For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

जायदाद के हकदार

अम्मा का जाना
जैसे पर्दों का हट जाना
एक- एक कर सारे के सारे तार- तार हो गए
जिगर के सब टुकड़े जायदाद के हकदार हो गए

छोटे छोटे पुर्जे तक बांटे गए
सारे कागज़ पत्र तक छांटे गए
जिगर के टुकड़े थे वो सारी जायदाद के हकदार हो गए
 
कुछ चीज़ें नहीं छुई किसी ने माँ की
कुछ लावारिस हसरते
कुछ सवाल कुछ मलाल
किसी ने नहीं छूए
उनके आदर्श
सब कोने मे पड़े बेचारे
केवल वही रहे जो अनाथ हो गए
जिगर के टुकड़े थे वो बाकि जायदाद के हकदार हो गए
.....
मौलिक व अप्रकाशित"

Views: 56

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by amita tiwari on February 19, 2020 at 8:38am

अरुण जी 

सराहना के लिए आभार 

Comment by लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' on February 18, 2020 at 11:23am

आ. अमिता जी, यथार्थपरक रचना के लिए हार्दिक बधाई ।

Comment by amita tiwari on February 17, 2020 at 11:56pm

रवि जी , विजय जी 

उत्साह वर्धन के लिए हार्दिक आभार 

Comment by रवि भसीन 'शाहिद' on February 17, 2020 at 2:36pm

आदरणीय अमिता जी, इस भावपूर्ण सुन्दर रचना के लिए आपको हार्दिक बधाई।

Comment by vijay nikore on February 17, 2020 at 12:57pm

सचाई से भरपूर सुन्दर मार्मिक रचना के लिए धन्यवाद, मित्र अमिता जी ।

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Satish is now a member of Open Books Online
1 hour ago
vijay nikore commented on Sushil Sarna's blog post क्षणिकाएँ :
"आपकी क्षणिकाएँ मन को भा गईं। इस विधि पर आपकी कलम सधी हुई है।हार्दिक बधाई, मित्र सुशील जी।"
5 hours ago
vijay nikore commented on vijay nikore's blog post मृदु-भाव
"भाई समर कबीर जी, आपसे मिली सराहना का मतलब है कि मैं इम्तहान में पास हो गया।दिल से शुक्रिया कि आप…"
5 hours ago
vijay nikore commented on vijay nikore's blog post मृदु-भाव
"सराहना के लिए आपका हार्दिक आभार, प्रिय मित्र सुशील जी। आपका आना बहुत सुखद लगा।"
5 hours ago
vijay nikore replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"मेरे प्रिय भाई समर कबीर जी, यह दुखद समाचार अभी पढ़ा, बहुत अफ़सोस हुआ। सच्चे दिल से करी दुआ में…"
5 hours ago
Poonam Matia commented on Poonam Matia's blog post मुक्तक -कोरोना
"धन्यवाद  @सूबे सिंह जी ........ कोरोना पर काफ़ी कुछ लिख डाला हाल ही में"
11 hours ago
Sushil Sarna posted a blog post

आज के दोहे :

कोरोना के चक्र की, बड़ी वक्र है चाल। लापरवाही से बने, साँसों का ये काल।।निज सदन को मानिए, अपनी जीवन…See More
13 hours ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"दोस्तो आदाब, मेरे छोटे भाई सय्यद मशहूद अहमद की तबीअत ज़ियादा ख़राब है,उन्हें कल उज्जैन के माधव नगर…"
15 hours ago
TEJ VEER SINGH posted a blog post

संस्कार - लघुकथा -

संस्कार - लघुकथा -"रोहन यह क्या हो रहा है सुबह सुबह?""भगवान ने इतनी बड़ी बड़ी आँखें आपको किसलिये दी…See More
22 hours ago
vijay nikore posted a blog post

असाधारण सवाल

असाधारण सवालयह असाधारण नहीं है क्याकि डूबती संध्या मेंज़िन्दगी को राह में रोक करहार कर, रुक करपूछना…See More
23 hours ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' posted a blog post

सलाखों में क़फ़स के गर लगा ज़र(८२ )

(1222 1222 122 )सलाखों में क़फ़स के गर लगा ज़ररहेंगे क्या उसी में ज़िंदगी भर ?**किसी की ज़िंदगी क्या…See More
yesterday
dandpani nahak posted a blog post

ग़ज़ल 2122 1212 22

इश्क़ हो या कि हादसा कोईसब का होता है कायदा कोईवो पुराने ज़माने कि बात हैंअब नहीं करता हैं वफ़ा…See More
yesterday

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service