For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Rajendra Swarnkar
  • Male
  • BIKANER (Raj.)
  • India
Share

Rajendra Swarnkar's Friends

  • AK Rajput
  • Atendra Kumar Singh "Ravi"
  • Hilal Badayuni
  • Deepak Sharma Kuluvi
  • Saurabh Pandey
  • Er. Ganesh Jee "Bagi"

Rajendra Swarnkar's Groups

 

Rajendra Swarnkar's Page

Profile Information

Gender
Male
City State
BIKANER 334001 (Raj.)
Native Place
BIKANER 334001 (Raj.)
Profession
स्वर्णकार / गीतकार-शायर-कवि
About me
संक्षिप्त परिचय नाम : राजेन्द्र स्वर्णकार जन्म : 21 सितंबर पिता का नाम : स्वर्गीय श्री शंकरलालजी माता का नाम : श्रीमती भंवरीदेवी स्थायी पता : गिराणी सोनारों का मौहल्ला , बीकानेर 334001 ( राजस्थान ) मोबाइल नं : 9314682626 फोन नं : 0151 2203369 ईमेल : swarnkarrajendra@gmail.com ब्लॉग : शस्वरं ब्लॉग लिंक : http://shabdswarrang.blogspot.com सृजन : --- काव्य की सभी विधाओं , रंगों-रसों में राजस्थानी, हिंदी और उर्दू में ( ब्रज, भोजपुरी और अंग्रेजी में भी ) मुख्यतः छंदबद्ध काव्य- सृजन --- लगभग तीन हज़ार से अधिक ग़ज़ल, गीत, नवगीत , कवित्त, सवैयों, कुंडलियों सहित दोहों, सोरठों, कविताओं का सृजन… सरस्वती की अनवरत कृपा --- लगभग ढाईसौ से भी अधिक स्वयं की मौलिक धुनों का निर्माण --- मंच के मीठे गीतकार और लोकप्रिय ग़ज़लकार के रूप में लगभग चालीस शहरों, कस्बों, गावों में कवि सम्मेलन, मुशायरों में ससम्मान काव्यपाठ और मान-सम्मान --- आकाशवाणी से भी निरंतर रचनाओं का प्रसारण --- देश भर में लगभग सवा सौ पत्र-पत्रिकाओं में एक हज़ार से अधिक रचनाएं ससम्मान प्रकाशित --- अनेक महत्वपूर्ण संकलनों में परिचय और रचनाएं संकलित --- गीत ग़ज़ल के शीर्षस्थ हस्ताक्षरों द्वारा मेरे कृतित्व की प्रशंसा --- अब तक दो पुस्तकें प्रकाशित 1 रूई मांयी सूई { राजस्थानी ग़ज़ल संग्रह/ प्रकाशन वर्ष 2002 } 2 आईनों में देखिए { हिंदी ग़ज़ल संग्रह/ प्रकाशन वर्ष 2004 } --- राजस्थानी भाषा में दो पद्य नाटकों सहित, राजस्थानी और हिंदी में दो-दो ग़ज़ल संग्रह और गीत-नवगीत संग्रह, दोहा संग्रह और बाल कविता संग्रह प्रकाशनार्थ तैयार --- स्वयं के गीत ग़ज़ल , स्वयं की धुन, स्वयं के स्वर में ध्वन्यांकन का वृहद् विराट कार्य प्रगति पर --- चित्रकारी, रंगकर्म, संगीत, गायन और मीनाकारी में भी श्रेष्ठ कार्य --- DXing और Short Wave Listening करते हुए अनेक देशों से निबंध लेखन, संगीत, चित्रकला और सामान्य ज्ञान प्रतियोगिताओं में लगभग सौ बार पुरस्कृत होकर बीकानेर और समूचे राजस्थान के यश, मान और गौरव वृद्धि में तुच्छ सहयोग / डॉयट्शे वैले पर दो बार मेरे निबंध एशिया में प्रथम स्थान पर रहे / चीनी दूतावास, नई दिल्ली में CRI China द्वारा पुरस्कृत-सम्मानित --- अभी सफ़र जारी है …

Comment Wall (8 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 6:22pm on January 29, 2011, Ratnesh Raman Pathak said…
At 8:02pm on January 26, 2011, Admin said…

आदरणीय राजेंद्र स्वर्णकार जी, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार को और अच्छी तरह जानने हेतु कृपया नीचे दिये लिंक पर जाकर नियम से अवश्य परिचित हो जाये |

