For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

ग़ज़ल (यही ज़माने को खल रहा है )

ग़ज़ल (यही ज़माने को खल रहा है )
(मफा इलातुन _मफा इलातुन)

यही ज़माने को खल रहा हैl
वो मेरे हम राह चल रहा है l

वो हैं मुखातिब तो मुझसे लेकिन
कलेजा यारों का जल रहा है l

नज़र में है सिर्फ उसके मंज़िल
जो गिरते गिरते संभल रहा है l

रखें निगाहों पे कैसे काबू
वो सामने से निकल रहा है l

बदल के शीशा है फायदा क्या
तेरा भी अब हुस्न ढल रहा है l

खयाल में आ रहा है दिलबर
न यूँ मेरा दिल मचल रहा है l

दगा की तुहमत लगी तो जाना
मुझे वो तस्दीक छल रहा है l

(मौलिक व अप्रकाशित)

Views: 151

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Tasdiq Ahmed Khan on April 4, 2019 at 9:14pm

जनाब ब्रजेश कुमार साहिब, ग़ज़ल पसंद करने और आपकी हौसला अफज़ाई का बहुत बहुत शुक्रिया I 

Comment by बृजेश कुमार 'ब्रज' on April 4, 2019 at 11:21am

वाह बहुतखूब ग़ज़ल कही है आदरणीय तस्दीक जी...

Comment by Tasdiq Ahmed Khan on April 2, 2019 at 5:04pm

मुहतरम जनाब समर साहिब आ दाब , ग़ज़ल पर आपकी खूबसूरत प्रतिक्रिया और हौसला अफज़ाई का बहुत बहुत शुक्रिया I 

Comment by Samar kabeer on April 2, 2019 at 11:08am

जनाब तस्दीक़ अहमद साहिब आदाब,अच्छी ग़ज़ल हुई है,मुबारकबाद पेश करता हूँ ।

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' commented on अमीरुद्दीन खा़न "अमीर "'s blog post ईद कैसी आई है!
"आदरणीय अमीरुद्दीन खा़न "अमीर "  साहेब , आदाब | रचना में ईद के अवसर पर मन की…"
12 minutes ago
अमीरुद्दीन खा़न "अमीर " shared their blog post on Facebook
46 minutes ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' posted blog posts
56 minutes ago
Manan Kumar singh commented on Manan Kumar singh's blog post सफेद कौवा(लघुकथा)
"सादर आभार आदरणीय लक्ष्मण भाई जी।"
1 hour ago
Manan Kumar singh commented on Manan Kumar singh's blog post सफेद कौवा(लघुकथा)
"सादर आभार आदरणीय समर जी।"
1 hour ago
Manan Kumar singh commented on Manan Kumar singh's blog post खुश हुआ तू बोलकर....(गजल)
"आपका दिली आभार आदरणीय छोटेलाल जी।"
1 hour ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post उनको न मेरी  फ़िक्र न रुसवाई का है डर(१०४ )
"जनाब अमीरुद्दीन खा़न "अमीर " साहेब आदाब | खाकसार का कलाम पसन्द करने और…"
1 hour ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post किसी का दिल से जो ख़ुश-आमदीद होता है (१०३ )
"आदरणीय अमीरुद्दीन खा़न "अमीर "  साहेब , खाकसार का कलाम पसन्द करने और हौसला…"
1 hour ago
अमीरुद्दीन खा़न "अमीर " shared their blog post on Facebook
1 hour ago
अमीरुद्दीन खा़न "अमीर " commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post किसी का दिल से जो ख़ुश-आमदीद होता है (१०३ )
"आदरणीय गिरधारी सिंह गहलोत जी 'तुरंत' आदाब।बहुत ही अच्छी ग़ज़ल कही है आपने ।बधाई स्वीकार…"
1 hour ago
अमीरुद्दीन खा़न "अमीर " commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post उनको न मेरी  फ़िक्र न रुसवाई का है डर(१०४ )
"आदरणीय गिरधारी सिंह गहलोत जी 'तुरंत' आदाब । बहुत ही अच्छी ग़ज़ल कही है आपने । सभी अशआ़र…"
1 hour ago
अमीरुद्दीन खा़न "अमीर " commented on अमीरुद्दीन खा़न "अमीर "'s blog post ईद कैसी आई है!
"आदरणीय भाई योगराज प्रभाकर जी, आदाब। ख़ाक़सार की ग़ज़ल "ईद कैसी आई है" को फीचर ब्लॉग में…"
2 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service