For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

फंस गया चुंगल में जब शैतान के
हौसले बढने लगे इंसान के

तुमसे ये लग़ज़िश न हो जाए कहीं
हम बहुत पछताए दिल की मान के

उन से कह दो छोड़ दें भारत मिरा
लोग जो हामी हैं पाकिस्तान के

आप क्यूं ज़हमत उठाते हैं जनाब
ख़ुद ही दुश्मन हैं हम अपनी जान के

फ़िक्र उक़्बा की न दुनिया का ख़याल
सो गए ग़फ़लत की चादर तान के

बरकतें होने लगीं नाज़िल "समर"
पाँव घर में क्या पड़े महमान के

समर कबीर /मौलिक रचना अप्रकाशित

Views: 320

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Samar kabeer on January 27, 2015 at 10:47pm
अतुल जी, बहुत बहुत शुक्रिया|
Comment by atul kushwah on January 27, 2015 at 10:30pm

Wah samar kabeer sahab.. bahut khoob

Comment by Samar kabeer on January 27, 2015 at 3:35pm
जनाब लक्ष्मण धामी जी, बहुत बहुत शुक्रिया
Comment by लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' on January 27, 2015 at 10:45am

उन से कह दो छोड़ दें भारत मिरा
लोग जो हामी हैं पाकिस्तान के

आ० समर  भाई , बहुत सुन्दर ग़ज़ल हुई है हर शेर गहरी बात लिए है . हार्दिक बधाई .

Comment by Samar kabeer on January 26, 2015 at 5:30pm
मोहतरमा महिमा श्री जी,
शुक्रिया
Comment by Samar kabeer on January 26, 2015 at 5:11pm
जनाब राहुल डांगी साहिब बहुत बहुत शुक्रिया
Comment by MAHIMA SHREE on January 26, 2015 at 5:08pm

आप क्यूं ज़हमत उठाते हैं जनाब
ख़ुद ही दुश्मन हैं हम अपनी जान के

फ़िक्र उक़्बा की न दुनिया का ख़याल
सो गए ग़फ़लत की चादर तान के.....बहुत खूब...बधाई

Comment by Rahul Dangi Panchal on January 26, 2015 at 5:04pm
आदरणीय एक एक शे'र लाजवाब मजा आ गया वाह!
Comment by Samar kabeer on January 26, 2015 at 4:04pm
जनाब शिज्जू "शकूर" साहिब ,आदाब , मेरी ग़ज़ल का मतला आप की समझ में नहीं आ रहा है, यही शिकायत मेरे भाई गिरिराज भंडारी जी और भाई ख़ुरशीद ख़ैराडी जी की भी है| मै मतले की ताशरीह यह करूंगा कि "शैतान बुराइ का प्रतीक है,और इंसान जब बुराई मे लिप्त हो जाता है तो उसके दिल से ईश्वर का डर व सम्मान पूरी तरह निकल जाता है और उसका हौसला इतना बढ़ जाता है कि वह ईश्वर से भी बग़ावत करने से नहीं चूकता ,इस तरह की कई मिसालें दुनिया के इतिहास में देखने को मिल सकती हैं एक,नेक(अच्छा) इंसान जो कोई बुराई करने से डरता है और शैतान के चुंगल में फंसने के बाद उसमे इतना हौसला आ जात है कि वह उस बुराई को कर गुज़रता है"उम्मीद है मेरे भाईयों कि आपका इतमिनान शायद हो गया होगा|
Comment by Samar kabeer on January 26, 2015 at 3:08pm
भाई मिथिलेश वामनकर जी,आदाब अर्ज़ करता हूँ ग़ज़ल पसंद करने के बहुत बहुत शुक्रिया!

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Salik Ganvir commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post यक़ीं के साथ तेरा सब्र इम्तिहाँ पर है(७८)
"भाई गहलोत जी. एक और अच्छी ग़ज़ल पोस्ट करने के हार्दिक बधाइयाँ स्वीकारें"
10 minutes ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' posted a blog post

यक़ीं के साथ तेरा सब्र इम्तिहाँ पर है(७८)

(1212 1122 1212  22 /112 )यक़ीं के साथ तेरा सब्र इम्तिहाँ पर हैहयात जैसे बशर लग रही सिनाँ पर…See More
2 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
अरुण कुमार निगम replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"सम्पूर्ण ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार को दसवीं वर्षगाँठ की  हार्दिक शुभकामनाएँ"
9 hours ago
Ashok Kumar Raktale commented on Samar kabeer's blog post "ओबीओ की सालगिरह का तुहफ़ा"
"सच बहुत ही मुँह लगा है ओ बी ओ हाँ समर जी का नशा है ओ बी ओ   सच कहा है “देख लो दिल चीर…"
11 hours ago
Ashok Kumar Raktale replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"ओ बी ओ को एक दशक का सफ़र सफलता पूर्वक संपन्न करने के लिए हृदय से बधाई. बधाई प्रबंधक जी को बधाई…"
11 hours ago
Sushil Sarna posted blog posts
11 hours ago
Samar kabeer commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post यक़ीं के साथ तेरा सब्र इम्तिहाँ पर है(७८)
"यहाँ सवाल इज़ाफ़त का है,और इज़ाफ़त का नियम ये है कि हिन्दी और अंग्रेज़ी शब्दों में नहीं लगाई जा सकती ।"
13 hours ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post यक़ीं के साथ तेरा सब्र इम्तिहाँ पर है(७८)
"आदरणीय Samar kabeer साहेब , मेरे जिज्ञासा है कि  , व्यक्तिवाचक संज्ञा ,जातिवाचक…"
13 hours ago
Samar kabeer commented on Sushil Sarna's blog post आसमाँ .....
"'आँखों की नमीं का'--'नमीं'--"नमी"?"
13 hours ago
Sushil Sarna commented on Samar kabeer's blog post "ओबीओ की सालगिरह का तुहफ़ा"
"वाह आदरणीय समर कबीर साहिब वाह। ... ओ बी ओ की सालगिरह पर इससे अच्छा तुहफ़ा और क्या होगा। इस…"
14 hours ago
Samar kabeer commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post यक़ीं के साथ तेरा सब्र इम्तिहाँ पर है(७८)
""कोविड" शब्द उर्दू का कैसे हुआ?"
14 hours ago
Samar kabeer commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल
"मुहतरमा रचना भाटिया जी आदाब, ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है,बधाई स्वीकार करें । 'शांत लहरों में भी…"
14 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service