For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

साकी तो  हो गिलास भी हो क्या !
घूँट-दो -घूँट ये प्यास भी हो क्या  !
--
दूर-दूर यूँ रहकर पास भी हो क्या !
मुझसे मिलकर उदास भी हो क्या !
--
क्यूँ लगता है डर सा अंधेरों को ?
मुझसे कह दो उजास भी हो क्या !
--
ढँक रही हो  मुझको  शिदद्त  से,
मेरी हमनफ़स लिबास भी हो क्या !
--
दूध जैसी निर्मल पहचान बारहा ,
वक़्त पे दही की खटास भी हो क्या !
-- 
अविनाश बागडे  (मौलिक/अप्रकाशित )

Views: 76

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by SURENDRA KUMAR SHUKLA BHRAMAR on June 14, 2014 at 2:33pm

दूर-दूर यूँ रहकर पास भी हो क्या !
मुझसे मिलकर उदास भी हो क्या !

प्रिय अविनाश जी सुन्दर भाव लिए अच्छी बनी गजल। ।
भ्रमर ५


सदस्य कार्यकारिणी
Comment by गिरिराज भंडारी on April 2, 2014 at 8:11pm

आदरनीय अविनाश भाई , ग़ज़ल कहने का बहुत सुन्दर प्रयास हुआ है , बह्र अलग अलग मिसरों मे अलग अलग लग रही है , एक बार देख लीजियेगा ॥

Comment by Dr Ashutosh Mishra on April 1, 2014 at 4:32pm

आदरणीय अविनाश जी ..नए पन और ताजगी से भरी शानदार ग़ज़ल के लिए हार्दिक बधाई ..सादर 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Sheikh Shahzad Usmani posted a blog post

हवाओं से रूबरू (लघुकथा)

धोबन ढेर सारे कपड़़े धोकर छत पर बंधे तार पर क्लिप लगा कर सूखने डाल गई थी। कुछ ही देर में तेज़ हवायें…See More
5 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani commented on TEJ VEER SINGH's blog post चुनावी घोषणायें  - लघुकथा –
"बेहतरीन तंज। हार्दिक बधाई समसामायिक कटाक्षपूर्ण रचना के लिए आदरणीय तेजवीर सिंह साहिब।"
5 hours ago
SudhenduOjha posted blog posts
6 hours ago
Mahendra Kumar posted blog posts
6 hours ago
TEJ VEER SINGH posted a blog post

चुनावी घोषणायें  - लघुकथा –

चुनावी घोषणायें  - लघुकथा – मंच से नेताजी अपने चुनावी भाषण में आम जनता के लिये लंबी लंबी घोषणायें…See More
6 hours ago
Rakshita Singh commented on Rakshita Singh's blog post बेबसी...
"आदरणीय तस्दीक़ जी नमस्कार,  आपकी शिर्कत व हौसला अफजाई के लिए बहुत बहुत शुक्रिया।"
6 hours ago
Samar kabeer commented on vijay nikore's blog post परदेशी-बाबू
"प्रिय भाई विजय निकोर जी आदाब,क्या कहूँ इस रचना के बारे में,शब्द नहीं मिल रहे इसके अनुरूप,एक पंक्ति…"
6 hours ago
Rakshita Singh commented on Rakshita Singh's blog post तुम्हारे स्पर्श से....
"आदरणीय तस्दीक़ जी नमस्कार ,रचना पर आपकी शिर्कत के लिए बहुत बहुत धन्यवाद ।"
6 hours ago
Rakshita Singh commented on Rakshita Singh's blog post बेबसी...
"आदरणीय आरिफ जी नमस्कार, आपको कविता पसंद आयी लिखना सार्थक हुआ , बहुत बहुत धन्यवाद ।"
6 hours ago
Rakshita Singh commented on Rakshita Singh's blog post बेबसी...
"आदरणीय बसंत जी नमस्कार, कविता की सराहना के लिए बहुत बहुत धन्यवाद ।"
6 hours ago
Tasdiq Ahmed Khan commented on gumnaam pithoragarhi's blog post ग़ज़ल .....
"गुमनाम साहिब, न की मात्रा 1 और ना की 2 होती है |"
6 hours ago
Naveen Mani Tripathi commented on Naveen Mani Tripathi's blog post दे गया दर्द कोई साथ निभाने वाला
"आ0  तेजवीर सिंह साहब हार्दिक आभार ।"
6 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service