For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

जीने से पहले ......

जीने से पहले ......

मिट गई
मेरी मोहब्बत
ख़्वाहिशों के पैरहन में ही
जीने से पहले

जाने क्या सूझी
इस दिल को
संग से मोहब्बत करने का
वो अज़ीम गुनाह कर बैठा
अपने ख़्वाबों को
अपने हाथों
खुद ही तबाह कर बैठा
टूट गए ज़िंदगी के जाम
स्याह रातों में
ज़िंदगी
जीने से पहले

डूबता ही गया
हसीन फ़रेबों के ज़लज़ले में
ये दिल का सफ़ीना
भूल गया
मौजों की तासीर
साहिल कब बनते हैं
सफ़ीनों की तकदीर
दफ़्न हो जाती हैं
ज़िंदा साँसें
ख़्वाहिशों की लहद में
मोहब्बत
जीने से पहले

सुशील सरना
मौलिक एवं अप्रकाशित

Views: 104

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Sushil Sarna on November 20, 2020 at 8:15pm

 आदरणीय बृजेश कुमार 'ब्रज' जी, सृजन के भावों को आत्मीय मान से अलंकृत करने के लिए आपका तहे दिल से शुक्रिया ।

Comment by बृजेश कुमार 'ब्रज' on November 17, 2020 at 8:03pm

वाह आदरणीय बहुत भावपूर्ण रचना...

Comment by Sushil Sarna on November 11, 2020 at 8:37pm

"आदरणीय    narendrasinh chauhan जी, सृजन आपकी मनोहारी प्रशंसा का आभारी है

Comment by narendrasinh chauhan on November 9, 2020 at 12:14pm

khub sundar rachna sir 

Comment by Sushil Sarna on November 6, 2020 at 9:05pm

आदरणीय   लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' जी, सृजन आपकी मनोहारी प्रशंसा का आभारी है।

Comment by Sushil Sarna on November 6, 2020 at 9:04pm

आदरणीय  Samar kabeer जी, सृजन आपकी मनोहारी प्रशंसा का आभारी है।

Comment by लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' on November 5, 2020 at 1:42pm

आ. भाई सुशील जी ,सादर अभिवादन। अच्छी रचना हुई है। हार्दिक बधाई स्वीकार करें।

Comment by Samar kabeer on November 4, 2020 at 6:50pm

जनाब सुशील सरना जी आदाब, अच्छी रचना हुई है, बधाई स्वीकार करें ।

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-127
"आदरणीय संजय शुक्ला जी नमस्कार बहुत उम्द: ग़ज़ल हुई है हार्दिक बधाई  स्वीकार करें सरकारी व्यवस्था…"
7 hours ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-127
"आदरणीय तस्दीक़ अहमद ख़ान साहब आदाब बहुत उम्द: ग़ज़ल हुई है हार्दिक बधाई स्वीकार करें  सारे शैर…"
7 hours ago
Rachna Bhatia replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-127
"आदरणीय सर् सादर नमस्कार। सर् सब आपकी मेहनत का ही परिणाम है जो कुछ कह पाई। हौसला बढ़ाने के लिए आपकी…"
7 hours ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-127
"आदरणीय नवीन मणी त्रिपाठी जी प्रणाम बहुत उम्द: ग़ज़ल हुई है हार्दिक बधाई स्वीकार करें  सभी शैर एक…"
7 hours ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-127
"आदरणीय भाई लक्ष्मण धामी 'मुसाफ़िर' जी नमस्कार बहुत अच्छी ग़ज़ल हुई है  हार्दिक बधाई…"
7 hours ago
Admin posted a discussion

"ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-70

आदरणीय साथियो,सादर नमन।."ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-70 में आप सभी का हार्दिक स्वागत है. प्रस्तुत…See More
7 hours ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-127
"आदरणीय सालिक गणवीर जी बहुत अच्छी ग़ज़ल हुई  हार्दिक बधाई स्वीकार करें मक़्ता ख़ास तौर पर बहुत पसंद…"
7 hours ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-127
"आदरणीय aazi tamaam जी नमस्कार ग़ज़ल का अच्छा प्रयास हुआ है हार्दिक बधाई स्वीकार करें "
7 hours ago
Sanjay Shukla replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-127
"जी बहुत शुक्रिया"
8 hours ago
Sanjay Shukla replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-127
"जी तस्दीक़ का बहुत शुक्रिया"
8 hours ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-127
"मुहतरमा रचना भाटिया जी आदाब, तरही मिसरे पर क्या शानदार ग़ज़ल कही है आपने,मज़ा आ गया, शैर दर शैर दाद के…"
8 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
rajesh kumari replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-127
"कोई अपना न हो तन्हाई ही तन्हाई हो,कैसे जीये कोई जब जान पे बन आई हो। ऐसे हँस कर गले मिलते हैं मेरे…"
9 hours ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service