For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

ग़ज़ल - यूँ ही गाल बजाते रहिये

यूँ ही गाल बजाते रहिये।
भोंपू सा चिल्लाते रहिये।

अपना उल्लू सीधा करके,
दो का चार बनाते रहिये।

जिससे काम बने बस वो ही,
पट्टी रोज पढ़ाते रहिये।

सूरज उगने ही वाला है,
ये एहसास कराते रहिये।

हम प्रतिपालक हम हैं रक्षक,
चीख चीखकर गाते रहिये।

जीती बाजी हार न जायें,
दाँव पेंच दिखलाते रहिये।

जिनको राह के रोड़े समझें
उनको रोज हटाते रहिये।

मौलिक एवं अप्रकाशित रचना

Views: 403

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Ram Awadh VIshwakarma on October 24, 2017 at 1:29pm
आदरणीय सलीम रज़ा साहब आपका बहुत बहुत शुक्रिया।
Comment by Ram Awadh VIshwakarma on October 24, 2017 at 1:27pm
आदरणीय जयनित कुमार मेहता जी ग़ज़ल सराहना के लिये सादर धन्यवाद।
Comment by Ram Awadh VIshwakarma on October 24, 2017 at 1:25pm
आदरणीया राजेश कुमारी जी सादर धन्यवाद
Comment by SALIM RAZA REWA on October 24, 2017 at 12:53pm
आ.
अच्छी ग़ज़ल हुई है मुबारक़बाद.
Comment by जयनित कुमार मेहता on October 24, 2017 at 12:37pm
उम्दा ग़ज़ल के लिए हार्दिक बधाई आपको, आदरणीय राम अवध विश्वकर्मा जी।

सदस्य कार्यकारिणी
Comment by rajesh kumari on October 23, 2017 at 7:46pm

बहुत सुन्दर ग़ज़ल हुई है आद० राम अवध जी शेर दर शेर बधाई लीजिये \ आद० समर भाई जी का सुझाव स्वागतीय है 

Comment by Samar kabeer on October 23, 2017 at 7:23pm
'दाँव पेंच दिखलाते रहिये'
इस मिसरे को यूँ कर सकते हैं:-
'दाँव नये दिखलाते रहिये'
आपकी पूरी ग़ज़ल ही फेलुन फेलुन फेलुन फेलुन पर है ।
ग़ज़ल के साथ अरकान भी लिख दिया करें,ये इस मंच का नियम है ।
Comment by Ram Awadh VIshwakarma on October 23, 2017 at 6:41pm
आदरणीय कबीर साहब जी आपके इस्लाह के अनुसार मैं ग़ज़ल मेंसुधार कर लूँगा। आपका बहुत बहुत शुक्रिया।
"दाँव पेंच दिखलाते रहिये" क्या यह मिसरा फैलुन फैलुन वाली बह्र में है। यदि नहीं तो क्या सुधार करना आवश्यक है। क्योंकि यहाँ फायलात हो जाता है तख्ती करने पर।
Comment by Ram Awadh VIshwakarma on October 23, 2017 at 6:35pm
आदरणीय कुशक्षत्रप साहब ग़ज़ल की सराहना के लिये धन्यवाद . मैं लगभग दो साल बाद ओपेन बुक्स आन लाइन से पुन:जजुड़ा इसलिये बह्र लिखने का ध्यान नहीं रहा। भविष्य में अवश्य लिखूँगा।।
Comment by Samar kabeer on October 23, 2017 at 5:55pm
जनाब राम अवध जी आदाब,अच्छी ग़ज़ल हुई है,बधाई स्वीकार करें ।
'ये एहसास कराते रहिये'
इस मिसरे को यूँ करना उचित होगा:-
'ये एहसास दिलाते रहिये'

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' commented on Mahendra Kumar's blog post ग़ज़ल : मैं अपने आप को दफ़ना रहा हूँ
"क्या बात है लाजवाब | समर सर की इस्लाह भी लाजवाब | "
2 hours ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' commented on Balram Dhakar's blog post ग़ज़ल- बलराम धाकड़ (मुहब्बत के सफ़र में सैकड़ों आज़ार आने हैं)
"लाजवाब ग़ज़ल | आदरणीय समर सर की इस्लाह से तो जबरदस्त निखार आ गया है | "
2 hours ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post कितना अफ़्कार में मश्ग़ूल हर इक इन्साँ है(४३ )
"आपकी हौसला आफ़जाई के लिए बहुत बहुत आभार  Pradeep Devisharan Bhatt जी "
2 hours ago
केशव commented on Mohit mishra (mukt)'s blog post ऐसा न करना लौट कर तुम फिर चले आना
"वाह असाधारण रचना  बधाई स्वीकार हो मोहित जी "
3 hours ago
Pradeep Devisharan Bhatt shared Sushil Sarna's blog post on Facebook
4 hours ago
Pradeep Devisharan Bhatt commented on Mohit mishra (mukt)'s blog post ऐसा न करना लौट कर तुम फिर चले आना
"मोहित जी,उत्तम रचना हुई"
4 hours ago
Pradeep Devisharan Bhatt shared Mohit mishra (mukt)'s blog post on Facebook
4 hours ago
Pradeep Devisharan Bhatt shared Sheikh Shahzad Usmani's blog post on Facebook
4 hours ago
Pradeep Devisharan Bhatt commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post कितना अफ़्कार में मश्ग़ूल हर इक इन्साँ है(४३ )
"अच्छि गज़ल हुई गह्लौत जी"
4 hours ago
Pradeep Devisharan Bhatt commented on Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan"'s blog post सच क्या है कोई पूछे, मैं श्याम बता दूँगा-----ग़ज़ल पंकज मिश्र
"जीने के सलीके का मैं अंदाज सिखा दुंगा"
5 hours ago
Pradeep Devisharan Bhatt commented on Sushil Sarna's blog post विदाई से पहले : 4 क्षणिकाएं
"खुबसुरत कविता हुई। बधाई स्वीकार करे सुशील जी"
5 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani posted a blog post

छुट्टियों में हिंदी (संस्मरण)

विद्यालयीन हिंदी विषय पाठ्यक्रमों में हिंदी साहित्य की विभिन्न गद्य या काव्य विधायें बच्चे क्यों…See More
6 hours ago

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service