For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

ज़मी ये हमारी वतन ये हमारा  - सलीम 'रज़ा' रीवा

ज़मी ये हमारी वतन ये हमारा 

उजड़ने न देंगे चमन ये हमारा 

वतन के लिए जो मेरी जान जाए

ख़ुदारा यहीं  फिर जनम लें दुबारा 

 

 

जो सरहद पे अपने सरों को कटाकर

अमर हो गये जो वतन को बचाकर

वो ख़ुश्बू के जैसे महकते रहेंगे

चमकते रहेंगे वो बनकर सितारा

 

भगत बोष सुखदेव बलिदानियो को

न भूलेंगे हम उनकी क़ुर्बानिओं को

वो फांसी में भी चढ़ गए हँसते हँसते

वतन के लिए हर सितम था गवारा 

 

तुम्हे याद करते हैं चाँद और तारे

तुम्हे  सरहदों की है मिट्टी पुकारें 

मोहब्बत की शम्मा जलाते रहेंगे

न टूटेगा रिश्ता हमारा तुम्हारा

 

न मज़हब सिखाता है तकरार बाँटो

अगर बाँटना हो सदा प्यार बाँटो 

अमन चैन हो सारी दुनिया में क़ाएम

ज़माने में हो हर तरफ भाई चारा 

_________________________

    सलीम रज़ा रीवा 

Views: 196

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by vijay nikore on August 22, 2019 at 8:56pm

//

न मज़हब सिखाता है तकरार बाँटो

अगर बाँटना हो सदा प्यार बाँटो 

अमन चैन हो सारी दुनिया में क़ाएम

ज़माने में हो हर तरफ भाई चारा //

बहुत ही खूबसूरत भाव। आपको हार्दिक बधाई, मित्र सलीम जी।

Comment by Pratibha Pandey on August 16, 2019 at 4:33pm

आदरणीय सलीम जी बहुत ही  अच्छी रचना , बधाई 

Comment by लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' on August 16, 2019 at 6:30am

आ. भाई सलीम जी, सुंदर रचना हुई है । हार्दिक बधाई।

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-117
"आ. भाई अनीस जी, हार्दिक आभार ।"
7 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-117
"आ. अंजलि जी, हार्दिक धन्यवाद।"
7 hours ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' posted a blog post

बोल उठी सच हैं लकीरें तेरी पेशानी की(७६ )

(2122 1122 1122 22 /112 )बोल उठी सच हैं लकीरें तेरी पेशानी कीइस जवानी ने बहुत जिस्म की मेहमानी…See More
13 hours ago
Dr Vandana Misra updated their profile
13 hours ago
Dr Ashutosh Mishra posted a blog post

मौसम-ए-इश्क दबे पाँब चला जाता है

2122     /1122    /1122        /22मौसम-ए-इश्क हसीं प्यास जगा जाता हैप्रेमी जोड़ों का सुकूँ चैन चुरा…See More
14 hours ago
anjali gupta replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-117
"आदरणीय anis जी हौसला अफ़ज़ाई के लिए शुक्रिया"
14 hours ago
Khan Hasnain Aaqib replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-117
"बहोत खूब गझल कही रचना जी.. मुबारकबाद स्विकार करें"
15 hours ago
Khan Hasnain Aaqib replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-117
"रचना जी, आप का भी शुक्रिया के आप ने पसंद फरमाया.."
15 hours ago
Khan Hasnain Aaqib replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-117
"जी जनाब, बहोत शुक्रिया, taqabul के ऐब से मैं भी परहेज करता हूं लेकिन ये गझल फिल बदीह हुई थी इसलिए…"
15 hours ago
मोहन बेगोवाल replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-117
"   आदरणीय अशफाक जी, सुंदर ग़'ज़ल के लिए बधाई ."
16 hours ago
Md. Anis arman replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-117
"आ.  अंजलि जी ग़ज़ल तक आने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया "
17 hours ago
Md. Anis arman replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-117
"आ. रचना भाटिया जी ग़ज़ल तक आने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया "
17 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service