For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

सरहद पर जाते वक्त

सरहद पर जाते वक्त 

वो  जो नज़र झुका कर कहा तुमने 
प्रिया! लौट कर न आ पाऊं  शायद
फिर से तेरी बांहों में 
जम्भूमि के कर्ज  चुकाने हैं 
नहीं निभा पाउँगा तुम्हारे प्रति अपना फर्ज 
हो सके तो माफ़ कर देना मुझे 
सच कंहूँ तो  तेरी इस शपथ  से  
डबडबाये   जरुर थे मेरे नयन  
पर यकीं कर  साथी 
मेरा माथा गर्व से तन गया था उस वक्त 
कितनी खुश नसीब होती हैं 
वो पत्नियाँ  ,वो प्रेमिकाएं 
जिनके पति ,प्रेमी 
देश-प्रेम में मिट जाते हैं 
 
--आशा  पाण्डेय ओझा 

Views: 321

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by asha pandey ojha on March 9, 2013 at 10:06pm

Priya Vedika kotish dhnywaad aapko

Comment by asha pandey ojha on March 9, 2013 at 10:06pm

Aadrniy कमलकिशोर भागिरथजी अग्रवाल sir hardik aabhar aapka aapki amulya prtikriya ke liye

Comment by वेदिका on March 6, 2013 at 11:48pm

बहुत सजल रचना है, वीरता और वियोग के सम्मिश्रण से ओतप्रोत ...

जम्भूमि के कर्ज  चुकाने हैं 
नहीं निभा पाउँगा तुम्हारे प्रति अपना फर्ज


शुभकामना आदरणीया आशा जी !
सादर वेदिका

Comment by कमलकिशोर भागिरथजी अग्रवाल on March 6, 2013 at 11:12pm

आशाजी नमस्कार! आपकी रचना पढने को मीली ! कीतने सहज भावसे आपने एक सैनिक का प्रेम तथा देशप्रेम दोनो को दर्षाया! यह क़ाबिले तारीफ है ! 

Comment by asha pandey ojha on March 6, 2013 at 5:44pm

Aadrniy  Laxman Prasad Ladiwala ji aapka kotish dhnywaad ukt rachna par aapki bahumulya prtikriya ke liye .. punh saadr aabhar

Comment by asha pandey ojha on March 6, 2013 at 5:43pm

Aadrniya Vijay Nikor ji sir saadr dhnywaad aapka is Rachna ko padh kar apni beshkimtee prtikriya zahir kar mera housla badhane hetu . aabhar

Comment by लक्ष्मण रामानुज लडीवाला on March 6, 2013 at 2:59pm

सैनिक जो राष्ट्र की रक्षा में अपना सर्वस्व अर्पित कर देते है, उनकी गृहणिया का त्याग भी किसीतरह कम नहीं है | 

एक और सुंदर रचना के लिए हार्दिक बधाई 

Comment by vijay nikore on March 6, 2013 at 2:22pm

आदरणीया आशा जी:

 

मेरा सौभाग्य है कि आज अचानक आपके बलाग पर मुझको

आपकी २०१२ की यह इतनी अच्छी कविता पढ़ने को मिली।

गर्व है सैनिकों पर, उनके परिवार पर, और आपकी इस कविता पर!

 

सादर,

विजय निकोर

Comment by asha pandey ojha on February 20, 2012 at 7:09pm

@ Neerajji @ Arun Kumar Pandey 'Abhinav' bhiya @Saurabh Pandey ji sir @ Ganesh Jee "Bagi bhiya @AVINASH S BAGDE  ji sir @rajesh kumariji aap sabhi ka hardik dhnywaad meree is rachna par apni bahumulya prtikriya vykt karne ke liye 

Comment by Abhinav Arun on February 17, 2012 at 7:56pm
Hriday ke udgaar Jis sashakt kavy roop me apne ukere hain wah bhaav anupam hai Asha di.ek jevant Zindabaad aur hausle ki rachna.Salaam apko apki lekhni ko.

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Anil Kumar Singh replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-125
"2122 1122 1122 112/22 1- आपने अपनी इनायात की बारिश नहीं की ये न कह देना कि महरूम ने कोशिश नहीं…"
6 minutes ago
सालिक गणवीर replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-125
"2122 1122 1122 22/112 तिश्नगी में भी मियाँ पानी की ख़्वाहिश नहीं कीमर गए प्यासे मगर उनसे गुज़ारिश…"
6 minutes ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-125
"वो भी अनजान रहा दर्द की पुर्सिश नहीं कीअपने हालात की मैंने भी नुमाइश नहीं की रूखी सूखी में ही ख़ुश…"
17 minutes ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-125
"2122 - 1122 - 1122 - 112    ज़ुल्म सहते रहे ज़ालिम से गुज़ारिश नहीं की  और उसने भी…"
5 hours ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-125
"सादगी से रहे यारो कोई साज़िश नहीं की हमने दुनिया में किसी शख़्स से रंज़िश नहीं की उसका पाना तो हमारे…"
5 hours ago
Chetan Prakash replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-125
"तरही ग़ज़ल ः 2122 1122 1122 22 ( 112 ) ज़ब्र -ओ्- ज़ुल्म की दुनिया में रिहाइश नही की गर सहारा वो…"
5 hours ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-125
"प्रणाम आदरणीय"
5 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-125
"स्वागतम"
5 hours ago
TEJ VEER SINGH commented on TEJ VEER SINGH's blog post मुझे भी पढ़ना है - लघुकथा –
"हार्दिक आभार आदरणीय समर कबीर साहब जी।आदाब।"
19 hours ago
Chetan Prakash posted a blog post

ग़ज़ल

212 212 212 2राज़ आशिक़ के पलने लगे हैं फूल लुक-छिप के छलने लगे हैउनके आने से जलने लगे हैं…See More
21 hours ago
सचिन कुमार posted a blog post

ग़ज़ल

2122 2122 2122बहते दरिया की रवानी लिख रहे हैंसब यहाँ अपनी कहानी लिख रहे हैंआंसुओं से बह रहा मेरे…See More
22 hours ago
Ram Ashery commented on Ram Ashery's blog post जिंदगी का सफर
"मेरे उत्साह वर्धन के लिए आपको सहृदय आभार स्वीकार हो । "
yesterday

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service