For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

सलीक़ा सड़क का (लघुकथा)

पुलिस के सिपाही अकसर चौराहे से नदारद रहते, । सरकारी ड्यूटी बीच में छोड़ किसी अपने निजी काम से निकल जाते।  किन्तु उनके जाते ही एक वृद्ध हाथ में तख्ती लिये वहां खड़ा हो जाता, जिस पर लिखा होता:
"जिंंदगी ज़्यादा ज़रूरी है, जल्दबाज़ी न करें'
कुछ लोग रूक कर पूछ लेते

'बरसों से देख रहे है बाबा, क्यों इतनी परेशानी उठाते हो ? इस काम के लिए पुलिस है न यहाँ।"

"हाँ बेटा, पर पुलिस क्या जाने दर्द क्या होता है।"

"उनको तो सरकार तनख्वाह देती है, तुम सारा दिन क्यों खपते रहते हो ?"

"बेटा, जैसे ही लोग यह तख्ती देखते है, गाड़ी धीमी गति से चलना शुरू कर देते है। जैसे माँ के शब्द उनके कानो में गूंजने लगते हों :कि "बेटा समय से घर आ जाना।"
यह कहते हुए उसकी आँखें बरबस बरस पड़ी ।
"मैंने अपना जवान बेटा, अपने बुढ़ापे की लाठी गँवायी है सड़क हादसे में ।"

मौलिक व अप्रकाशित

Views: 277

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Saurabh Pandey on July 17, 2015 at 12:49am

आदरणीया नीताजी, इस रचना प्रयास पर हार्दिक बधाइयाँ स्वीकारें.
सादर

Comment by TEJ VEER SINGH on July 10, 2015 at 6:13pm

आदरणीय नीता जी , आपका विषय बेहद संज़ीदा है!मैने कुछ समय पूर्व एक समाचार पत्र में ऐसी ही एक खबर पढी थी कि एक महिला अपने इकलौते बेटे को सडक दुर्घटना में गंवा बैठी थी!अब वह महिला अपनी सेवायें ट्रैफ़िक  कंट्रोल के लिये स्वेच्छा से बिना किसी आर्थिक लाभ के दे रही है!बेहतरीन रचना !बधाई!

Comment by डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव on July 10, 2015 at 9:34am

अगहु कथा तो बढ़िया है पर क्या सचमुच ऐसा कोई पागल  (संवेदनशील) बुद्ध  वास्तव में मिल सकता है . कहानी आदर्श तो है पर यथार्थ से दूर लगती है . , सादर .

Comment by kanta roy on July 8, 2015 at 4:10pm
सार्थक संदेश के साथ एक सुंदर लघुकथा बनी है । बहुत ही बढिया

सदस्य कार्यकारिणी
Comment by मिथिलेश वामनकर on July 8, 2015 at 2:04pm

कथा अपने मर्म को अभिव्यक्त करने में सफल 

हार्दिक बधाई इस प्रस्तुति पर 

Comment by Omprakash Kshatriya on July 8, 2015 at 7:17am

आदरणीय  नीता कसार जी , आप की लघुकथा में जान है. क्यों न हो, आप की कथा पर आप ने भरपूर मेहनत की है. इस बढ़िया लघुकथा की मेरी और से बधाई .

Comment by Nita Kasar on July 7, 2015 at 8:12pm
गंतव्य तक पहुँचने की इतनी शीघ्रता रहती है की हम भूल जाते है कि जीवन दोबारा नहीं मिलताा ।
कथा पर राय व्यक्त करने के लिये सादर शुक्रिया आद० विनय सिंह जी एवं आदरणीय मोहन सेठी जी
Comment by विनय कुमार on July 7, 2015 at 6:08pm

बहुत मार्मिक लघुकथा , दर्द तो वही समझ सकता है , जिसने खोया हो किसी को | बधाई ..

Comment by Mohan Sethi 'इंतज़ार' on July 7, 2015 at 4:57pm

आदरणीया Nita Kasar जी बिलकुल सत्य है ज़रा सी लापरवाही कितना अनर्थ कर सकती है ....सार्थक लघुकथा के लिये बधाई 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

sunanda jha replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-110
"हृदयतल से आभार आदरणीय रचना की सराहना के लिए ।"
42 seconds ago
सतविन्द्र कुमार राणा replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-110
"कुण्डलिया सारे रंगों को लिये, सारे सुर, सब तान धरती जीवन-बीज को, रही शक्ति की खान रही शक्ति की…"
55 minutes ago
विमल शर्मा 'विमल' commented on विमल शर्मा 'विमल''s blog post महकता यौवन/ विमल शर्मा 'विमल'
"आदाब आदरणीय समर कबीर साहब ...उत्साहवर्धन हेतु दिली शुक्रिया आपका।"
2 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-110
"आ. सुनन्दा जी, प्रदत्त विषय पर उत्क्रिष्ट छन्द रचे है । हार्दिक बधाई ।"
2 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-110
"आ. भाई छोटेलाल जी, सादर अभिवादन। दोहों पर उपस्थिति और प्रशंसा के लिए हार्दिक धन्यवाद।"
2 hours ago
डॉ छोटेलाल सिंह replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-110
"आदरणीया सुनन्दा झा जी विषय को चरितार्थ जरती बहुत बढ़िया रचना बधाई हो"
11 hours ago
डॉ छोटेलाल सिंह replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-110
"आदरणीय लक्ष्मण धामी जी विषयानुकूल बहुत बेहतरीन छंद लिखा बहुत बहुत बधाई"
11 hours ago
narendrasinh chauhan commented on Sushil Sarna's blog post दो मुक्तक (मात्रा आधारित )......
"बहोत सुन्दर सर। ........."
11 hours ago
Usha Awasthi shared Admin's discussion on MySpace
13 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-110
"प्रथम प्रस्तुति - दोहा छंद जो कुल नारी का करे, देवी सा सत्कारउस कुल लेते जन्म हैं, अंशों में…"
18 hours ago
sunanda jha replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-110
"लावणी छन्द कोमल है तू कभी कुसुम सी ,तीखी कभी कटारी है। रूप ईश का लेकर नारी ,धरती पर अवतारी…"
22 hours ago
Manan Kumar singh commented on Manan Kumar singh's blog post एनकाउंटर(लघुकथा)
"शुक्रिया आदरणीय लक्ष्मण जी।"
yesterday

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service