For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Saurabh Pandey's Comments

Comment Wall (133 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 11:20pm on December 31, 2011, vaneetnagpal said…
At 6:30am on December 30, 2011, आशीष यादव said…

dhanyawaad

At 8:33pm on December 27, 2011, आर . के . दुबे said…
At 8:30pm on December 27, 2011, आर . के . दुबे said…
At 11:10am on December 3, 2011, Rash Bihari Ravi said…

janamdin mubarak ho sir ji

At 10:04am on December 3, 2011,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…

At 8:00am on December 3, 2011,
सदस्य टीम प्रबंधन
Rana Pratap Singh
said…

आदरणीय सौरभ सर जन्मदिन की ढेर सारी बधाइयां| इश्वर से प्रार्थना है कि यह दिन हज़ारों लाखों वर्षों तक इसी प्रकार बार बार आता रहे| हार्दिक शुभकामनाएं|  

At 10:42pm on November 3, 2011, Sanjay Mishra 'Habib' said…

बहुत शुक्रिया आद गुरूजी सौरभ बड़े भईया.... सच तो यह है की कार्यालयीन व्यस्तताओं के चलते चाह कर भी बहुत समय निकाल नहीं पाता . मेरी नगण्य उपस्थिति के बावजूद यह सम्मान पाना...!! शब्दहीन हूँ... सादर आभार आपका और ओ बी ओ सम्माननीय टीम और आदरणीय गुरुजनों का... साथ ही इस विद्यार्थी पर ऐसा ही स्नेह बनाए रखने का विनम्र निवेदन....

पुनः शुक्रिया...

शुभरात्री

At 7:38pm on October 14, 2011, AVINASH S BAGDE said…

नाधिये जो कर्म पूर्व, अर्थ दे  अभूतपूर्व 
साध के संसार-स्वर, सुख-सार साधिये ॥1॥

साधिये जी मातु-पिता, साधिये पड़ोस-नाता 
जिन्दगी के आर-पार, घर-बार बाँधिये ॥2॥

बाँधिये भविष्य-भूत, वर्तमान,  पत्नि-पूत
धर्म-कर्म, सुख-दुख, भोग, अर्थ राँधिये ॥3॥

राँधिये आनन्द-प्रेम, आन-मान, वीतराग 
मन में हो संयम, यों, बालपन नाधिये  ॥4॥

bahut sunder Saurabh ji.

At 10:12pm on October 1, 2011, Rash Bihari Ravi said…

dhanyavad bhaiya 

At 9:12am on August 18, 2011, Atendra Kumar Singh "Ravi" said…

sadar pranaam ,  ham aapke bahut bahut aabhari hain ki aapne hamari rachna ko us kabil samjha aur uchit margdarshan kiya......

                           ek baar punah pranaam aur dhanyavaad............

At 11:59am on August 17, 2011, Atendra Kumar Singh "Ravi" said…

sadar pranam , aapko hamare dwara rachit jhalki"SHOUK" pasand aaee iske liye bahut bahut shukriya .....aur aapke comments ke liye bhi bahut bahut dhanyavad......

     aapke comments hamare hausala badane ke liye ek sashakt madhyam hain....aasha hai aage bhi hamari rachawon ko padkar hamen uski achhai aur khamion se bhi awagat karayenge ....

           rachana padne ke liye ek baar punah dhanyavad .....aur sadar aabhar.....

At 6:03pm on August 6, 2011, Atendra Kumar Singh "Ravi" said…

saadar praaam ,isi prakar aapka aashirvaad hamare saath bana rahe .......

At 11:12pm on August 2, 2011, Shanno Aggarwal said…

सौरभ जी, आपकी शुभकामनाओं के लिये बहुत आभारी हूँ. आपको लाखों धन्यबाद. 

At 6:44pm on July 26, 2011,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…

साथ छूटेगा कैसे मेरा आपका,

जब मेरा दिल ही घर बन गया आपका,

 

इसके बाद मित्र सूची में होने या ना होने की औपचारिकता शेष कहाँ रहती है, हा हा हा हा , पर वाकई यह आश्चर्य जनक है, हलाकि कल मुझे इसका कमी खला जब एक मेल अग्रसारित करना चाहा, फिर कुछ कार्य में उलझ गया और मित्रता निवेदन नहीं भेज सका |

आप का मैसेज बहुत हँसाया, गुस्ताखी माफ़ |

At 8:56am on July 24, 2011, Atendra Kumar Singh "Ravi" said…

रचना पसंद आई इसके लिए आपको बहुत बहुत धन्यवाद सौरभ सर जी ...........हमें सिखने कि चाहत है ,कृपया मार्गदर्शन जरुर करें ..........

