For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

क्या सोचते हैं हम — डॉo विजय शंकर

सोचता हूँ ,
अब तो यह भी सोचना पड़ेगा
कि कैसे सोचते हैं हम ?
कितनी सीमाओं में सोचते हैं हम ?
या किस सीमा तक सोचते हैं हम ?
कुछ सोचते भी हैं हम ?
अगर नहीं तो क्यों नहीं सोचते हैं हम ?
सच तो यह है कि ' बिना विचारे जो करे ' .....
भी नहीं सोचते हैं हम।
खुद में गज़ब का विश्वास रखते है हम ?
बस सोचने में क्रियाशील रहते हैं हम ,
जितनी तेजी से आगे जाते हैं
उतनी हे तेजी से लौट आते हैं।
नतीज़तन वहीं के वहीं रह जाते हैं हम।
दावा करते हैं , चलते रहते हम ,
लगातार चलते रहते हैं हम।

मौलिक एवं अप्रकाशित

Views: 164

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Dr. Vijai Shanker on September 28, 2019 at 9:09pm

आभार एवं धन्यवाद , आदरणीय बृजेश कुमार ब्रज जी , सादर।

Comment by बृजेश कुमार 'ब्रज' on September 28, 2019 at 5:51pm

बहुत ही बढ़िया कविता हुई आदरणीय

Comment by Dr. Vijai Shanker on September 27, 2019 at 7:33am

आदरणीय लक्षमण धामी जी , रचना पर आपकी उपस्थिति एवं बधाई के लिए आभार एवं धन्यवाद , सादर।

Comment by लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' on September 26, 2019 at 11:54am

आ. भाई विजय जी, सुंदर प्रस्तुति हुई है । हार्दिक बधाई ।

Comment by Dr. Vijai Shanker on September 25, 2019 at 7:43pm

आदरणीय समर कबीर साहब , नमस्कार , आपकी प्रतिक्रिया सदैव उत्साह वर्धक होती है , मुझे सदैव यही लगता है कि हर बात में key word एक या दो ही होते हैं , उसी में सम्पूर्ण दर्शन निहित होता है , वैसा ही प्रयास करता हूँ , मनीषी और विद्वान लोग पकड़ लेते हैं , सौभाग्य है। आपका ह्रदय से आभार , बधाई के लिए धन्यवाद , सादर।

Comment by Samar kabeer on September 25, 2019 at 8:13am

आली जनाब डॉ. विजय शंकर जी आदाब, बहुत उम्द:,एक शब्द को बुनियाद बनाकर बहुत ख़ूब कविता लिखी आपने,इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें ।

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post मुहब्बत कीजिए यारो सदा दिलदार की सूरत (११६ )
"आदरणीय लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' जी , आदाब , हौसला आफ़जाई के लिए बहुत बहुत…"
2 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post मुहब्बत कीजिए यारो सदा दिलदार की सूरत (११६ )
"आ. भाई गिरधारी सिंह जी, सादर अभिवादन । अच्छी गजल हुई है । हार्दिक बधाई ।"
5 hours ago
Profile IconJyoti Pandey and Neeta Tayal joined Open Books Online
10 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Dr.Prachi Singh posted a blog post

उम्र आधी कट गई है, उम्र आधी काट लूँगी

रात दिन तुमको पुकारा,किन्तु तुम अब तक न आए !चित्र मेरी कल्पना के,मूर्तियों में ढल न पाए !चिर…See More
11 hours ago
रवि भसीन 'शाहिद' commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post मुहब्बत कीजिए यारो सदा दिलदार की सूरत (११६ )
"आदरणीय गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' जी, इस लाभकारी जानकारी के लिए आपका हार्दिक…"
11 hours ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post मुहब्बत कीजिए यारो सदा दिलदार की सूरत (११६ )
"आदरणीय रवि भसीन 'शाहिद' साहिब , आदाब , हौसला आफ़जाई के लिए बहुत बहुत शुक्रिया…"
11 hours ago
रवि भसीन 'शाहिद' commented on रामबली गुप्ता's blog post ग़ज़ल-सफलता के शिखर पर वे खड़े हैं -रामबली गुप्ता
"आदरणीय रामबली गुप्ता साहिब, नमस्कार। जनाब, मुझे आपकी पहली टिप्पणी से लगा आप नाराज़ हो गए हैं। लेकिन…"
11 hours ago
रवि भसीन 'शाहिद' posted a blog post

किसे आवाज़ दूँ (ग़ज़ल - शाहिद फ़िरोज़पुरी)

बह्रे रमल मुसम्मन महज़ूफ़ 2122  / 2122  /  2122  /  212जिस तरफ़ देखूँ है तन्हाई किसे आवाज़ दूँ हर…See More
13 hours ago
रवि भसीन 'शाहिद' commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post मुहब्बत कीजिए यारो सदा दिलदार की सूरत (११६ )
"आदरणीय गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत' साहिब, इस ख़ूबसूरत ग़ज़ल पर दाद और मुबारकबाद क़ुबूल फरमाएँ,…"
13 hours ago
Neeta Tayal posted a blog post

कोरोना और सावन

सखी री, जे कोरोना लै गयौ, सावन की बहार। ना उमंग के बादल घुमड़ें, ना उत्साह की फुहार।।अब के सावन ऐसे…See More
17 hours ago
सालिक गणवीर commented on सालिक गणवीर's blog post ग़ज़ल ( जाना है एक दिन न मगर फिक्र कर अभी...)
"आदरणीय अमीरूद्दीन 'अमीर' साहिब आदाब ग़ज़ल पर आपकी हाज़िरी और सराहना के लिए आपका तह-ए-दिल से…"
20 hours ago
रामबली गुप्ता commented on रामबली गुप्ता's blog post ग़ज़ल-सफलता के शिखर पर वे खड़े हैं -रामबली गुप्ता
"ऐसी कोई बात नहीं है आदरणीय रवि भसीन जी। आपने कोई दखल नहीं दिया है बल्कि ओ बी ओ की परंपरा का ही…"
yesterday

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service