For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

2122 2122 212
कुर्सियों का खेल बस चलता रहा
आदमी हर बार कर मलता रहा।1

रोशनी की खोज में निकले सभी
रोज सूरज भी उगा, ढलता रहा।2

फैलता जाता तिमिर घर-घर यहाँ
बस उजाला हाथ है मलता रहा।3

सींचते बिरवे रहे हम श्वेद से
सूखना असमय जरा खलता रहा।4

मुश्किलें हों लाख दर पे देखिये
हर घड़ी सुंदर सपन पलता रहा।5

पंछियों का क्या ठिकाना,उड़ गये,
है अलग कलरव अमर चलता रहा।6

जो बुझाता आग तपकर रोज ही
आदमी वह आज भी जलता रहा।7
मौलिक व अप्रकाशित@मनन

Views: 139

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Manan Kumar singh on May 11, 2016 at 8:00pm
आभार आपका मिथिलेशजी।

सदस्य कार्यकारिणी
Comment by मिथिलेश वामनकर on May 11, 2016 at 1:14pm

इस प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई 

Comment by Manan Kumar singh on May 9, 2016 at 8:39pm
आभार भाई गुमनामजी।
Comment by gumnaam pithoragarhi on May 9, 2016 at 6:45am

वाह बहुत खूब ग़ज़ल हुई है भाई जी बधाई ........................

Comment by Manan Kumar singh on May 8, 2016 at 8:41pm
मोहतरम कबीर साहब,हौसलाआफजाई के लिए शुक्रिया आपका।
Comment by Samar kabeer on May 8, 2016 at 1:29pm
जनाब मनन कुमार सिंह जी आदाब,बहुत उम्दा ग़ज़ल हुई है, दाद के साथ मुबारकबाद क़ुबूल फरमाएँ ।

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Samar kabeer commented on amita tiwari's blog post धूप छाँह होने वाले
"मुहतरमा अमिता तिवारी जी आदाब, अच्छी रचना हुई है, बधाई स्वीकार करें ।"
1 minute ago
Samar kabeer commented on Amar Pankaj (Dr Amar Nath Jha)'s blog post ग़ज़ल
"जनाब अमर पंकज जी आदाब, ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है,बधाई स्वीकार करें । 'अब करोना का क़हर बरपा रहा…"
3 minutes ago
Mohit mishra (mukt) commented on Mohit mishra (mukt)'s blog post मृत्यु और वर्तमान- लेख
"सादर प्रणाम सर"
56 minutes ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post आसमाँ .....
"आदरणीय समर कबीर साहिब, आदाब .... कम्प्यूटर में तकनीकी व्यवधान के कारण एक अरसे के बाद आपसे मिलना हुआ…"
1 hour ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' posted a blog post

यक़ीं के साथ तेरा सब्र इम्तिहाँ पर है(७८)

(1212 1122 1212  22 /112 )यक़ीं के साथ तेरा सब्र इम्तिहाँ पर हैहयात जैसे बशर लग रही सिनाँ पर…See More
4 hours ago
Manan Kumar singh posted a blog post

गजल(शोर हवाओं....)

22 22 22 22शोर हवाओं ने बरपाए,घाव हरे होने को आए।1बंटवारे का दर्द सुना,अबदेख कलेजा मुंह को…See More
4 hours ago
Manan Kumar singh commented on Manan Kumar singh's blog post किचन क्वीन(लघुकथा)
"आभार आ.लक्ष्मण जी।"
6 hours ago
Manan Kumar singh commented on Manan Kumar singh's blog post किचन क्वीन(लघुकथा)
"आभार आदरणीय समर जी।"
6 hours ago
Salik Ganvir left a comment for Samar kabeer
"आदरणीय कबीर साहब अपने ब्लॉग में एक ग़ज़ल पोस्ट कर रहा हूँ. साथ ही साथ आपको फ्रैंड रिक्वेस्ट भी भेजा…"
7 hours ago
Samar kabeer and Salik Ganvir are now friends
7 hours ago
amita tiwari posted a blog post

धूप छाँह होने वाले

तमाम उम्र लगे रहे शहर शहर हो जाने में क्यों गांव गांव आज फिर होने लगी है ज़िंदगी  परवाजों की…See More
7 hours ago
Salik Ganvir posted a blog post

एक ग़ज़ल

सुन रहे हैं कि वो इक ऐसी दवाई देगाजिससे अंधे को भी रातों में दिखाई देगाप्यार से उसने बुलाया है मुझे…See More
7 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service