For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Bishwajit yadav
  • 24, Male
  • raniganj,w.b
  • India
Share

Bishwajit yadav's Friends

  • Harish Upreti "Karan"
  • डॉ. सूर्या बाली "सूरज"
  • SURENDRA KUMAR SHUKLA BHRAMAR
  • PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA
  • Shashi Mehra
  • monika
  • Rohit Dubey "योद्धा "
  • Brij bhushan choubey
  • Er. Ambarish Srivastava
  • Sanjay Rajendraprasad Yadav
  • raj jalan
  • shekhar jha`
  • Anita Maurya
  • Saurabh Pandey
  • आशीष यादव
 

Bishwajit yadav's Page

Profile Information

Gender
Male
City State
raniganj
Native Place
Ballia,u.p
Profession
student
About me
Hi, I am Bishwajit yadav. i am a student. . i like singing, writing songs and listening music. i believe in God . i believe in simple living with great honesty. हम इहे चाहत बानी कि भोजपुरी के सुंगध पुरा दुनिया मे फैलाई मै विश्वजीत, उत्तर प्रदेश का एक छोटा किन्तु ऐतिहासिक जिला बलिया का बलिया का रहने वाला हुँ मेरा जन्म एक साधारण परिवार मे हुआ प्रारंभिक शिक्षा कोलकाता(रानीगंज) मे हुई फिर बाद मे बलिया से 10वी(द्वितीय) और 12वी (प्रथम) कि पढाई पुरा कि अभी आगे कि पढाई जारि है साहित्य मे मेरी रूची बचपन से ही थी हिन्दी और भोजपुरी के बारे मे अच्छी जानकारी है मुझे कविता कहानियाँ गजल और गीत लिखने का शौक है इधर कुछ सालो से मैने भोजपुरी और हिन्दी मे लेखन प्रांरभ किया भोजपुरी मे अब तक कई एल्बम मे गीत लिख चुका हुँ 1>आज के डिमान्ड बा 2>भउजी के चरचा फेसबुक पे 3>छपरा बदनाम हो गईल 4>तु बिगाड देले बाडु चुम्मा दे के 5>चल माई दरबार मुझे अभीनय करने का शौक है और मैने अपने कई एल्बम मे अभीनय किया है और आगे जब भी मौका मिलेगा मै जरूर करूगा मेरी एक ही चाहत है कि मै सिनेमा जगत मे अच्छी फिल्मे बनाउ और खास कर भोजपुरी मे क्यो कि आज भोजपुरी का स्तर बहुत निचे गीरता जा रहा है इसका कारण यह है कि सभी फिल्म किसी ना किसी फिल्म कि कोपी होती कोई नई कहानी नही लाता मगर मै लाउगा

Bishwajit yadav's Photos

  • Add Photos
  • View All

Bishwajit yadav's Blog

याद आते है वो लम्हे....

याद आते है वो लम्हे तो आँखो से आँसू छलक जाते है,

वो किताबो वाले दिन बडी मुश्किल से मिलते है,

हम तो यादो मे जलते है पर वो कहीं और रहते है,

याद आते है वो लम्हे तो आँखो से आँसू छलक जाते है,



वो घंटो बाते…

Continue

Posted on July 28, 2011 at 1:00pm — 1 Comment

क्या इसी को मुहब्बत कहते है

क्या इसी को मुहब्बत कहते हैं

जब हम बैचेन से रहते हैं

अक्सर कुछ कहने की चाह मे

सपनों मे खोये रहते हैं

क्या इसी को मुहब्बत कहते हैं

 

उनकी एक झलक पाने के लिए

हम हर दिन राहों मे इंतजार करते हैं

न जाने क्यों हम कुछ कहने से डरते हैं

क्या इसी को मुहब्बत कहते हैं

 

अक्सर वो सपनों में आती है

आँखें खोलूँ तो न जाने कहाँ चली जाती है

सिर्फ इन आँखों को उसकी ही सूरत भाती है

क्या इसी…

Continue

Posted on July 26, 2011 at 10:30am — 6 Comments

Comment Wall (8 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 11:57pm on July 25, 2012, SURENDRA KUMAR SHUKLA BHRAMAR said…
स्वागत है विश्व जीत जी ..ढेर सारी शुभ कामनाएं अपने नाम को चरितार्थ करें 
भ्रमर ५ 
At 9:41pm on June 13, 2012, डॉ. सूर्या बाली "सूरज" said…

विश्वजीत जी नमस्कार ! आपकी दाद के लिए बहुत बहुत धन्यवाद !