At 3:41pm on July 17, 2011, Aradhana said…

Finally saw it just now. Yes, it's the same Darbhanga and it's the same Aradhana. Was introduced to your wonderful world of words by Alpana and am truly thankful to her. It's a delight to read such beautiful language in today's world where society is hell bent to ruin them by adaptations in the name of international unity.

Keep it up,

Best always,

Aradhana

At 12:37pm on July 5, 2011, Veerendra Jain said…
Aadarniya Saurabh Sir... Active Member Of The Month chune jaane per aapko hardik badhai...
At 9:44am on July 3, 2011, आशीष यादव said…
आदरणीय श्री सौरभ पाण्डेय जी, गत माहोँ मेँ आपकी कई अनमोल रचनाएँ एवँ सार्थक कमेन्ट पढ़ने को मिले। आपको महीने का सक्रिय सदस्य चुने जाने पर बधाई। हमेँ उम्मीद है कि इसी तरह आगे भी आपका आशीष सभी ओबीओ परिवार को मिलता रहेगा।
At 9:03pm on July 1, 2011, Abhinav Arun said…

आदरणीय श्री सौरभ जी माह का सक्रिय सदस्य चुने जाने पर हार्दिक बधाई !! ओ बी ओ आपसे गौरवान्वित हुआ है !!! आपकी लेखनी  और सक्रियता यूं ही बरकारार रहे यही कामना है !!

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' posted a blog post

गजल -लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"

१२२२/ १२२२/१२२२*कठिन जैसे नगर में धूप के दर्शनहमें  वैसे  तुम्हारे  रूप  के  दर्शन।१।*कभी वो नीर का…See More
3 minutes ago
pratibha pande replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"आदरणीय समर कबीर साहब को इस सम्मान/जिम्मेदारी के लिये हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ। "
59 minutes ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"बहुत शुक्रिय: जनाब सौरभ पाण्डेय साहिब ।"
2 hours ago
मनोज अहसास commented on मनोज अहसास's blog post अहसास की ग़ज़ल:मनोज अहसास
"आदरणीय मुसाफिर साहब हार्दिक आभार सादर"
2 hours ago
मनोज अहसास commented on मनोज अहसास's blog post अहसास की ग़ज़ल:मनोज अहसास
"आदरणीय समर कबीर साहब सादर प्रणाम कृपा दृष्टि बनाये रखें बहुत बहुत आभार सादर"
2 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"कहते हैं न, धीरे-धीरे रे मना, धीरे सबकुछ होय..  एक समय से इस निर्णय की प्रतीक्षा थी. देर आयद,…"
10 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-92 (विषय: रोटी)
"वाह। एक बहुत ही उम्दा सृजन विषयांतर्गत। निश्चित रूप से यह एक संस्मरणात्मक शैली की बढ़िया लघुकथा हो…"
13 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-92 (विषय: रोटी)
"आदाब। आपकी धारदार रोचक शैली और शिल्प में बढ़िया रचना। हार्दिक बधाई जनाब मनन कुमार सिंह जी। आप जैसे…"
14 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-92 (विषय: रोटी)
"सादर नमस्कार। मेरी जानकारी अनुसार गद्य में 'संस्मरण' सर्वथा एक भिन्न महत्वपूर्ण विधा है…"
14 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-92 (विषय: रोटी)
"आदाब। हार्दिक स्वागत। पंक्ति इंगित करते हुए कम शब्दों में सारगर्भित समीक्षात्मक टिप्पणी, राय और…"
14 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-92 (विषय: रोटी)
"आ. भाई नाथ सोनांचली जी, अभिवादन। अच्छी लघुकथा हुई है। हार्दिक बधाई।"
15 hours ago
pratibha pande replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-92 (विषय: रोटी)
"आपको रचना पर देखना सुखद है।हार्दिक आभार आदरणीया प्राची जी"
16 hours ago

© 2022   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service