For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

रक्तदान के दोहे


प्यारे मित्रो ! आगामी 17 सितम्बर को तेरा पंथ युवक परिषद् ने द्वारा देश भर में रक्तदान का अभियान आयोजित किया है . एक लाख बोतल रक्त का लक्ष्य है ......उनके इस पुनीत कार्य के समर्थन में मैंने अहमदाबाद के संयोजक श्री सुनील वोहरा और अखिल भारतीय संयोजक श्री राजेश सुराणा के लिए कुछ दोहे लिखे हैं जो वे बैनर्स पर काम लेंगे.......आप भी पढ़ कर बताइये ..कैसे लगे ?

रक्तदान के दोहे

कतरा कतरा ख़ून का, जीवन की रसधार

ख़ून अपना दे कर करो, प्राणों का संचार


रक्त बिना नहिं जी सके, इक दिन भी इन्सान

रक्त से अपने कीजिये, यारों जीवन दान


रक्तदान इक फ़र्ज़ है, रक्तदान इक धर्म

रक्तदान है दोस्तो, सबसे पावन कर्म


मानवता के मंच से, कर दो यह ऐलान

समय समय पर हम सभी, रक्त करेंगे दान


तेरा पंथ युवक परिषद् का पावन अभियान

सत्रह सेप्टेम्बर को हमें , करना है रक्तदान


रक्तदान से रोक लो, मरणासन्न की मौत

घर घर में जलती रहे, सबकी जीवन जोत


धन्य धन्य वह कुल हुआ, धन्य हुआ इन्सान

जो औरों के वास्ते, करता शोणित दान


रक्त कहो, शोणित कहो, लहू कहो या ख़ून

सबका मतलब एक है, जीवन का हनिमून


रक्तदान आसान है, कठिन नहीं है यार

17 -09 के दिन हमें, रहना है तैयार


हँसते हँसते कीजिये, रक्तदान का काम

ताकि दुखियों को मिले, जीवन का आराम


रक्तदान की राह पर, निकला पूरा देश

सारे जग में भेज दो, भारत का सन्देश


ब्लड डोनेशन कीजिये, समय समय पर आप

मन में आये पुण्यता, तन होगा निष्पाप


किसी ज़रूरतमंद को, देकर अपना ख़ून

खूब खिलाओ जगत में, जीवन के परसून


सत्रह सेप्टेम्बर रहे, भैया सबको याद

रक्तदान उत्सव बने, प्रसरेगा आह्लाद


पल दो पल का काम है, रक्तदान श्रीमान

दिनचर्या में आएगा, नहिं तनिक व्यवधान


रक्तदान इक यज्ञ है, मानवता के नाम

आहूति अनमोल है, लगे न कोई दाम


-अलबेला खत्री

Views: 19283

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by लक्ष्मण रामानुज लडीवाला on September 7, 2012 at 4:52pm
ब्लड दान कीजिये, समय समय पर आप
मन में आये पुण्यता, तन होगा निष्पाप |
 
सुन्दर अति सुन्दर, बधाई -
तन होगा निष्पाप,स्वस्थ रहेंगे आप 
सौलह आने सत्य है अलबेला की बात |
Comment by Sajjan Kumar on September 7, 2012 at 1:11pm
बहुत बढ़िया अलबेला जी , रक्तदान को प्रेरित करती सुन्दर रचना !
बहुत-बहुत बधाई ! 
Comment by satish mapatpuri on September 7, 2012 at 1:35am

रक्तदान इक फ़र्ज़ है, रक्तदान इक धर्म

रक्तदान है दोस्तो, सबसे पावन कर्म

बहुत खूब ...... बहुत नेक ख्याल ......  परोपकारी सन्देश एवं आमंत्रण ..... बधाई हो खत्री साहेब

Comment by UMASHANKER MISHRA on September 6, 2012 at 10:33pm

इस पुनीत  पावन कार्य के लिए पूरी मानव जाति से मानव जाति के लिए

रक्त दान हेतु उत्प्रेरणा भरे आपके ये आह्लादित कविता पर हम गर्व करते है

इस पावन पर्व पर हर काबिल व्यक्ति को इस महादान में सहयोग  करना चाहिए

भाई अलबेला जी आपके इस आह्वान के लिए आपको बहुत बहुत धन्यवाद

इस पावन कार्य हेतु समर्पित तेरा पंथ युवक परिषद् को हार्दिक धन्यवाद

ईश्वर की अनुकम्पा सदैव आप के साथ हो ....यही कामना के साथ

आपका ..उमाशंकर मिश्रा दुर्ग छ.ग.

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post ग़ज़ल (जिसको हुआ गुमाँ कि 'ख़ुदा' हो गया है वो)
"मुहतरमा रचना भाटिया जी आदाब, ग़ज़ल का मतला कुछ आपत्तियों के बाद मूल रूप से बदल दिया गया है, इसलिए…"
1 hour ago
Anju Agarwal is now a member of Open Books Online
3 hours ago
Rachna Bhatia commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post ग़ज़ल (जिसको हुआ गुमाँ कि 'ख़ुदा' हो गया है वो)
"आदरणीय अमीरुद्दीन अमीर जी अच्छी ग़ज़ल हुई है। बधाई स्वीकार करें। बहुत अधिक तो नहीं जानती फ़िर भी…"
17 hours ago
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल- भाते हैं कम
"आदरणीय बृजेश कुमार 'ब्रज' जी, ग़ज़ल तक आने तथा सराहना करने के लिए बेहद शुक्रिय:।"
18 hours ago
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल- भाते हैं कम
"आदरणीय अमीरुद्दीन अमीर जी, देर से जवाब देने के लिए क्षमा चाहती हूँ। ग़ज़ल तक आने तथा सराहना करने…"
18 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post सिर्फ सुख में रहें सब नये वर्ष में - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई बृजेश जी सादर अभिवादन। गजल पर उपस्थिति और सराहना के लिए हार्दिक धन्यवाद।  मपनी गलत लिख…"
18 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' posted a blog post

ग़ज़ल (जिसको हुआ गुमाँ कि 'ख़ुदा' हो गया है वो)

2212 1211 2212 12जिसको हुआ गुमाँ कि 'ख़ुदा' हो गया है वो रुस्वाई के भंवर में तो ख़ुद जा गिरा है…See More
yesterday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' posted a blog post

शिशिर के दोहे -लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"

ठण्ड कड़ाके की पड़े, सरसर चले समीर।नित्य शिशिर में सूर्य का, चाहे ताप शरीर।१।*दिखे शिशिर में जो…See More
yesterday

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey commented on आशीष यादव's blog post नव वर्ष पर 5 दोहे
"नववर्ष की हारिक शुभकामनाएँ .. इस छांदसिक प्रयास के लिए बधाइयाँ ! शुभकामना स्वीकारिये मेरी…"
yesterday
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post नये साल का तुहफ़ा
"जनाब बृजेश कुमार ब्रज जी आदाब, सादर धन्यवाद।"
yesterday
Aazi Tamaam commented on Aazi Tamaam's blog post ग़ज़ल: आख़िरश में जिसकी खातिर सर गया
"सहृदय शुक्रिया आ ब्रज जी सब आप लोगों का मार्गदर्शन है सादर"
Monday
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post ग़ज़ल-दुख
"बहुत बहुत आभार आदरणीय मनोज जी...सादर"
Monday

© 2022   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service