For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

KALPANA BHATT ('रौनक़')'s Discussions (1,522)

Discussions Replied To (12) Replies Latest Activity

"स्वागत"

KALPANA BHATT ('रौनक़') replied Aug 29, 2017 to राधा प्रियस्वामिनि

5 Aug 29, 2017
Reply by KALPANA BHATT ('रौनक़')

"सुंदर सृजन |"

KALPANA BHATT ('रौनक़') replied Aug 28, 2017 to छप्पय छंद

1 Aug 28, 2017
Reply by KALPANA BHATT ('रौनक़')

"सुंदर भावना | "

KALPANA BHATT ('रौनक़') replied Aug 28, 2017 to भुजंगप्रयात छन्द

1 Aug 28, 2017
Reply by KALPANA BHATT ('रौनक़')

"सुंदर रचना |"

KALPANA BHATT ('रौनक़') replied Aug 28, 2017 to श्रीवृन्दावनधाम अपार, जपे जा राधेराधे

1 Aug 28, 2017
Reply by KALPANA BHATT ('रौनक़')

"सुंदर भावपूर्ण भजन |"

KALPANA BHATT ('रौनक़') replied Aug 28, 2017 to भजन

1 Aug 28, 2017
Reply by KALPANA BHATT ('रौनक़')

"मनमोहक स्तुति | "

KALPANA BHATT ('रौनक़') replied Aug 28, 2017 to श्रीकृष्ण-स्तुति-गीत(आधार छंद-चौपाई)

1 Aug 28, 2017
Reply by KALPANA BHATT ('रौनक़')

"बहुत सुंदर | "

KALPANA BHATT ('रौनक़') replied Aug 28, 2017 to तुम्ही हो खेवइयाँ सबकी

1 Aug 28, 2017
Reply by KALPANA BHATT ('रौनक़')

"सुंदर रचना | हार्दिक बधाई आदरणीय "

KALPANA BHATT ('रौनक़') replied Aug 28, 2017 to राधा प्रियस्वामिनि

5 Aug 29, 2017
Reply by KALPANA BHATT ('रौनक़')

"वाह बहुत सुंदर निर्मल भाव | हार्दिक बधाई आदरणीय |"

KALPANA BHATT ('रौनक़') replied Aug 28, 2017 to मेरो किशन कन्हाई काहे मोहे तड़पायो

2 Aug 30, 2017
Reply by Mohit mishra (mukt)

"बहुत सुंदर सृजन | साधुवाद आदरणीय "

KALPANA BHATT ('रौनक़') replied Aug 28, 2017 to शक्ति के रूप

2 Sep 6, 2017
Reply by VINOD GUPTA

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-108
"क्या हो क़ासिद से गिला किसलिए कमतर निकला बेवफा तो ये मेरा अपना ही दिलबर निकला झील से देते थे उपमा…"
6 hours ago
मोहन बेगोवाल replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-108
"आदरनीय सुरिंदर जी,अच्छी ग़ज़ल के साथ आगाज़ के लिए बधाई सवीकार करें।"
6 hours ago
Asif zaidi replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-108
"बहुत अच्छी कोशिश आदरणीय सुरेन्द्र इन्सान जी बहुत बहुत बधाई स्वीकार करें सादर।"
6 hours ago
Asif zaidi replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-108
"*ग़ज़ल* न तो गौहर, न वो जौहर, न सुख़न्वर निकला। सब ने जिसको कहा बरतर वही कमतर…"
6 hours ago
Asif zaidi replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-108
"*ग़ज़ल* न तो गौहर, न वो जौहर, न सुख़न्वर निकला। सब ने जिसको कहा बरतर वही कमतर…"
6 hours ago
Asif zaidi replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-108
"*ग़ज़ल* न तो गौहर, न वो जौहर, न सुख़न्वर निकला। सब ने जिसको कहा बरतर वही कमतर…"
6 hours ago
surender insan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-108
"सादर नमन आदरणीय समर कबीर जी। बहुत बहुत शुक्रिया।"
6 hours ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-108
"आप का स्वागत है ।"
6 hours ago
surender insan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-108
"2122 1122 1122 22 मेरा जीवन तो बवंडर सा भयंकर निकला । क्यों कहूँ मैं कि मेरा खूब मुक़द्दर निकला ।।…"
6 hours ago
Naveen Mani Tripathi posted blog posts
yesterday
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' posted a blog post

हाय क्या हयात में दिखाए रंग प्यार भी (४९)

हाय क्या हयात में दिखाए रंग प्यार भी इस चमन में साथ साथ फूल भी हैं ख़ार भी **देखते बदलते रंग मौसमों…See More
yesterday
vijay nikore commented on vijay nikore's blog post बूँद-बूँद गलती मानवता
"आपका हार्दिक आभार, मित्र नरेन्द्रसिंह जी"
yesterday

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service