धन्यवाद |

http://www.openbooksonline.com/page/5170231:Page:12658

At 4:22pm on January 25, 2011, PREETAM TIWARY(PREET) said…
नमस्कार राजेंद्र साहब....आपके रिप्लाइ से खुशी हुई.....मेरा कोई ब्लॉग नही है...अभी तो बस आप लोगों से सीख रहा हूँ..जल्द ही लिखना प्रारंभ करूँगा.....वैसे मैने 2 लिखा है अभी तक....लिंक मैं दूँगा....और मैं इस नेटवर्क par ADMINISTRATIVE TEAM MEMBER हूँ.....कोई भी परेशानी या सुझाव हो तो बेझिझक हमें बताएन या सुझाव या शिकायत ग्रूप मे पोस्ट करें...हम लोग जल्द से जल्द अमल करेंगे उसपर....
At 6:36pm on January 24, 2011, PREETAM TIWARY(PREET) said…
At 1:08am on January 24, 2011, वीनस केसरी said…
susvagatam
At 12:13am on January 24, 2011,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…
At 12:12am on January 24, 2011, Admin said…
At 10:04pm on January 23, 2011, Raju said…
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post ग़ज़ल-तुम्हारे प्यार के क़ाबिल
"वाह...आपका सुझाव बहुत ही खूबसूरत है आदरणीय नीलेश जी किनारा हो नहीं सकता कभी मझधार के क़ाबिल "
2 hours ago
Nilesh Shevgaonkar commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post ग़ज़ल-तुम्हारे प्यार के क़ाबिल
"आ. बृजेश जी  जरा सा मसअला है ये नही तकरार के क़ाबिल... तकरार के क़ाबिल नहीं है तो अच्छा ही…"
3 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post ग़ज़ल-तुम्हारे प्यार के क़ाबिल
"जी बिल्कुल...आप लोगों की तीखी बहस में भी काफी कुछ सीखने को ही मिलता है।"
3 hours ago
Nilesh Shevgaonkar commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post ग़ज़ल-तुम्हारे प्यार के क़ाबिल
"आ. बृजेश जी, आप तो आप .. मैं भी अक्सर समर सर के सानिध्य में सीखता हूँ.. कई बार तीखी बहस भी हो…"
3 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post ग़ज़ल-तुम्हारे प्यार के क़ाबिल
"ऐसे कहता हूँ जरा सा मसअला है ये नही तकरार के क़ाबिल चलो माना नहीं हूँ मैं तुम्हारे प्यार के क़ाबिल"
3 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post ग़ज़ल-तुम्हारे प्यार के क़ाबिल
"उचित है आदरणीय नीलेश जी...ये सच है कि साहित्य में मेरी जानकारी बहुत ही अल्प है...बस कुछ कहना चाहता…"
3 hours ago
Nilesh Shevgaonkar commented on Sushil Sarna's blog post तेरे मेरे दोहे ......
"आ. सौरभ सर, आग के उच्चारण का ग और चराग़ के उच्चारण के ग़ का अंतर  आप भी…"
3 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey commented on Sushil Sarna's blog post तेरे मेरे दोहे ......
"देवनागरी लिपि में हिंदी भाषा का व्याकरण या छंदशास्त्र ऐसे किसी नियम की चर्चा नहीं करता कि आग और…"
4 hours ago
Nilesh Shevgaonkar commented on Sushil Sarna's blog post तेरे मेरे दोहे ......
"आ. सुशिल जी,चराग़ के साथ दाग़ बाग़ फ़राग़ दिमाग़ सुराग़ आदि तुकांत लिए जा सकते हैं."
6 hours ago
Nilesh Shevgaonkar commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post ग़ज़ल-तुम्हारे प्यार के क़ाबिल
"आप मुद्द आ का उर्दू रूप देखें .. مدعا  मीम , दाल , ऐन मिलकर मुद्द और बाद का अलिफ़ आ बना रहे…"
6 hours ago
Nilesh Shevgaonkar commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post ग़ज़ल-तुम्हारे प्यार के क़ाबिल
"आ. बृजेश जी,मुद्दआ को आम बोलचाल में मुद्दा ही पढ़ा जाने लगा है लेकिन साहित्य में लिखते समय शुद्ध रूप…"
6 hours ago
Manan Kumar singh replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-80 (विषय: आकर्षण)
"आभार आ.उस्मानी जी।"
16 hours ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service