For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

हौले-हौले बोल चिरैया, हौले-हौले बोल
पलने में कान्हा सोया है, तू मत इत-उत डोल
चिरैया हौले-हौले बोल...

पलकों पर सपने थिरके हैं, अधरों पर मुस्कान
चाँद हिण्डोला बन बैठा है, परियाँ देतीं तान
टूट न जाएँ मीठे सपनें, ये तो हैं अनमोल
चिरैया हौले-हौले बोल...

कच्ची निंदिया से जागा तो, होगा फिर बेचैन
रोएगा-चिल्लाएगा वो, मसल-मसल कर नैन
संग सभी बेचैन फिरेंगे, तू निंदिया मत खोल
चिरैया हौले-हौले बोल...

एक पहर के बाद लगाना, कान्हा को आवाज़
वरना खिड़की बंद रखूँगी, समझाती हूँ आज
मैं जाऊँ और तू आ जाए, अवसर रही टटोल
चिरैया हौले-हौले बोल...

ना भाएँगे बंदर-हाथी ना गुड़िया ना रेल
निंदिया में झूमेगा तब, कैसे पाएगा खेल
जग जाए, तू तब कर लेना जी भर यहाँ किलोल
चिरैया हौले-हौले बोल...

मौलिक और अप्रकाशित

Views: 45

Replies to This Discussion

अत्यंत आत्मीय अभिव्यक्ति है ! हार्दिक बधाइयाँ !! 

sसादर धन्यवाद आदरणीय सौरभ जी 

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Nilesh Shevgaonkar commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की-- तेरी दुनिया में हम बेकार आये.
"तरमीम का शेर ,,.उड़े तो थे कई क़ासिद कबूतर,    मेरी छत पर फ़क़त दो चार आये. "
4 hours ago
Nilesh Shevgaonkar commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की-- तेरी दुनिया में हम बेकार आये.
"आ. समर सर ..अहमद फ़राज़ साहब की एक नज़्म का उन्वान है क़ासिद कबूतर ..नज़्म उर्दू fonts में मिल पायी है…"
5 hours ago
Nilesh Shevgaonkar commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की-- तेरी दुनिया में हम बेकार आये.
"शुक्रिया आ. रवि जी ..मैं भी इस प्रक्रिया से लाभान्वित होता रहता हूँ ... स्नेह बनाए…"
5 hours ago
Ravi Shukla commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की-- तेरी दुनिया में हम बेकार आये.
"आदरणीय नीलेश जी बेहतरीन ग़ज़ल के लिए दाद और मुबारक बाद हाज़िर है । आप इसी तरह अशआर कहते रहिये और इसी…"
5 hours ago
Manan Kumar singh commented on Manan Kumar singh's blog post गजल(कुर्सियाँ किसकी हुईं हैं बोलिये भी)
"आदरणीय सुशील सरना जी,स्नेह जाहिर करने के लिए शुक्रिया।"
6 hours ago
Manan Kumar singh commented on Manan Kumar singh's blog post गजल(कुर्सियाँ किसकी हुईं हैं बोलिये भी)
"आदरणीय सुशील सरना जी,स्नेह जाहिर करने के लिए शुक्रिया।"
6 hours ago
Manan Kumar singh commented on Manan Kumar singh's blog post गजल(कुर्सियाँ किसकी हुईं हैं बोलिये भी)
"आदरणीय सुशील सरना जी,स्नेह जाहिर करने के लिए शुक्रिया।"
6 hours ago
Manan Kumar singh commented on Manan Kumar singh's blog post गजल(कुर्सियाँ किसकी हुईं हैं बोलिये भी)
"आदरणीय समर साहिब,नज्र बख्शने का शुक्रिया!'गो'लेना,मतलब मन मारकर/ध्यान न देकर सह…"
6 hours ago
Manan Kumar singh commented on Manan Kumar singh's blog post गजल(कुर्सियाँ किसकी हुईं हैं बोलिये भी)
"आपका आभार आ दर णीय आ रि फ भाई।"
6 hours ago
Naveen Mani Tripathi posted blog posts
6 hours ago
hanuman shai sharma is now a member of Open Books Online
6 hours ago
Nilesh Shevgaonkar commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की-- तेरी दुनिया में हम बेकार आये.
"धन्यवाद आ. समर सर ...मैं आप की बात समझ गया ... यानी कबूतर की मोडस ऑपरेंडी समझ गया हूँ...क़ासिद और…"
7 hours ago

© 2017   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service