For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

ग़ज़ल (सुन कर ये तिरी ज़ुल्फ़ के मुबहम से फ़साने)

सुन कर ये तिरी ज़ुल्फ़ के मुबहम से फ़साने,
दश्ते जुनुं में फिरते हैं कितने ही दीवाने..

कब साथ दिया उसका दुआ ने या दवा ने,
आशिक़ को कहाँ मिलते हैं जीने के बहाने..

मुमकिन है तुम्हें दर्स मिले इनसे वफ़ा का,
पढ़ते कुँ नहीं तुम ये वफ़ाओं के फ़साने..

इस दौर के गीतों में नहीं कोई हरारत,
पुर-सोज़ जो नग़में हैं वो नग़में हैं पुराने..

इस इश्क़ मुहब्बत में फ़क़त उन की बदौलत,
ज़ोहेब तुम्हें मिल तो गये ग़म के ख़ज़ाने..

22112211221122

मौलिक व अप्रकाशित

Views: 217

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' on October 24, 2018 at 7:30pm

आ. जोहेब जी, अच्छी गजल हुयी है । हार्दिक बधाई ।

Comment by Nilesh Shevgaonkar on October 24, 2018 at 7:29am

आ. ज़ोहेब जी,
अच्छी ग़ज़ल है ..
दीवाने को दिवाना  पढना दोषपूर्ण है .. मतला बदल लीजिये 
सादर 

Comment by बृजेश कुमार 'ब्रज' on October 23, 2018 at 5:01pm

वाह बहुत ही खूब ग़ज़ल हुई है ज़नाब..मुबारक़

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Rachna Bhatia replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-117
"आदरणीय तस्दीक़ अहमद ख़ान जी बेहतरीन ग़ज़ल हुई लाजवाब मतला। बधाई स्वीकार करें।"
11 minutes ago
Rachna Bhatia replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-117
"आदरणीय सूबे सिंह सुजान जी अच्छी ग़ज़ल हुई, बधाई । दूसरा शे'र अच्छा लगा।"
14 minutes ago
Rachna Bhatia replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-117
"आदरणीय दण्डपाणि'नाहक़' जी बहुत ख़ूब ग़ज़ल हुई। तीसरा शे'र बहुत पसंद आया।बधाई।"
25 minutes ago
Rachna Bhatia replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-117
"आदरणीय अश्फ़ाक अली जी ग़ज़ल तक आने के लिए तथा राय देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद। जी, कुछ शब्द रह गए…"
27 minutes ago
Rachna Bhatia replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-117
"आदरणीय ख़ान हसनैन आक़िब साहेब, हौसला अफज़ाई के लिए बहुत बहुत शुक्रिया।"
30 minutes ago
Rachna Bhatia replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-117
"आदरणीया अंजलि गुप्ता जी, बहुत बहुत धन्यवाद।"
31 minutes ago
Rachna Bhatia replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-117
"आदरणीयाअंजलि गुप्ता 'सिफ़र जी मेरा संदेश पहुंचाने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।"
33 minutes ago
Usha Awasthi commented on Usha Awasthi's blog post सब निरोग सब हों सुखी
"आदाब ,आभार आपका"
43 minutes ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post ज़रा  सोचें  अगर इंसान सब लोहा-बदन  होते(७५ )
"आदरणीय Samar kabeer साहेब , आपकी हौसला आफ़जाई के लिए बहुत बहुत आभार एवं सादर नमन | …"
45 minutes ago
anjali gupta replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-117
"समर सर के लिए मैसेज आदरणीय समर sir ये रचना जी की तरफ़ से है। किसी तकनीकी दिक्कत के कारण वो यहां…"
47 minutes ago
मोहन बेगोवाल replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-117
"जिंदगी जब तिरा मेरा न सफ़र बनता है lपाँव उठते कोई राहों से डगर बनता हैl क्यूँ मुसीबत मेरी अपनी ही…"
53 minutes ago
Samar kabeer commented on Dr Ashutosh Mishra's blog post कोरोना का क्या रोना
"अगर ये ग़ज़ल नहीं है,तो ठीक है,बधाई ।"
1 hour ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service