At 10:40pm on May 29, 2012, डॉ. सूर्या बाली "सूरज" said…

विश्वजीत जी बहुत बहुत शुक्रिया ! आपको ग़ज़ल पसंद आई और आपकी तारीफ मिली । अच्छा लगा।

डॉ. सूर्या बाली "सूरज"

At 10:15am on August 4, 2011,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…
At 6:27pm on July 27, 2011, Sanjay Rajendraprasad Yadav said…
प्रिय विश्वजीत आप का ओ.बी.ओ पर हार्दिक स्वागत ******** 
At 6:27pm on July 27, 2011, Sanjay Rajendraprasad Yadav said…
प्रिय विश्वजीत आप का ओ.बी.ओ पर हार्दिक स्वागत ******** 
At 1:51pm on July 24, 2011, PREETAM TIWARY(PREET) said…

At 11:35am on July 23, 2011, Admin said…

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on rajesh kumari's blog post शज़र जब सूख जाता है कोई पत्ता नहीं रहता (तरही ग़ज़ल 'राज')
"आ. राजेश दी, सादर अभिवादन । सुंदर गजल हुयी है । हार्दिक बधाई ।"
11 minutes ago
Ram Awadh VIshwakarma commented on Naveen Mani Tripathi's blog post लेकिन कज़ा के बाद से मक़तल उदास है
"आदर्णीय बहुत खूबसूरत.ग़ज़ल आपने कही है । हार्दिक बधाई।"
16 minutes ago
Ram Awadh VIshwakarma commented on दिनेश कुमार's blog post ग़ज़ल --- इक फ़रिश्ता है मेहरबाँ मुझ पर / दिनेश कुमार / ( इस्लाह हेतु )
"बहुत खूबसूरत ग़ज़ल है। हार्दिक बधाई"
20 minutes ago
Neelam Upadhyaya commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post बोलती निगाहें (लघुकथा)
"आदरणीय उस्मानी जी, नमस्कार।  आज के समय से सामंजस्य बिठाती अच्छी लघु कथा।  बधाई स्वीकार…"
1 hour ago
ram shiromani pathak commented on ram shiromani pathak's blog post ग़ज़ल(2122 1212 22)
"नीलेश भाई बहुत बहुत आभार अपकल"
5 hours ago
ram shiromani pathak commented on ram shiromani pathak's blog post ग़ज़ल(2122 1212 22)
"आरिफ़ भाई  उत्साह वर्धन हेतु आभार आपका"
5 hours ago
ram shiromani pathak posted a blog post

ग़ज़ल 212×4

ख्वाब थे जो वही हूबहू हो गए।जुस्तजू जिसकी थी रूबरू हो गए।।इश्क करने की उनको मिली है सज़ा।देखो बदनाम…See More
5 hours ago
Shyam Narain Verma commented on Er. Ganesh Jee "Bagi"'s blog post ग़ज़ल (गणेश जी बागी)
"वाह बेहद खूबसूरत प्रस्तुति … हार्दिक बधाई स्वीकार करें आदरणीय।"
7 hours ago
Tasdiq Ahmed Khan commented on Tasdiq Ahmed Khan's blog post ग़ज़ल (दोस्तों वक़्त के रहबर का तमाशा देखो)
"जनाब रामअवध साहिब, ग़ज़ल मेंआपकी शिर्कत  और हौसला अफज़ाई का बहुत बहुत शुक्रिया |"
8 hours ago
ram shiromani pathak commented on ram shiromani pathak's blog post ग़ज़ल(2122 1212 22)
"ग़ज़ल।। मुंतजिर हूँ मैं इक जमाने से।मिलने आ जा किसी बहाने से।। आ जा मिलने भी ठीक लग रहा है मुझे उनकी…"
10 hours ago
Ram Awadh VIshwakarma commented on Tasdiq Ahmed Khan's blog post ग़ज़ल (दोस्तों वक़्त के रहबर का तमाशा देखो)
"बहुत खूबसूरत ग़ज़ल है। सभी शेर बोलते हुये हैं। आदर्णीय बधाई"
21 hours ago
Ram Awadh VIshwakarma commented on Er. Ganesh Jee "Bagi"'s blog post ग़ज़ल (गणेश जी बागी)
"आदरणीय सत्ताधीशों द्वारा ठगी गई भोलीभाली जनता का दुख दर्द बयान करती हुई सार्थक ग़ज़ल कहने के लिये…"
21 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service