For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

सदी ऊपर का मुकद्दमा - डॉo विजय शंकर।

अदालत लगी हुयी थी। वकील साहब लोग अपनी अपनी कुर्सियों पर बैठ चुके थे। तभी एक मुवक्किल दौड़ता हुआ आया , सीधे अपने वकील साहब के पास पहुंचा और हाथ जोड़ कर बोला ,
" राम राम साहेब " ,
" राम राम " वकील साहेब ने कहा और उसे पीछे एक बेंच दिखा कर कहा , " वहां बैठ जाओ " . वह बैठ गया। दो चार आस पास बैठे लोगों को भी हाथ जोड़ कर वह राम राम करता रहा। तभी अर्दली ने अदालत की डॉयस पर आकर इत्तला दी ,
" साहेब पधार रहे हैं " .
सभी लोग अपने अपनी जगह पर उठ कर खड़े हो गए।
जज साहेब आये , उन्होंने अपनी कुर्सी पर बैठने के पहले सभी को अभिवादन में थोड़ा सा सर आगे की ओर झुकाया , और बैठने लगे। तभी वह मुवक्किल बोल पड़ा ,
" राम राम साहेब , राम राम " .
बैठते बैठते जज साहेब ने नज़र उठाई , उसकी ओर देख कर बोले , " राम राम " , और बैठ गए।
अदालत की कार्यवाही शुरू हुई।
आरोप पक्ष के वकील खड़े हुए।
जज साहेब ने पूछा , " हाँ, मुकद्दमा क्या है ? "
आरोप पक्ष के वकील ने जोर दार लहजे में कहा , " माननीय , मुकद्दमा ये है कि बचाव पक्ष को राम के होने का सबूत देना है ? "
एक पल को तो जैसे कुछ हुआ ही नहीं ,फिर हँसी , और फिर जोर की हँसी और उसके बाद हँसी का फुव्वारा।
आरोप कर्ता के वकील को समझ में ही नहीं आया कि गड़बड़ क्या हो गई l

मौलिक एवं अप्रकाशित

Views: 177

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Dr. Vijai Shanker on October 24, 2017 at 10:32am
आदरणीय मोहम्मद आरिफ जी , विस्तृत विश्लेषण के लिए आभार , बधाई हेतु धन्यवाद , सादर।
Comment by Mohammed Arif on October 20, 2017 at 5:40pm
आदरणीय विजय शंकर जी आदाब, आपकी लघुकथा को निम्न बिन्दुओं पर देख लेना समीचीन होगा:-
(1) कथानक -कथानक की दृष्टिकोण से देखा जाय तो यह कथानक अपने आप में बहुत कुछ कहता है । हर काल परिस्थिति में राम को मुवक्किल बनाया जाएगा । बेहतरीन कथानक है , लाजवाब कथानक है ।
(2) पात्र या चरित्र-चित्रण- पात्र या चरित्र-चित्रण को देखा जाय तो यहाँ आपने सोच समझकर एक उदात्त पौराणिक पुरुषोत्तम का चरित्र केंद्र में रखकर न्याय की गुहार लगा दी । इस चरित्र को तो हर काल-खंड में अपनी परीक्षा से गुज़रना होगा । इसकी अग्नि-परीक्षा तो कालजयी हो गई है ।
(3) देशकाल या वातावरण- इसका काल निर्धारण अपने आप में ही अजर-अमर है ।
(4)उद्देश्य-इसका सीधा-सा उद्देश्य है पाठक का अपना निजी दृष्टिकोण ।
हार्दिक-हार्दिक बधाई स्वीकार करें ।

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' commented on Mahendra Kumar's blog post ग़ज़ल : मैं अपने आप को दफ़ना रहा हूँ
"क्या बात है लाजवाब | समर सर की इस्लाह भी लाजवाब | "
2 hours ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' commented on Balram Dhakar's blog post ग़ज़ल- बलराम धाकड़ (मुहब्बत के सफ़र में सैकड़ों आज़ार आने हैं)
"लाजवाब ग़ज़ल | आदरणीय समर सर की इस्लाह से तो जबरदस्त निखार आ गया है | "
2 hours ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post कितना अफ़्कार में मश्ग़ूल हर इक इन्साँ है(४३ )
"आपकी हौसला आफ़जाई के लिए बहुत बहुत आभार  Pradeep Devisharan Bhatt जी "
2 hours ago
केशव commented on Mohit mishra (mukt)'s blog post ऐसा न करना लौट कर तुम फिर चले आना
"वाह असाधारण रचना  बधाई स्वीकार हो मोहित जी "
3 hours ago
Pradeep Devisharan Bhatt shared Sushil Sarna's blog post on Facebook
4 hours ago
Pradeep Devisharan Bhatt commented on Mohit mishra (mukt)'s blog post ऐसा न करना लौट कर तुम फिर चले आना
"मोहित जी,उत्तम रचना हुई"
4 hours ago
Pradeep Devisharan Bhatt shared Mohit mishra (mukt)'s blog post on Facebook
4 hours ago
Pradeep Devisharan Bhatt shared Sheikh Shahzad Usmani's blog post on Facebook
4 hours ago
Pradeep Devisharan Bhatt commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post कितना अफ़्कार में मश्ग़ूल हर इक इन्साँ है(४३ )
"अच्छि गज़ल हुई गह्लौत जी"
4 hours ago
Pradeep Devisharan Bhatt commented on Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan"'s blog post सच क्या है कोई पूछे, मैं श्याम बता दूँगा-----ग़ज़ल पंकज मिश्र
"जीने के सलीके का मैं अंदाज सिखा दुंगा"
5 hours ago
Pradeep Devisharan Bhatt commented on Sushil Sarna's blog post विदाई से पहले : 4 क्षणिकाएं
"खुबसुरत कविता हुई। बधाई स्वीकार करे सुशील जी"
5 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani posted a blog post

छुट्टियों में हिंदी (संस्मरण)

विद्यालयीन हिंदी विषय पाठ्यक्रमों में हिंदी साहित्य की विभिन्न गद्य या काव्य विधायें बच्चे क्यों…See More
6 hours ago

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service