For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

गीत: आपकी सद्भावना में... संजीव 'सलिल'

निवेदन:

आत्मीय !

वन्दे मातरम.

जन्म दिवस पर शताधिक मंगल कामनाएँ भाव विभोर कर गयी. सभी को व्यक्तिगत आभार इस रचना के माध्यम से दे रहा हूँ.

मुझसे आपकी अपेक्षाएँ भी इन संदेशों में अन्तर्निहित हैं. विश्वास रखें मेरी कलम सत्य-शिव-सुन्दर की उअपसना में सतत तत्पर रहेगी. विश्व वाणी हिन्दी के सभी रूपों के संवर्धन हेतु यथाशक्ति उनमें सृजन कर आपकी सेवा में प्रस्तुत करता रहूँगा.

पाँच वर्ष पूर्व हिन्दीभाषियों की संख्या के आधार पर हिन्दी का विश्व में दूसरा स्थान था, अब सातवाँ है. कारण मात्र यह है कि हिन्दीभाषी अपनी मातृभाषा के रूप में हिंदी के रूपों (भोजपुरी, अवधी, बृज, मैथिली, छत्तीसगढ़ी, मालवी, निमाड़ी, मारवाड़ी, शेखावाटी, काठियावाड़ी, हरयाणवी, कन्नौजी, बुन्देली, बघेली, उर्दू आदि) बताने लगे हैं. हिन्दी का कोई भी रूप अपने आप में विश्व भाषा बनने में सफल न हो सकेगा, किन्तु समस्त रूप मिलकर हिन्दी विश्व बन सकेगी.

दूसरी ओर समस्त ईसाई बन्धु, प्रशासक, अधिकारी और अंगरेजी माध्यम से शिक्षित युवा अंगरेजी को और मुस्लिम बन्धु उर्दू अपनी भाषा बता रहे हैं.इस स्थिति में अग्रेजीभाशियों की संख्या अधिक होने का कुतर्क देकर और जमीनी वास्तविकताओं को नज़रंदाज़ कर अंगरेजी को सरकारी काम-काज और संपर्क भाषा बनाने का प्रयास निरंतर बलवान हो रहा है.हम आज न सम्हाले तो अपने पाँव पर खुद कुल्हाडी मार लेंगे. हिंदी के विविध रूपों को अपनी पहचान हिंदी के अंग के रूप में बननी है, जैसे बच्चों की पहचान माता-पिता से होती है. मातृभाषा के रूप में हिन्दी ही लिखें. जरूरी लगे तो कोष्ठक में रूप विशेष लिखें अन्यथा रूप विशेष को हिंदी ही मानें. राजनेता दक्षिण में हिन्दी विरोध और उत्तर में हिन्दी के आंचलिक रूपों को अपने राजनैतिक स्वेथों का आधार बना रहे हैं. वे जन सामान्य को उकसा-भड़काकर अपने लिये मतों का जुगाड़ कर रहे हैं. हम साहित्यकारों को समर्पित भाव से हिन्दी में निरंतर श्रेष्ठ तथा सामयिक सृजन, अन्य भाषाओँ से / में अनुवाद तथा तकनीकी विषयों में लेखन के साथ-साथ नए शब्दों को गढ़ने का कार्य निरंतर करना होगा. अस्तु... रचना का आनंद लें :

गीत:

आपकी सद्भावना में...

संजीव 'सलिल'
*

आपकी सद्भावना में कमल की परिमल मिली.
हृदय-कलिका नवल ऊष्मा पा पुलककर फिर खिली.....
*
उषा की ले लालिमा रवि-किरण आई है अनूप.
चीर मेघों को गगन पर है प्रतिष्टित दैव भूप..
दुपहरी के प्रयासों का करे वन्दन स्वेद-बूँद-
साँझ की झिलमिल लरजती, रूप धरता जब अरूप..

ज्योत्सना की रश्मियों पर मुग्ध रजनी मनचली.
हृदय-कलिका नवल आशा पा पुलककर फिर खिली.....
*
है अमित विस्तार श्री का, अजित है शुभकामना.
अपरिमित है स्नेह की पुष्पा-परिष्कृत भावना..
परे तन के अरे! मन ने विजन में रचना रची-
है विदेहित देह विस्मित अक्षरी कर साधना.

अर्चना भी, वंदना भी, प्रार्थना सोनल फली.
हृदय-कलिका नवल ऊष्मा पा पुलककर फिर खिली.....
*
मौन मन्वन्तर हुआ है, मुखरता तुहिना हुई.
निखरता है शौर्य-अर्णव, प्रखरता पद्मा कुई..
बिखरता है 'सलिल' पग धो मलिनता को विमल कर-
शिखरता का बन गयी आधार सुषमा अनछुई..

