For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

ग़ज़ल :- बाढ़ का हद से गुजरना अच्छा

 ग़ज़ल :- बाढ़ का हद से गुजरना अच्छा
 
बाढ़ का हद से गुजरना अच्छा ,
गाँव का फिर से संवरना अच्छा |
 
इस जगह माँ की याद आती है ,
इस जगह थोडा ठहरना अच्छा |
 
सिर्फ ख्वाबों का बसर होता है ,
रात का सुबह बिखरना अच्छा |
 
वस्ल का वायदा मुझसे लेना ,
और फिर उसका मुकरना अच्छा |
 
लहरें तह तक खंगाल देती हैं ,
कश्तियाँ देखकर डरना अच्छा |
 
झूठ  के भीड़ की घुटन सच है ,
ऐसे जीने से तो मरना अच्छा |
 
सूरतें हो गयीं सारी विकृत ,
आइनों का ही निखरना अच्छा |
 
 
           += अभिनव अरुण
 

Views: 269

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Abhinav Arun on August 27, 2011 at 8:40am

ABHAAR SHANNO JI AND MANY MANY THANKS !!

Comment by Shanno Aggarwal on August 26, 2011 at 9:01pm

खूबसूरत ख्यालात....गजल बढ़िया बन पड़ी है, अरुण.

Comment by Abhinav Arun on August 26, 2011 at 2:55pm
आदरणीय श्री सौरभ जी आपके भी क्या कहने पत्थर और पारस सा हाल है इधर तो | आपने जिस रचना पर अपनी टिप्पणी का हाथ रख दिया वही रचना असर से भर कर असरदार हो गयी | और आपकी भाषा आपके शब्द उसकी दाद के लिए बराबरी के शब्द ही नहीं | हम "बेजुबान" हो गए | (इस बार की तरही से साभार :-)| :-))

सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Saurabh Pandey on August 24, 2011 at 2:50pm

परकटे परिन्दे की मानिंद बसर कर रहे आदमियों की कुलबुलाती हुयी भावनाओं को जब बालिश्त भर आकाश मिल जाए तो उसका घर्रीता गला स्वर साधने लगता है. वही घर्राहट इन शेरों में सुनायी दे रही है. चौदह अगस्त की प्रविष्टि के लिहाज से आपकी ग़ज़ल को देख गया और अपने स्वतंत्र हाथों का मेल जकड़े हुये पैरों से बरबस कराता रहा, बार-बार,  देर तक. लेकिन सफल नहीं होना था, नहीं हुआ. पैरों की जकड़न उन्मुक्त हाथों से ईर्ष्या कर बैठी --

//झूठ की भीड़ की घुटन सच है,

ऐसे जीने से तो मरना अच्छा |//

बहुत खूब..

 

Comment by आशीष यादव on August 24, 2011 at 10:19am
Khubsurat aur arthyukt she'ron se saji shandar ghazal. Samjhane ko bahut kuchh h isme. Waah waah.
Comment by Abhinav Arun on August 24, 2011 at 8:40am

शेर का यह बिम्ब आपको भाया मैं कृतार्थ हुआ दुष्यंत जी | हार्दिक आभार !!

Comment by दुष्यंत सेवक on August 23, 2011 at 7:39pm

इस जगह माँ की याद आती है ,इस जगह थोडा ठहरना अच्छा | बरसों बाद अपने गाँव से गुज़रो तो ऐसी ही फीलिंग आती है....बहुत उम्दा अभिनव जी, दिल मे उतरती है ये पंक्तियाँ 

Comment by Abhinav Arun on August 23, 2011 at 1:44pm

thanks a lot virendra jee you comments are as always couragious .

Comment by Veerendra Jain on August 22, 2011 at 11:42pm

सिर्फ ख्वाबों का बसर होता है ,
रात का सुबह बिखरना अच्छा ...
waah waah...kya baat kahi hai aapne...bahut badhai...

Comment by Abhinav Arun on August 15, 2011 at 11:43am

आभार बागी जी आपकी  प्रतिक्रिया मेरी प्रोत्साहन है | आप सबके स्नेह से कलम चलती और लिखती रहे यही कामना है |

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Usha Awasthi commented on Usha Awasthi's blog post कुछ अतुकान्त
"श्रीमान कृश मिश्रा जी , हार्दिक आभार आपका"
4 hours ago
Krish mishra 'jaan' gorakhpuri commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post वोट देकर मालिकाना हक गँवाया- लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' (गजल)
"बहुत खूबसूरत ग़ज़ल हुई है आदरणीय भैया हार्दिक बधाई। सदी वाला शेर बहुत पसंद आया।"
5 hours ago
Krish mishra 'jaan' gorakhpuri commented on Usha Awasthi's blog post कुछ अतुकान्त
"बहुत सुंदर अतुकांत हेतु बधाई आ. ऊषा जी"
5 hours ago
Krish mishra 'jaan' gorakhpuri commented on Krish mishra 'jaan' gorakhpuri's blog post ग़ज़ल~ 'इश्क मुहब्बत चाहत उल्फत'
"आ. अमीरुद्दीन सर अपने अपना  बहुमुल्य समय इस रचना पर पुनः दिया आभारी हूँ। रश्क /ईर्ष्या /जलन/…"
5 hours ago
Krish mishra 'jaan' gorakhpuri commented on Krish mishra 'jaan' gorakhpuri's blog post ग़ज़ल~ 'इश्क मुहब्बत चाहत उल्फत'
"आ. समर सर सादर अभिवादन। //'दिन 'जान' ये भी कट जायेंगे' इस मिसरे को यूँ कर…"
5 hours ago
Krish mishra 'jaan' gorakhpuri commented on Krish mishra 'jaan' gorakhpuri's blog post ग़ज़ल~ 'इश्क मुहब्बत चाहत उल्फत'
""आ. रचना जी हार्दिक शुक्रिया आभार हौसलाफजाई के लिए।"
5 hours ago
Krish mishra 'jaan' gorakhpuri commented on Krish mishra 'jaan' gorakhpuri's blog post ग़ज़ल: खिड़की पे माहताब बैठा है।
"शुक्रिया आ. नाथ सोनांचली जी। बिल्कुल।"
6 hours ago
Krish mishra 'jaan' gorakhpuri commented on Krish mishra 'jaan' gorakhpuri's blog post ग़ज़ल: खिड़की पे माहताब बैठा है।
"आ. रचना जी आपका बेहद आभार सुखन नवाजी के लिए।"
6 hours ago
Krish mishra 'jaan' gorakhpuri commented on Krish mishra 'jaan' gorakhpuri's blog post ग़ज़ल: खिड़की पे माहताब बैठा है।
"आ. समर सर हौसलाफजाई के लिए बेहद शुक्रिया। जी सर वहां "" हों """ ही होना…"
6 hours ago
Admin posted discussions
6 hours ago
Krish mishra 'jaan' gorakhpuri commented on Krish mishra 'jaan' gorakhpuri's blog post ग़ज़ल: 'नेह के आँसू'
"आ. रचना जी मैं आदरणीय समर सर का बहुत आदर करता हूँ मुझे भलीभाँति पता है किस दुश्वारियों में संघर्ष…"
6 hours ago
Krish mishra 'jaan' gorakhpuri commented on Krish mishra 'jaan' gorakhpuri's blog post 'जब मैं सोलह का था'~ग़ज़ल
"आ. समर सर सादर अभिवादन  आपकी बात से सहमत हूँ कोई ग़ज़ल कितना समय मांगती है मुझे ये तो नहीं पता…"
6 hours ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service