लूँ मैं,

मन अभी जाता मचल है।

होंठ सूखे,जीभ जलती,

लद गये हैं मेघ जल है।

भींग जाने दो अभी भी,

मान तेरा जो अचल है।

मानता हूँ मानिनी मैं,

प्यार तेरा तो अतल है।

मान जा,री मान तज कर,

आखिरी मेरी पहल है।

"मौलिक व… Continue

Added by Manan Kumar singh on August 4, 2015 at 8:30pm — 10 Comments

गजल

गजल
2212 2212
हर बार मजहब मत उठा,
नाचीज अब भौं मत चढा।
जो हो न कुछ, तो मत बजा,
आका, कभी कुछ मत बना।
रोटी पकी, अब चुप रहो,
जनता जली,जन मत जला।
झंडे उठा तू था गया,
दे कर उसे, तूने छला।
मजहब भला करता कि वह
हरदम रहा मरता चला?
ढोते रहे बस भार-से,
ईमान तो उनकी बला।
बोले कि मानेंगे सभी
मजहब,कभी बातें भला?
उसने कहा आगे न जा,
तेरी धता,फिर भी चला।
मौलिक व अप्रकाशित@मनन

Added by Manan Kumar singh on August 1, 2015 at 9:38am — 2 Comments

गजल

यक्षोवाच-

गजल

2122 2122 212

मेघ खबरें अब न ले जाते वहाँ?

बरसते भी अब न,वे आते वहाँ?

भाव मेरे नाम तेरे ले गये,

क्या पता क्या गीत वे गाते वहाँ।

झाँक लेना तू कभी जब मेघ हो,

बाँच लेना तू फुहारें हे वहाँ।

कामिनी तू, काम मैं,ले कामना

मचलता हूँ,बात पहुँचाते वहाँ?

पवन को दी है उसाँसें,उड़ चला,

देख लेना,श्वास उर भाते वहाँ?

दिल धड़का जब,खबर होगी वहाँ,

देख अब ये कब पहुँचाते वहाँ।

सूखकर काँटा हुईं अब पुतलियाँ,

बरस जातीं जो सजल… Continue

Added by Manan Kumar singh on August 1, 2015 at 8:30am — 6 Comments

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

अजय गुप्ता replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-113
"कहाँ मासूमियत का "कल" सँवारा जा रहा हैहै सच तो ये कि इसका "आज" मारा जा रहा…"
32 minutes ago
अजय गुप्ता replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-113
"बहुत बढ़िया ग़ज़ल आदरणीय महेंद्र कुमार जी। मुशायरे का आग़ाज़ करने के लिए भी बहुत-बहुत बधाई।"
59 minutes ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-113
"आद0 महेन्द जी उम्दा ग़ज़ल कही आपने, मुशायरे का प्रारम्भ  एक बेहतरीन ग़ज़ल से करने पर आपको बहुत…"
2 hours ago
Mahendra Kumar replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-113
"मुहब्बत में नफ़ा है या ख़सारा जा रहा हैकभी सोचा न हमने क्या हमारा जा रहा है ये क्या कम है कि उस पर…"
4 hours ago
Neelam Dixit is now a member of Open Books Online
4 hours ago
SALIM RAZA REWA commented on Sushil Sarna's blog post उजला अन्धकार..
"आदरणीय सुशील सरना जी ख़ूबसूरत कविता के लिए बधाई स्वविकारें।"
9 hours ago
SALIM RAZA REWA commented on TEJ VEER SINGH's blog post उसूल - लघुकथा -
"मुबारकबाद आदरणीय तेजवीर सिंह जी ख़ूबसूरत लघुकथा के लिए बधाई स्वविकारें।"
9 hours ago
SALIM RAZA REWA commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post शाम के दोहे - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"मुबारकबाद भाई लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' जी अच्छे दोहे हुए हैं ।"
9 hours ago
SALIM RAZA REWA commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की - उन  के बंटे जो  खेत तो  कुनबे बिखर गए
"मुबारकबाद नीलेश भाई अच्छी ग़ज़ल हुई है।"
9 hours ago
Sushil Sarna replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"आदरणीय योगराज प्रभाकर जी, आपको सपरिवार जनम दिन की हार्दिक बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएं। प्रभु आपकी…"
10 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post कुछ दिए ...
"आदरणीय vijay nikore  जी सृजन आपकी प्रेरक प्रतिक्रिया का दिल से आभारी है।"
10 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post उजला अन्धकार..
"आदरणीय  लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'  जी सृजन आपकी प्रेरक प्रतिक्रिया का दिल से…"
10 hours ago

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service