भारती की आरती करनी हुई सार्थक भली.
हृदय-कलिका नवल ऊष्मा पा पुलककर फिर खिली.....
*******
दिव्यनर्मदा.ब्लॉगस्पोट.कॉम

Views: 406

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Saurabh Pandey on August 22, 2010 at 3:35pm
आपकी सार्थक भूमिका के साथ उच्च कोटि की रचना के लिए साधुवाद.
भारती की आरती में मुखरित स्वर गुँजायमान हों और वातावरण क्लेषरहित हो..
हिन्दी की दुर्दशा के सही दोषी और जिम्मेदार हम नहीं तो और कौन हैं .. भाषा की बात तो छोड़िए, हमारे साथ के लोग शब्दों तक से दरिद्र हो चुके हैं. स्थिति विकट है. मगर आशा की किरण है आप जैसे संवेदनशील और उत्तरदायी अग्रजों की सचेत करते प्रयास.
आभार.
Comment by आशीष यादव on August 22, 2010 at 9:16am
salil ji pranaam,
ekdam sahi baat kahi hai aapne. aapne is kriti se tamaam logo ko sachet kiya jo maatri bhasha ke pyaar me padkar wastwik maatribhasha ko, in sabki janani ko bhul rahe hai. maaf kijiyega mai bhi is shreni me tha. ab mai aap ke kathananushaar hi karunga.

सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Rana Pratap Singh on August 22, 2010 at 8:36am
आचार्य जी सादर प्रणाम

अपने बिलकुल सही कहा है की यदि हिंदी को मान दिलाना है तो क्षेत्रीय भाषाओँ की बजाय मातृभाषा हिंदी ही लिखना पड़ेगा..आखिर वह भी हिंदी की ही अन्य रूप है| हिंदी भाषा के पतन के प्रति जिम्मेदार कारणों के लिए आपका विश्लेषण सटीक है|

गीत बहुत सुन्दर है, सुन्दर संदेशो को समाहित किये हुए है|
अपना स्नेह यथावत ही बनाये रखे
सादर

मुख्य प्रबंधक
Comment by Er. Ganesh Jee "Bagi" on August 22, 2010 at 7:47am
आदरणीय आचार्य जी , अपनी जन्मदिन पर प्राप्त शुभकामनाओं के प्रतिउत्तर मे बहुत ही प्यारा, ज्ञानवर्धक और मनमोहक रचना दी है, साधुवाद,
Comment by Pankaj Trivedi on August 21, 2010 at 10:33pm
आदरणीय सलिलजी,
आपने - "आपकी सद्भावना में..." गीत के द्वारा भारतीय संस्कृति, हमारी भाषा समृद्धि और संस्कारिता को उजागर करते हुए हिंदी भाषा की चिंता भी की है | बहुमूल्य प्रदान के लिएँ बधाई |

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post ग़ज़ल (ज़िन्दगी भर हादसे दर हादसे होते रहे...)
"आ. भाई अमीरुद्दीन जी, सादर अभिवादन । सुंदर गजल हुई है । हार्दिक बधाई ।"
3 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post ग़ज़ल (ज़िन्दगी भर हादसे दर हादसे होते रहे...)
"आदरणीय सालिक गणवीर जी आदाब, ग़ज़ल पर आपकी आमद सुख़न नवाज़ी और हौसला अफ़ज़ाई के लिये बेहद…"
4 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post ख़ामोश दो किनारे ....
"आदरणीय  Samar kabeer  जी, आदाब, सृजन आपकी मनोहारी प्रशंसा का दिल से आभारी है"
5 hours ago
Sushil Sarna replied to Saurabh Pandey's discussion ओबीओ परिवार के युवा साहित्यकार अरुन अनन्त की दैहिक विदाई
"  दु:खद समाचार....  विनम्र श्रद्धांजलि"
5 hours ago
TEJ VEER SINGH commented on TEJ VEER SINGH's blog post छोटू - लघुकथा –
"हार्दिक आभार आदरणीय समर कबीर साहब जी। आदाब।"
6 hours ago
सालिक गणवीर commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post ग़ज़ल (ज़िन्दगी भर हादसे दर हादसे होते रहे...)
"आदरणीय अमीरूद्दीन 'अमीर' साहबसादर अभिवादनएक और शानदार ग़ज़ल के लिए ढेरों बधाइयाँ स्वीकार…"
8 hours ago
सालिक गणवीर commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की- जिन की ख़ातिर हम हुए मिस्मार; पागल हो गये
"आदरणीय निलेश 'नूर' साहबसादर अभिवादनएक और शानदार ग़ज़ल के लिए ढेरों बधाइयाँ स्वीकार करें.…"
8 hours ago
सालिक गणवीर commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post ज़हर पी के मैं तेरे हाथ से मर जाऊँगा (रूपम कुमार 'मीत')
"प्रिय रुपम एक और बढ़िया ग़ज़ल के लिए ढेर सारी बधाइयाँ स्वीकारो.गुणीजनों की इस्लाह पर अमल करो,तुम तो…"
8 hours ago
Manan Kumar singh commented on Manan Kumar singh's blog post गजल(वोटर.....)
"आपका शुक्रिया मोहतरम अमीर जी।"
9 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on सालिक गणवीर's blog post नहीं दो चार लगता है बहुत सारे बनाएगा.( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"आदरणीय सालिक गणवीर जी आदाब, ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है बधाई स्वीकार करें, मुहतरम समर कबीर साहिब का…"
yesterday
Samar kabeer commented on सालिक गणवीर's blog post नहीं दो चार लगता है बहुत सारे बनाएगा.( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"जनाब सालिक गणवीर जी आदाब, ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है, बधाई स्वीकार करें । 'बनाए जुगनू हैं जिसने…"
yesterday
Samar kabeer commented on Usha Awasthi's blog post घटे न उसकी शक्ति
"मुहतरमा ऊषा अवस्थी जी आदाब, अच्छी रचना हुई है, बधाई स्वीकार करें ।"
yesterday

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service